Monday, May 25 2020 | Time 12:21 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कामकाज के घंटे बढ़ाने के फैसले को वापस लेने का स्वागत किया मजदूरों ने
  • रिजिजू ने बलबीर को दी श्रद्धांजलि
  • हिमाचल में कोरोना से एक और मौत, संख्या हुई चार
  • किसानों को मुफ्त बिजली की सुविधा हो सकती है समाप्त
  • मानसिक रुप से परेशान एक व्यक्ति ने की आत्महत्या की
  • अक्षय कुमार ने बलबीर के निधन पर जताया शोक
  • अक्षय कुमार ने बलबीर के निधन पर जताया शोक
  • कुलगाम में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में दो आतंकवादी ढेर
  • विराट और शास्त्री ने बलबीर को दी श्रद्धांजलि
  • पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर ने बलबीर के निधन पर शोक जताया
  • पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर ने बलबीर के निधन पर शोक जताया
  • बूंदी जिला कोराना से अछूता
  • बंगाल में सड़क दुर्घटना में चार लोगों की मौत
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


मैं जिंदगी का साथ निभाता चला गया..

मैं जिंदगी का साथ निभाता चला गया..

(पुण्यतिथि 6 जनवरी के अवसर पर )
मुंबई 05 जनवरी (वार्ता)...मैं जिंदगी का साथ निभाता चला गया..
हर फ्रिक को धुंए में उड़ाता चला गया ..
अपने संगीतबद्ध गीतों से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध करने वाले महान
संगीतकार जयदेव का अपनी जिंदगी के प्रति नजरिया कुछ ऐसा ही था।

लुधियाना में 3 अगस्त 1919 को जन्मे जयदेव का रूझान बचपन से ही फिल्मों की ओर था।
वह अभिनेता के रूप मे अपनी पहचान बनाना चाहते थे।
अपने सपने को पूरा करने के लिये वह 15 वर्ष की उम्र में ही घर से भागकर फिल्म नगरी मुंबई आये जहां उन्हें बतौर बाल कलाकार “वाडिया फिल्मस” निर्मित आठ फिल्मों में अभिनय करने का मौका मिला।
इस बीच जयदेव ने कृष्णाराव और जर्नादन राव से संगीत की शिक्षा भी ली।

कुछ वर्षों के पश्चात जयदेव अपने पिता की बीमारी के कारण मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को छोड़ वापस अपने घर लुधियाना आ गये।
पिता की अकस्मात मृत्यु के बाद परिवार और बहन की देखभाल की सारी जिम्मेदारी उनके ऊपर आ गयी।
अपनी बहन की शादी के बाद वर्ष 1943 में वह लखनऊ चले गये और वहां उन्होंने उस्ताद अली अकबर खान से संगीत की शिक्षा हासिल की।

बचपन से ही मजबूत इरादे वाले जयदेव अपने सपनों को साकार करने के लिये एक नये जोश के साथ फिर मुंबई पहुंचे।
वर्ष 1951 में जयदेव को नवकेतन के बैनर तले निर्मित बनी फिल्म “आंधिया” में सहायक संगीतकार काम करने का मौका मिला।
इसके बाद उन्होंने महान संगीतकार एस. डी. बर्मन के सहायक के रूप में भी काम किया।
इस बीच उनका अपना संघर्ष जारी रखा।
शायद नियति को यह मंजूर था कि जयदेव संगीतकार ही बने इसलिये चेतन आंनद ने उन्हें अपनी ही फिल्म “जोरू का भाई” में संगीतकार के रूप मे काम करने का मौका दिया।
इस फिल्म के जरिये पहचान बनाने में वह भले ही सफल नहीं हो पाये लेकिन एक संगीतकार के रूप में उन्होनें अपने सिने करियर का सफर शुरू कर दिया।

     इसके बाद चेतन आंनद की ही निर्मित फिल्म “अंजली” की कामयाबी के बाद जयदेव बतौर संगीतकार फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो गये।
अपने वजूद को तलाशते उनको लगभग दस वर्षों तक सिने जगत में संघर्ष करना पड़ा।
वर्ष 1961 में प्रदर्शित नवकेतन के बैनर तले निर्मित फिल्म “हम दोनों” की कामयाबी के बाद जयेदव बतौर संगीतकार सफलता के शिखर पर जा पहुंचे।
यूं तो फिल्म “हम दोनों” में उनके संगीत से सजे सारे गाने हिट साबित हुये लेकिन फिल्म का यह गीत “अल्लाह तेरो नाम” श्रोताओं के बीच आज भी लोकप्रिय है ।

वर्ष 1963 में सुनील दत्त के बैनर अजंता आर्टस निर्मित फिल्म “मुझे जीने दो” उनके सिने करियर की एक और अहम फिल्म साबित हुई।
इस फिल्म में जयदेव ने फिल्म “हम दोनों” के बाद एक बार फिर से गीतकार साहिर लुधियानवी के साथ मिलकर काम किया और “रात भी है कुछ भीगी भीगी” और “तेरे बचपन को जवानी जीने की दुआये देती हूँ” जैसे सुपरहिट गीत की रचना कर श्रोताओं को मंत्रमुग्ध किया।

