Sunday, Nov 19 2017 | Time 15:41 Hrs(IST)
image
  • जबलपुर अंडा मावा डेयरी
  • आधार के बिना भी 31 दिसम्बर तक मिलेगी राशन
  • पुष्कर में राजपूत समाज ने पद्मावती फिल्म के विरोध में रैली निकाली
  • मध्यप्रदेश की डायल 108 एम्बुलेंस सेवा के पहिये थमे
  • स्कूली छात्र से गैंगरेप के अारोपियों को पुलिस ने भेजा जेल
  • अजमेर में सूचना ब्यूरो के नए भवन का उद्घाटन
  • बिजली दरों में बढ़ोत्तरी के प्रस्ताव का विरोध करेगा उपभोक्ता परिषद
  • जयपुर में सांड के हमले से विदेशी पर्यटक की मौत
  • एम्पायर एविएशन की इकाई को मिला एनएसओपी
  • '
  • अफगानिस्तान बना अंडर-19 एशिया कप चैंपियन
  • अजमेर में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा जी की सौ वीं जयंती मनाई गई
  • फोटो कैप्शन पहला सेट
  • हार्दिक के सात साथियों को मिलेगा कांग्रेस टिकट, वसोया का नामांकन कल
  • मुजफ्फरपुर में शादी टूटने से हताश युवक ने आत्महत्या की
स्टार्टअप वर्ल्ड  Share

इसरो ने इस तरह रचा इतिहास

इसरो ने इस तरह रचा इतिहास

बेंगलुरु 21 फरवरी (वार्ता) भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने एक साथ 104 उपग्रह छोड़ने वाले पीएसएलवी-सी37 मिशन को अनूठे और नवाचारी तरीके अपनाकर सफल बनाया।
इतनी ज्यादा संख्या में उपग्रहों को प्रक्षेपण यान में रखने के लिए विशेष खाँचे तैयार किये गये तथा यह सुनिश्चित किया गया कि प्रक्षेपण के दौरान उपग्रह आपस में न/न टकरायें।
इसरो ने कल बताया कि इस मिशन में कार्टोसैट-2 श्रृंखला के मुख्य उपग्रह के साथ 103 नैनो उपग्रहों का प्रक्षेपण किया गया जिनमें 101 नैनो उपग्रह अन्य देशों के थे।
ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान पीएसएलवी-सी37 से धरती से 506 किलोमीटर की ऊँचाई पर सौर-स्थैतिक कक्षा में इन उपग्रहों को स्थापित किया गया।
यह अपने आप में इतिहास है क्योंकि अब तक किसी अन्य देश ने इतनी बड़ी संख्या में उपग्रहों का एक साथ प्रक्षेपण नहीं किया है।
इसरो के अनुसार, इतनी बड़ी संख्या में उपग्रहों को प्रक्षेपणयान में रखने और कक्षा में उन्हें स्थापित करने के लिए नवाचारी तरीके अपनाने की जरूरत थी।
प्रक्षेपणयान में उपग्रहों को रखने वाले पारंपरिक खांचों - पेलोड अडैप्टर तथा मल्टीपल सैटेलाइट अडैप्टर - के अलावा नये तरीके के छह अडैप्टर बनाये गये जिनका इस्तेमाल नैनो उपग्रहों को रखने के लिए किया गया।
इनमें से कुछ अडैप्टरों में एक से ज्यादा टीयर बनाकर उपग्रहों को रखने की सुविधा थी।
कुछ उपग्रहों को प्रक्षेपण यान के ‘वीइकल इक्वीपमेंट बे’ में भी रखा गया।
इस प्रकार कम जगह में 104 उपग्रहों को रखना संभव हो सका।
इसरो ने बताया कि इसके बाद अगली चुनौती उपग्रहों के बीच लंबे समय तक सुरक्षित दूरी बनाये रखने की थी।
इसके लिए प्रक्षेपण यान के अंतिम चरण पीएस4 की जटिल संचालन प्रक्रिया तथा विशेष रूप से तैयार किये गये प्रक्षेपण क्रम का सहारा लिया गया।
अंतरिक्ष में पीएस4 समेत 105 पिंडों को आपस में टकराने से बचाना एक बड़ी चुनौती थी।
दो पिंडों के बीच 5,460 तरीकों से टकराने की संभावना बन सकती थी।
जटिल प्रक्षेपण क्रम को अंजाम देने के लिए उन्हें प्रक्षेपण यान से अलग होने के लिए दी जाने वाली कमांड और उसके अनुरूप वायरिंग भी विशेष रूप से तैयार की गयी थी।
इसमें एक भी त्रुटि से गलत उपग्रह का प्रक्षेपण हो सकता था और उपग्रहों के आपस में टकराने का खतरा पैदा हो सकता था।
इसरो ने बताया कि उपग्रहों के प्रक्षेपण के पूरे क्रम को प्रक्षेपण यान पर लगाये गये कैमरे में रिकॉर्ड किया गया है।
इस मिशन के लिए आँध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र में विशेष तैयारी की गयी थी।
अजीत.जितेन्द्र वार्ता

