Friday, Aug 7 2020 | Time 15:13 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • प्रेरक है टैगोर का लेखन, कवितायें और विचार:हर्षवर्धन
  • नागार्जुन सागर आयकट किसानों को पानी देने के निर्देश
  • कर्नाटक वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष डॉ युसूफ का निधन
  • नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान ने किया संघर्ष विराम का उल्लंघन, तीन नागरिक घायल
  • सामाजिक अंतर को पाटने का सेतु बनें लोकसेवक:नायडू
  • दिल्ली में ई-वाहन नीति की घोषणा, इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने पर मिलेगी छूट
  • श्रीलंका में महिन्द्रा राजपक्षे नीत एसएलपीपी की आम चुनाव में जबरदस्त जीत
  • देश में कोरोना रिकवरी दर 68 प्रतिशत के करीब
  • दरभंगा में किशोर की गला रेतकर हत्या
  • भारत आने वाले यात्री शनिवार से ‘एयर सुविधा’ पोर्टल पर कर सकेंगे स्वघोषणा
  • देश में कोरोना मृत्यु दर 2 05 प्रतिशत
  • युवक ने फेसबुक पर आत्महत्या को लाइव दिखाया
  • अब राज्यसभा में भी सिमटती जा रही सपा
  • देशभर में कोरोना के 6 39 लाख से अधिक नमूनों की जांच
  • देश भर में 1,383 कोरोना जांच प्रयोगशालाएं
Parliament


लोकसभा में हैदराबाद कांड की निंदा, सरकार कानून बदलने को तैयार

लोकसभा में हैदराबाद कांड की निंदा, सरकार कानून बदलने को तैयार

नयी दिल्ली 02 दिसंबर (वार्ता) लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला तथा सभी दलों के सदस्यों ने तेलंगाना के शमशाबाद में एक पशु-चिकित्सक के साथ सामूहिक दुष्कर्म की घटना की सोमवार को निंदा की और सरकार ने सदन को आश्वस्त किया कि ‘जीरो टॉलरेंस’ की नीति पर काम करते हुये ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति रोकने के लिए वह कानून में सभी जरूरी बदलाव करने के लिए तैयार है।
सदस्यों द्वारा शून्यकाल के दौरान इस घटना पर चिंता जताये जाने तथा बलात्कार से संबंधित कानून को और कड़ा बनाये जाने की माँग पर सरकार की तरफ से रक्षा मंत्री रिपीट रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा “इससे बड़ा कोई अमानवीय कृत्य नहीं हो सकता। इससे सभी आहत हुये हैं। सभी सदस्यों की अपेक्षा है कि इस तरह के मामलों में अपराधियों को कठोर से कठोर दंड मिले। इसके लिए कानून में जो भी बदलाव करना होगा, करने के लिए सरकार तैयार है।”
उन्होंने कहा कि निर्भया कांड के बाद कानूनों में बदलाव किया गया था तथा फाँसी की सजा का प्रावधान किया गया था। इसके बाद सबने यह मान लिया था कि इस तरह की घटनाओं में कमी आयेगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। उन्होंने इस विषय पर चर्चा कराने या न कराने का फैसला अध्यक्ष पर छोड़ते हुये कहा कि सरकार सभी सदस्यों के सुझाव सुनकर कर कानूनों में सभी तरह के जरूरी प्रावधान करने के लिए तैयार है।
श्री बिरला ने भी पूरे सदन की तरफ से घटना पर दु:ख व्यक्त करते हुये कहा कि ऐसी घटना, इस तरह के अपराध सभी सदस्यों को चिंतित और आहत करते हैं। सदन चिंतित है कि इस तरह की घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो।
गृह राज्य मंत्री जी. किशन रेड्डी ने भी कानून में हर जरूरी बदलाव के प्रति सदन को आश्वस्त करते हुये कहा कि सरकार ऐसे मामलों में ‘जीरो टॉलरेंस’ की नीति पर काम करेगी। संबद्ध कानूनों में बदलाव का मसौदा तैयार है। पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो को इसकी जिम्मेदारी दी गयी है। राज्यों को पत्र लिखकर इस मसौदे पर उनसे सुझाव माँगे गये हैं और इसे जल्द से जल्द संसद में पेश किया जायेगा। उन्होंने कहा कि सरकार ने ऐसी घटनाओं पर लगाम लगाने के लिए पूरे देश में एकल हेल्पलाइन नंबर “112” जारी किया है।
अजीत सत्या
जारी वार्ता

image