Monday, Jun 24 2019 | Time 18:47 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • दिमागी बुखार के मामले में बिहार और उत्तर प्रदेश को उच्चतम न्यायलय ने दिया नोटिस
  • अभिभाषण में महापुरूषों के राष्ट्र निर्माण में योगदान की अनदेखी अस्वीकार्य
  • मलिक ने राजौरी सड़क हादसे पर जताया शोक
  • अफगानिस्तान में 78 तालिबानी आतंकवादी मारे गये
  • 21 जुलाई को होगा जूनागढ़ मनपा का चुनाव
  • मेहुली 10 मी राइफल और चिंकी 25 मी पिस्टल में जीतीं
  • चिकित्सा सेवा कर्मियों की सुरक्षा के लिए पंजाब का कानून चंडीगढ़ यूटी में लागू होगा
  • जल्द ही ई-चिप वाले पासपोर्ट जारी होंगे
  • मंगोलिया में पांच लोगों की नदी में डूबने से मौत
  • राहुल गांधी को कांग्रेस अध्यक्ष बने रहना चाहिए: खूंटिया
  • स्लो ओवर रेट के लिए न्यूजीलैंड टीम पर जुर्माना
  • स्लो ओवर रेट के लिए न्यूजीलैंड टीम पर जुर्माना
  • शाहजहांपुर में युवक की हत्या,गुस्साये परिजनों ने हत्यारोपी के भाई को मार दिया
  • अफगानिस्तान में आठ तालिबानी आतंकवादी ढेर
  • सोने से बनायी गयी सूक्ष्म विश्वकप ट्रॉफी
दुनिया


आईएस ने ली अफगानिस्तान आत्मघाती हमले जिम्मेदारी

आईएस ने ली अफगानिस्तान आत्मघाती हमले जिम्मेदारी

काहिरा 05 अगस्त (रायटर) आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) ने अफगानिस्तान की शिया मस्जिद में हुए आत्मघाती बम हमले की जिम्मेदारी ली है।

आईएस के लिए काम करने वाली समाचार एजेंसी अमाक ने एक बयान जारी किया है जिसमें आईएस ने कहा है शुक्रवार को पकतिया के गारदेज शहर में शिया मस्जिद पर किये गये हमले में तकरीबन 150 लोग या तो मारे गये या घायल हो गये। बयान में यह नहीं बताया गया कि हमले को किस तरह से अंजाम दिया गया।

अफगानिस्तान के पूर्वी प्रांत पकतिया के गारदेज शहर में शिया मस्जिद में शुक्रवार को जुमे की नमाज के दौरान आत्मघाती बम विस्फोट में 39 लेागों की मौत हो गयी जबकि कम से कम 80 अन्य घायल हो गये।

पकतिया प्रांत के पुलिस प्रमुख मोहम्मद मंदोजई के अनुसार दो आतंकवादियों ने बुर्खा पहनकर ख्वाजा हसन मस्जिद के भीतर घुसे और उन्होंने मस्जिद के भीतर गोलीबारी के बाद विस्फाेट कर दिया। घटना के समय करीब 100 लोग मस्जिद में जुमे की नमाज पढ़ रहे थे।

प्रत्यक्षदर्शी के अनुसार शिया मुस्लिम समुदाय के लोग नमाज पढ़ रहे थे, तभी वहां पहुंचे एक व्यक्ति ने स्वयं को विस्फोट से उड़ा लिया। एक दूसरे हमलावर ने नमाज पढ़ रहे लोगों पर अंधाधुंध गोलीबारी की। मस्जिम में तैनात सुरक्षाकर्मी ने एक आंतकवादी को मार गिराया।

आईएस पहले भी अफगानिस्तान की शिया मस्जिदों, सुरक्षा बलों और आम नागरिकों को निशाना बनाता रहा है। अफगानिस्तान में चार दशकों से युद्ध के हालत और 17 वर्ष अमेरिकी हस्पक्षेप के बावजूद सुरक्षा की स्थिति गंभीर बनी हुई है।

दिनेश

रायटर

image