Sunday, Feb 17 2019 | Time 16:08 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कैट का 18 फरवरी को देशव्यापी व्यापार बंद का आह्वान
  • पुलवामा पर सीआरपीएफ ने किया आगाह
  • शिअद हरियाणा में लोकसभा, विधानसभा चुनाव लड़ेगा : बादल
  • आदित्य ने चौथी बार जीता पीएसए चैलेंजर स्क्वैश टूर्नामेंट
  • आर्कोट के राजकुमार ने की पुलवामा हमले की निंदा
  • झांसी:नहर में गिरे तीन युवक , एक लापता
  • सेल जाएंट्स ने जीता डायमंड जुबली क्रिकेट कप
  • खाद्य तेलों,दालों में घटबढ़;गेहूं,चावल, गुड़,चीनी में टिकाव
  • पुलवामा में शहीद नसीर के परिजनों को मिलेगा 20 लाख
  • पुलवामा की फर्जी तस्वीरों पर सीआरपीएफ ने किया आगाह
  • हरियाणा की राष्ट्रपति भवन को मुर्रा भैंस और साहीवाल गाय देने की पेशकश
  • कृषि के क्षेत्र में देश का नेतृत्व करे हरियाणा:कोविंद
  • ‘वंदे भारत एक्सप्रेस’ पहली वाणिज्यिक यात्रा पर वाराणसी के लिए रवाना
  • सीसीआई ने इमरान की तस्वीर ढकी
  • दो पटरियों पर चल रही राजग सरकार की विकास यात्रा : मोदी
खेल Share

मुझे निजी कोच की जरूरत: विनेश फोगाट

मुझे निजी कोच की जरूरत: विनेश फोगाट

नयी दिल्ली,13 अगस्त (वार्ता) राष्ट्रमंडल खेलों में लगातार दो स्वर्ण जीत चुकी और पिछले एशियाई खेलों की कांस्य पदक विजेता पहलवान विनेश फोगाट का मानना है कि यदि उन्हें निजी कोच मिल जाए तो वह अपने खेल में और सुधार कर सकती हैं और ओलंपिक पदक भी जीत सकती हैं।

इंडोनेशिया में 18 अगस्त से शुरू होने जा रहे 18वें एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक की प्रबल दावेदार 50 किग्रा वर्ग की पहलवान विनेश ने कहा,“ हम लगातार ट्रेनिंग कर रहे हैं लेकिन फिर भी छोटी छोटी कमियां रह जाती हैं, जिन्हें दूर करने की जरूरत है। हम अपने मुख्य कोच से यह उम्मीद नहीं कर सकते कि वह किसी खिलाड़ी विशेष पर ध्यान दें।”

विनेश ने कहा,“ मुख्य कोच अच्छे हैं और सभी पहलवानों पर ध्यान देते हैं लेकिन वह किसी खिलाड़ी पर विशेष ध्यान नहीं दे सकते। यदि मुझे कोई निजी कोच मिले जो 24 घंटे मुझपर नज़र रख सके, मेरी गलतियों को पकड़ सकें, तो जो कमियां दूर करने में साल लगता है वह मैं एक महीने में दूर कर सकती हूं। इससे न केवल मेरे खेल में सुधार आयेगा बल्कि मैं ओलंपिक पदक भी जीत सकती हूं।”

इस साल गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों में 50 किग्रा वर्ग में स्वर्ण पदक जीतने वाली विनेश ने कहा,“ यदि ओलंपिक पदक जीतना है तो आपको बदलना होगा, खिलाड़ियों को पूरी सुविधाएं देनी होंगी ताकि वे अच्छी ट्रेनिंग कर सकें और चोटों से दूर रहें। हम जहां लखनऊ सेंटर में अभ्यास करते हैं वहां सुविधाएं पर्याप्त नहीं हैं कभी लाइट नहीं रहती , उमस रहती है जिसके चलते हमें कुछ ट्रेनिंग भी छोड़नी पड़ती हैं वरना हम चोटिल हो सकते हैं।”

विनेश ने साथ ही कहा,“ यदि पहलवान को लंबा चलना है तो उसे चोटों से दूर रहना होगा इसलिये मेरा पूरा ध्यान इस बात पर रहता है कि मैं चोटों से दूर रहूं।” उल्लेखनीय है कि विनेश 2016 के रियो ओलंपिक के क्वार्टरफाइनल में पहुंची थीं और घुटने की चोट के कारण चीन की सुन यनान से हार गयी थीं।

 

image