श्रोताओं को हमेशा कुछ नया देने के उद्देश्य से वह अपनी फिल्मों के संगीतबद्ध गीतों में प्रयोग किया करते थे और ऐसा ही प्रयोग उन्होंने वर्ष 1963 में प्रदर्शित फिल्म “किनारे किनारे” में भी किया।
फिल्म “किनारे किनारे” के माध्यम से उन्होंने अभिनेता देवानंद पर फिल्माये गानों के पार्श्वगायन के लिये तलत महमूद, मोहम्मद, रफी, मन्ना डे और मुकेश
की आवाज का इस्तेमाल किया।

सत्तर के दशक में जयदेव की फिल्में व्यावसायिक तौर पर सफल नहीं रही।
इसके बाद निर्माता, निर्देशकों ने जयदेव की ओर से अपना मुख मोड़ लिया लेकिन वर्ष 1977 मे प्रदर्शित फिल्म “घरौंदा” और वर्ष 1979 में प्रदर्शित फिल्म ‘गमन’ में उनके संगीतबद्ध गीत की कामयाबी के बाद जयदेव एक बार फिर से अपनी खोयी हुई लोकप्रियता पाने में सफल रहे।
जयदेव को मिले सम्मानों पर यदि नजर डालें तो उन्हें उनके संगीतबद्ध गीतों के लिये तीन बार राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
फिल्मी गीतों के अलावा जयदेव ने गैर फिल्मी गीतो को भी संगीतबद्ध किया।
इनमें प्रख्यात कवि हरिवंश राय बच्चन की मधुशाला के गीत भी शामिल हैं।
अपने संगीतबद्ध गीतों से श्रोताओं के दिलों में खास पहचान बनाने वाले महान संगीतकार जयदेव 06 जनवरी 1987 को इस दुनिया को अलविदा कह गये ।

वार्ता

किरण

किरण कुमार निकले कोरोना पॉजिटिव

मुंबइ 24 मई (वार्ता) बॉलीवुड के जाने माने चरित्र अभिनेता किरण कुमार कोरोना वायरस की चपेट में आ गए हैं।

सलमान

सलमान ने मिथुन के बेटे की फिल्म 'बैड बॉय' का पोस्टर किया शेयर

मुंबई, 24 मई (वार्ता) बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान ने मिथुन चक्रवर्ती के बेटे नमाशी चक्रवर्ती की फिल्म 'बैड बॉय' के पोस्टर पर शेयर करते हुए शुभकामनायें दी है।

माधुरी

माधुरी ने कोरोना वारियर्स के सम्मान में 'कैंडल' गाना रिलीज किया

मुंबई, 24 मई (वार्ता) बॉलीवुड की धक-धक गर्ल माधुरी दीक्षित ने कोरोना वारियर्स के सम्मान में 'कैंडल' गाना रिलीज किया है।

सीरत

सीरत कपूर ने फिटनेस मंत्र शेयर किया

मुंबई, 24 मई (वार्ता) टॉलीवुड अभिनेत्री सीरत कपूर ने प्रशंसकों के बीच फिटनेस मंत्र शेयर किया है।

राजकुमार

राजकुमार राव ने श्रमिकों की मदद करने के लिये सोनू सूद की प्रशंसा की

मुंबई, 24 मई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता राजकुमार राव ने प्रवासी श्रमिकों के लिए बसों की व्यवस्था के लिए सोनू सूद की प्रशंसा की है।

श्रमिकों

श्रमिकों के लिये मसीहा बनकर उभरें है सोनू सूद

मुंबई, 24 मई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद लॉक डाउन में फंसे श्रमिकों के लिये मसीहा बनकर उभरे हैं।

पहले

पहले रियल ऐंटी हीरो के रूप में पहचान बनायी थी सुनील दत्त ने

..पुण्यतिथि 25 मई ..
मुंबई 24 मई(वार्ता) हिन्दी सिनेमा जगत में सुनील दत्त पहले ऐसे अभिनेता थे जिन्होंने सही मायने में .एंटी हीरो की भूमिका निभायी और उसे स्थापित करने का काम किया ।

सलमान

सलमान खान की फिल्म रेडी के ‘छोटे अमर चौधरी’ मोहित बघेल का निधन

मुंबई 23 मई (वार्ता) बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान की फिल्म रेडी में अमर चौधरी का किरदार निभाने वाले मोहित बघेल का निधन हो गया।

चिकित्सक

चिकित्सक से गीतकार-शायर बनें मजरूह सुल्तानपुरी

.. पुण्यतिथि 24 मई  ..
मुंबई, 23 मई (वार्ता) बतौर चिकित्सक अपने करियर की शुरूआत करने वाले महान शायर और गीतकार मजरूह सुल्तानपुरी ने अपने रचित गीतों से दर्शकों के दिलों पर अमिट छाप छोड़ी है।

चिकित्सक

चिकित्सक से गीतकार-शायर बनें मजरूह सुल्तानपुरी

.. पुण्यतिथि 24 मई  ..
मुंबई, 23 मई (वार्ता) बतौर चिकित्सक अपने करियर की शुरूआत करने वाले महान शायर और गीतकार मजरूह सुल्तानपुरी ने अपने रचित गीतों से दर्शकों के दिलों पर अमिट छाप छोड़ी है।

image