Sunday, Feb 17 2019 | Time 15:52 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • शिअद हरियाणा में लोकसभा, विधानसभा चुनाव लड़ेगा : बादल
  • आदित्य ने चौथी बार जीता पीएसए चैलेंजर स्क्वैश टूर्नामेंट
  • आर्कोट के राजकुमार ने की पुलवामा हमले की निंदा
  • झांसी:नहर में गिरे तीन युवक , एक लापता
  • सेल जाएंट्स ने जीता डायमंड जुबली क्रिकेट कप
  • खाद्य तेलों,दालों में घटबढ़;गेहूं,चावल, गुड़,चीनी में टिकाव
  • पुलवामा में शहीद नसीर के परिजनों को मिलेगा 20 लाख
  • पुलवामा की फर्जी तस्वीरों पर सीआरपीएफ ने किया आगाह
  • हरियाणा की राष्ट्रपति भवन को मुर्रा भैंस और साहीवाल गाय देने की पेशकश
  • कृषि के क्षेत्र में देश का नेतृत्व करे हरियाणा:कोविंद
  • ‘वंदे भारत एक्सप्रेस’ पहली वाणिज्यिक यात्रा पर वाराणसी के लिए रवाना
  • सीसीआई ने इमरान की तस्वीर ढकी
  • दो पटरियों पर चल रही राजग सरकार की विकास यात्रा : मोदी
  • हरियाणा की राष्ट्रपति भवन को मुर्रा भैंस और साहीवाल गाय देने की पेशकश
  • हरियाणा की राष्ट्रपति भवन को मुर्रा भैंस और साहीवाल गाय देने की पेशकश
खेल Share

भारतीय कुश्ती महासंघ- टाटा मोटर्स ने किया करार

भारतीय कुश्ती महासंघ- टाटा मोटर्स ने किया करार

मुंबई,01 अगस्त (वार्ता) भारतीय कुश्ती महासंघ और टाटा मोटर्स ने भारतीय कुश्ती को आगे ले जाने तथा शीर्ष 50 पहलवानों को समर्थन देने के लिये बुधवार को तीन साल का करार किया है।

भारतीय कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह और टाटा मोटर्स वाणिज्यिक वाहन के अध्यक्ष गिरीश वाघ ने इस करार की घोषणा की। इस करार को कराने में भारत की अग्रणी स्पोर्ट्स बिजनेस कंपनी स्पोर्टी सोल्यूशंस के मुख्य कार्यकारी आशीष चड्डा की महत्वपूर्ण भूमिका रही है।

तीन साल के इस करार के तहत टाटा मोटर्स कुश्ती महासंघ का मुख्य प्रायोजक बन गया है। इस करार की शुरूआत इंडोनेशिया के जकार्ता और पालेमबंग में 18 अगस्त से होने वाले 18वें एशियाई खेलों से हो जाएगी और यह 2021 तक जारी रहेगी। इसमें विश्व चैंपियनशिप, विश्वकप, 2020 का टोक्यो ओलंपिक और राष्ट्रीय तथा अंतरराष्ट्रीय कुश्ती टूर्नामेंट शामिल रहेंगे।

दो बार के ओलंपिक पदक विजेता पहलवान सुशील कुमार और रियो ओलंपिक में कांस्य पदक जीतने वाली महिला पहलवान साक्षी मलिक ने इस करार को भारतीय कुश्ती के लिये महत्वपूर्ण बताते हुये कहा,“ कुश्ती फेडरेशन और टाटा मोटर्स ने इस खेल को आगे बढ़ाने के लिये हाथ मिलाया है और यदि पहलवान लगातार अच्छा प्रदर्शन करेंगे तथा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदक जीतेंगे तो ज्यादा से ज्यादा प्रायोजक स्वत: ही कुश्ती के पीछे आएंगे।”

 

image