Monday, May 27 2024 | Time 13:00 Hrs(IST)
image
बिजनेस


आईआईटी कानपुर ने 2023 में पेटेंट, डिजाइन संबंधी रिकार्ड 122 आवेदन किए

आईआईटी कानपुर ने 2023 में पेटेंट, डिजाइन संबंधी रिकार्ड 122 आवेदन किए

नयी दिल्ली, 03 जनवरी (वार्ता) भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान कानपुर (आईआईटीके) ने पिछले वर्ष नवाचार के क्षेत्र एक उल्लेखनीय प्रदर्शन करते हुए बौद्धिक संपदा अधिकार (आईपीआर) के लिए कुल 122 दावे प्रस्तुत किए।

संस्थान ने कहा कि नवाचारों के लाइसेंस की दर वर्ष के दौरान 14 प्रतिशत तक पहुंच गयी। लाइसेंसिंग दर लाभ में हिस्से का पैमाना होता है।

संस्थान की बुधवार को जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि आईपीआर हासिल करने के मामले में यह लगातार तीसरा वर्ष है जबकि उसने अपने रिकार्ड में सुधार किया है। संस्थान अब तक कुल 1039 आईपीआर अपने नाम करा चुका है।

वर्ष 2023 में दायर किए गए 122 आईपीआर में 108 भारत में पेटेंट के लिए, चार डिज़ाइन पंजीकरण, तीन कॉपीराइट और एक ट्रेडमार्क आवेदन के लिए हैं। चार अमेरिका और दो चीन के लिए भी पेटेंट किए हैं।

संस्थान ने 2023 में 15 प्रौद्योगिकियों के लाइसेंस के साथ 167 आईपीआर प्रदान किए गए। इनमें मेडटेक (चिकित्सा) और नैनो टेक्नोलॉजी जैसे विभिन्न क्षेत्रों से संबंधित के आविष्कार हैं। संस्थान द्वारा पेश किए गए नवाचारों में पोर्टेबल मेडिकल सक्शन डिवाइस और फेफड़ों के स्वास्थ्य की निरंतर निगरानी प्रणाली , सॉलिड-स्टेट सोडियम-आयन बैटरी और नेत्रहीनों और दृष्टिबाधितों के लिए एक किफायती ब्रेल शिक्षण उपकरण शामिल है।

आईआईटी कानपुर के निदेशक प्रोफेसर एस गणेश ने कहा, “अनुसंधान और प्रौद्योगिकी की सीमाओं को आगे बढ़ाने के लिए संस्थान की प्रतिबद्धता के परिणामस्वरूप आईपीआर की रिकॉर्ड-तोड़ संख्या प्राप्त हुई है और संस्थान को बौद्धिक योगदान के माध्यम से सकारात्मक बदलाव लाने में अग्रणी के रूप में स्थापित किया गया है।”

आईआईटी कानपुर के संकायाध्यक्ष (अनुसंधान) प्रोफेसर तरूण गुप्ता ने कहा, “मुख्य रूप से देश के अनुसंधान और विकास परिदृश्य को बढ़ाने के लिए संस्थान की अटूट प्रतिबद्धता और जमीनी स्तर पर प्रभावशाली आविष्कारों को वितरित करने पर ध्यान केंद्रित करने विशेष बल से संस्थान की आईपीआर फाइलिंग में यह वृद्धि हुई है।”

मनोहर, उप्रेती

वार्ता

More News
सरसों और मूंगफली तेल चढ़ा; दालें महंगी

सरसों और मूंगफली तेल चढ़ा; दालें महंगी

26 May 2024 | 11:47 AM

नयी दिल्ली 26 मई (वार्ता) विदेशी बाजारों के मिलेजुले रुख के बीच स्थानीय स्तर पर उठाव होने से बीते सप्ताह दिल्ली थोक जिंस बाजार में सरसों तेल और मूंगफली तेल के भाव चढ़ गए तथा दालें महंगी हो गईं वहीं अन्य जिंसों में टिकाव रहा।

see more..
image