Wednesday, Oct 23 2019 | Time 16:21 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • करतारपुर गलियारा समझौता पर गुरुवार को हस्ताक्षर: फैजल
  • भारत तिब्बत सीमा पुलिस में कैडर समीक्षा को मंत्रिमंडल की मंजूरी
  • सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी भारत संचार निगम लिमिटेड की स्थिति सुधारेगी सरकार
  • फाेटो कैप्शन पहला सेट
  • सरसों के न्यूनतम समर्थन मूल्य में 225 रूपये की बढोतरी
  • बस और स्कूटी भिड़ंत में शिक्षिका की मौत
  • गेंहूं के न्यूनतम समर्थन मूल्य में 85 रूपये की बढोतरी
  • कृष्ण स्वरूप गोरखपुरिया नहीं रहे
  • रेल कर्मचारियों का निजीकरण के खिलाफ प्रचन्ड प्रदर्शन
  • रोहित की टेस्ट रैंकिंग के टॉप-10 में छलांग
  • रोहित की टेस्ट रैंकिंग के टॉप-10 में छलांग
  • अभिजीत बनर्जी ने नबनीता देव सेन का पूछा हालचाल
  • सुल्तानपुर में पुल की रेलिंग तोड़कर ट्रक गोमती नदी में गिरा
  • रन फॉर यूनिटी के लिए 31 अक्टूबर को मेट्रो सुबह चार बजे से
  • नवरात्रि में वर्षा के खलल के बाद अब गुजरात के कुछ हिस्सों में दिवाली भी गीली होने का अंदेशा
भारत


केजरीवाल मुख्यमंत्री हैं या महापौर: मनोज तिवारी

केजरीवाल मुख्यमंत्री हैं या महापौर: मनोज तिवारी

नयी दिल्ली, 09 अक्टूबर (वार्ता) दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को जलवायु परिवर्तन पर डेनमार्क में होने जा रहे ‘सी 40’ में सम्मेलन की यात्रा की अनुमति नहीं मिलने पर दिल्ली भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा है कि दिल्ली की जनता जानना चाहती है कि श्री केजरीवाल मुख्यमंत्री है या फिर महापौर।

श्री तिवारी ने मुख्यमंत्री पर निशाना साधते हुए कहा, “श्री केजरीवाल ने डेनमार्क में आयोजित होने वाले सी-40 शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए स्वयं को दिल्ली का महापौर बनने का प्रयास किया। वह अभी तक दिल्ली के नगर निगम को बदनाम कर रहे थे और अब वह अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में देश को बदनाम करना चाहते है। इस यात्रा से जनता के पैसों की केवल बर्बादी होती क्योंकि वह इस सम्मेलन में अपनी पूरी टीम के साथ जाना चाहते थे।”

उन्होंने कहा, “इस सम्मेलन में 40 शहरों के महापौर को भाग लेने के लिए आमंत्रित किया गया है जिसमें पश्चिम बंगाल और बंगलादेश इत्यादि भी शामिल हैं। श्री केजरीवाल को अपनी बजाय दिल्ली के मेयर का नाम प्रस्तावित करना चाहिए था लेकिन उन्होंने निगम द्वारा किये गए अच्छे कार्यों का श्रेय लेने की कोशिश की।”

श्री तिवारी ने कहा, “ मुख्यमंत्री निगम और अन्य एजेंसियों द्वारा दिल्ली में किये गए कार्यों का श्रेय अभी तक देश में ले रहे थे लेकिन अब वह यही काम विदेशों में भी करना चाहते है। केंद्र सरकार ने उनकी यात्रा का प्रस्ताव रद्द करके उन्हें शर्मिंदा होने से बचाया है क्योंकि वह झूठ की दुकान चला रहे हैं। विदेशों में झूठ फैलाने की उनकी कोशिश बिलकुल भी उचित नहीं है।”

इसके अलावा उन्होंने मुख्यमंत्री पर दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए कोई कदम नहीं उठाने का भी आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि श्री केजरीवाल प्रदूषण नियत्रंण करने के नाम पर दिल्ली के लोगों को झूठे विज्ञापनों के जरिये बहका रहे है। उन्होंने अपनी सरकार के 56 महीनों में केवल मोदी सरकार को बेवजह बदनाम करने का काम किया है। श्री तिवारी ने कहा कि केंद्र सरकार दिल्ली में प्रदूषण को कम करने के लिए कई कदम उठा रही है और भविष्य में भी उठायेगी।

गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने श्री केजरीवाल को डेनमार्क की यात्रा की अनुमति नहीं दी है। राज्यसभा में ‘आप’ के सांसद संजय सिंह ने मंगलवार को बताया कि श्री केजरीवाल की डेनमार्क यात्रा को विदेश मंत्रालय ने अनुमति नहीं दी है। मुख्यमंत्री ने जलवायु परिवर्तन पर 100 शहरों के महापौरों के एक सम्मेलन - ‘सी 40’ में भाग लेने के लिए डेनमार्क यात्रा की अनुमति मांगी थी।

जतिन, यामिनी

वार्ता

More News
रविदास मंदिर मामले में सुप्रीम कोर्ट के आदेश का स्वागत किया भाजपा ने

रविदास मंदिर मामले में सुप्रीम कोर्ट के आदेश का स्वागत किया भाजपा ने

23 Oct 2019 | 3:54 PM

नयी दिल्ली, 23 अक्टूबर (वार्ता) भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने दक्षिणी दिल्ली के तुगलकाबाद में संत रविदास के मंदिर के पुनर्निर्माण के उच्चतम न्यायालय के आदेश का स्वागत किया है और कांग्रेस एवं आम आदमी पार्टी (आप) पर इस मामले को सांप्रदायिक तनाव फैलाने की कोशिश करने का आरोप लगाया है।

see more..
image