Tuesday, Feb 19 2019 | Time 16:08 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पेटीएम पेमेंट्स बैंक उपभोक्ता कर सकते हैं म्युचुअल फंड्स में निवेश
  • सिख युवकों की हत्या के जिम्मेवार पुलिस अधिकारियों पर मामला दर्ज किया जाये: बलदेव सिंह
  • झाविमो को सम्मान नहीं मिला तो गठबंधन की होगी हार : बाबूलाल
  • रोजगार को प्राथमिकता देने वाले निवेश को देंगे प्रोत्साहन : कमलनाथ
  • राष्ट्र ध्वज के प्रति प्रतिज्ञा न लेने वाला छात्र गिरफ्तार
  • ए320 विमान पर सफल रहा टैक्सीबोट का परीक्षण
  • चार साल में बदली रेलवे की सूरत और सीरत : मोदी
  • कंफर्मटिकट ऐप अब गूगल प्ले स्टोर इंस्टेंट ऐप के रूप में
  • केरल टूरिज्म की नयी कैंपेन फिल्म ‘ह्यूमैन बाई नेचर’ रिलीज
  • खराब स्वास्थ्य की वजह से ईडी के समक्ष नहीं पेश हो सके वाड्रा
  • मंदसौर गोलीकांड में किसी को भी क्लीन चिट नहीं : गृह मंत्री
  • रेलयात्री ने शुरू की स्मार्ट बस सेवा
  • एससी/एसटी अत्याचार निवारण कानून मामले में 26 मार्च को सुनवाई
  • माघी पूर्णिमा पर लोगों ने लगायी आस्था की डुबकी
भारत Share

भारतीय रक्षा गलियारों में निवेश करें अमेरिकी कंपनी: सीतारमण

भारतीय रक्षा गलियारों में निवेश करें अमेरिकी कंपनी: सीतारमण

नयी दिल्ली 06 सितम्बर (वार्ता) रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने अमेरिकी कंपनियों से भारत में बनाये जा रहे दो रक्षा विनिर्माण गलियारों में निवेश करने का आह्वान किया है।

भारत और अमेरिका के रक्षा तथा विदेश मंत्रियों के बीच गुरूवार को यहां टू प्लस टू वार्ता हुई। सूत्रों के अनुसार इस बैठक में श्रीमती सीतारमण ने अपनी आरंभिक टिप्पणी में कहा कि रक्षा क्षेत्र में सहयोग दोनों देशों के संबंधों का सबसे महत्वपूर्ण आयाम है। यह हमारे बीच रणनीतिक भागीदारी को गति देने वाला है।

उन्होंने कहा कि अमेरिका ने भारत को अपना प्रमुख रक्षा साझीदार बनाया है और हाल ही में उसने भारत को एसटीए -1 का दर्जा भी दिया है जिससे दोनों देशों के बीच रक्षा उद्योग के क्षेत्र में भी सहयोग बढेगा। मोदी सरकार ने देश में रक्षा उत्पादन को बढावा देने के लिए कई बडे सुधार किये हैं तथा दो रक्षा विनिर्माण गलियारे भी बनाये जा रहे हैं।

उन्होंने कहा,“ मैं अमेरिकी कंपनियों को इनमें सक्रिय साझीदार बनने का आमंत्रण देती हूं। हमने रक्षा क्षेत्र में नवोन्वेषण में सहयोग पर जोर दिया है और हमारी रक्षा नवोन्वेषण एजेन्सियों के बीच सहमति पत्र इस दिशा में महत्वपूर्ण कदम है।

उत्तर प्रदेश में अलीगढ़ से झांसी तक तथा तमिलनाडु में चेन्नई के आसपास रक्षा विनिर्माण गलियारे बनाये जा रहे हैं जिनमें निजी क्षेत्र की कंपनियों को रक्षा उपकरण एवं अन्य सामग्रियों के विनिर्माण के लिए निवेश के लिए प्रेरित किया जा रहा है। विदेशी कंपनियों को भी आकर्षक शर्तों पर निवेश की पेशकश की गयी है। केन्द्र सरकार पहले ही रक्षा क्षेत्र में शत प्रतिशत विदेशी निवेश की अनुमति दे चुकी है।

श्रीमती सीतारमण ने कहा कि रक्षा क्षेत्र में भारत और अमेरिका के बीच सहयोग हमारी बढती भागीदारी की परिपक्वता को बताता है। यह दोनों देशों के साझा लोकतांत्रिक मूल्यों और हितों का भी साक्षी है। रक्षा बलों और सुरक्षा तंत्र के बीच निकटता तथा संपर्क बढने से भी दोनों देशों के बीच परस्पर विश्वास और भरोसा बढ रहा है। उन्होंने कहा कि भारतीय सेनाएं अभी अमेरिकी सेनाओं के साथ सबसे अधिक प्रशिक्षण और अभ्यास कार्यक्रमाें में हिस्सा ले रही हैं। इसलिए हम मिलकर रक्षा क्षमता को बढाने की दिशा में काम कर रहे हैं।

इससे पहले श्रीमती सीतारमण ने अपने अमेरिकी समकक्ष के साथ रक्षा मुद्दों पर द्विपक्षीय बैठक भी की।

संजीव सचिन

वार्ता

More News
दिग्विजय की सिद्धू को सलाह, अपने दोस्त इमरान को समझायें

दिग्विजय की सिद्धू को सलाह, अपने दोस्त इमरान को समझायें

19 Feb 2019 | 3:39 PM

नयी दिल्ली, 19 फरवरी (वार्ता) पुलवामा हमले पर विवादित बयान के बाद आलोचना झेल रहे पंजाब सरकार के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू को उनकी पार्टी कांग्रेस के ही वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने नसीहत देते हुये कहा है कि उनके दोस्त पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की वजह से उन्हें गालियां पड़ रही हैं और वह अपने मित्र को समझायें।

 Sharesee more..

आदिवासी परंपराओं, रीति-रिवाजों का सम्मान संवैधानिक दायित्व: वेंकैया

19 Feb 2019 | 3:14 PM

नयी दिल्ली, 19 फरवरी (वार्ता) उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडु ने आदिवासी समाज की परंपराओं और रीति-रिवाजों के सम्मान को संवैधानिक दायित्व बताते हुए मंगलवार को कहा कि दुनिया भर के जनजातीय समूह विविधता में एकता के उत्कृष्ट उदाहरण हैं।

 Sharesee more..

स्टार्टअप को मिलेगी आयकर में छूट

19 Feb 2019 | 2:55 PM

 Sharesee more..
अब एक ही इमरजेंसी नंबर ‘112’

अब एक ही इमरजेंसी नंबर ‘112’

19 Feb 2019 | 1:36 PM

नयी दिल्ली, 19 फरवरी (वार्ता) देश में हर इमरजेंसी के लिए आज से एक ही नंबर ‘112’ शुरू हो गया। मौजूदा पुलिस सहायता नंबर ‘100’ को इससे जोड़ दिया गया है जबकि पहले से इस्तेमाल किये जा रहे अन्य नंबरों को जोड़ने की प्रक्रिया चल रही है।

 Sharesee more..
image