'विस्तृत समाचार के लिए हमारी सेवाएं लें।'
‘स्टार्ट

‘स्टार्ट अप’ की नयी मंजिल है पूर्वोत्तर क्षेत्र

नयी दिल्ली 12 नवंबर (वार्ता) पूर्वोत्तर क्षेत्र पूरे देश के युवाओं के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के महत्वाकांक्षी कार्यक्रम ‘स्टार्ट अप’ की नयी मंजिल के रूप में तेजी से उभर कर सामने आ रहा है।

रोजगार

रोजगार सृजन की दिशा में बढ़ रही है सरकार: गंगवार

नयी दिल्ली 08 नवंबर (वार्ता) कर्मचारियों और नियोक्ताओं के लिए उपयुक्‍त वातावरण की सुविधा उपलब्‍ध कराने पर जोर देते हुए केंद्रीय श्रम एवं रोजगार मंत्री संतोष गंगवार ने आज कहा कि सरकार कौशल विकास और रोजगार सृजन के लिए सही दिशा में आगे बढ़ रही हैं।

काल्पनिक टेक्नोलॉजीज ने जुटाये पांच लाख डॉलर

नयी दिल्ली 09 नवंबर (वार्ता) धार्मिक पर्यटन क्षेत्र की स्टार्टअप कंपनी काल्पनिक टेक्नोलॉजीज ने इंटेल तथा जेननेक्स्ट वेंचर्स के पूर्व निदेशकों से पांच लाख डॉलर की पूंजी जुटायी है।

क्लियरटैक्स

क्लियरटैक्स ने शुरू किया ई केवाईसी

नयी दिल्ली 03 नवंबर (वार्ता) टैक्स ई फाइलिंग प्लेटफार्म क्लियरटैक्स ने म्युचुअल फंड में निवेश करने की चाहत रखने वालों के लिए ई केवाईसी पंजीकरण फीचर शुरू किया है।

मार्च

मार्च तक 100 शहरों में विस्तार करेगी रुबिक

नयी दिल्ली 16 अक्टूबर (वार्ता) प्रमुख फिनटैक कंपनी रुबिक ने चालू वित्त वर्ष के अंत तक देश में 100 शहरों तक कारोबार विस्तार करने की योजना बनायी है।

आईओटी

आईओटी स्टार्टअप को सफल बनाने के लिए आईएएमएआई की पेशकश

नयी दिल्ली 16 अक्टूबर (वार्ता) इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया (आईएएमएआई) ने आईओटीडॉटइन प्लेटफॉर्म लांच करने की घोषणा की है जो देश में इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी) आधारित स्टार्टअप को बढ़ावा देने के लिए इंक्युबेटर का काम करेगा।

‘स्टार्ट

‘स्टार्ट अप’ की नयी मंजिल है पूर्वोत्तर क्षेत्र

नयी दिल्ली 12 नवंबर (वार्ता) पूर्वोत्तर क्षेत्र पूरे देश के युवाओं के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के महत्वाकांक्षी कार्यक्रम ‘स्टार्ट अप’ की नयी मंजिल के रूप में तेजी से उभर कर सामने आ रहा है।

रोजगार

रोजगार सृजन की दिशा में बढ़ रही है सरकार: गंगवार

नयी दिल्ली 08 नवंबर (वार्ता) कर्मचारियों और नियोक्ताओं के लिए उपयुक्‍त वातावरण की सुविधा उपलब्‍ध कराने पर जोर देते हुए केंद्रीय श्रम एवं रोजगार मंत्री संतोष गंगवार ने आज कहा कि सरकार कौशल विकास और रोजगार सृजन के लिए सही दिशा में आगे बढ़ रही हैं।

काल्पनिक टेक्नोलॉजीज ने जुटाये पांच लाख डॉलर

नयी दिल्ली 09 नवंबर (वार्ता) धार्मिक पर्यटन क्षेत्र की स्टार्टअप कंपनी काल्पनिक टेक्नोलॉजीज ने इंटेल तथा जेननेक्स्ट वेंचर्स के पूर्व निदेशकों से पांच लाख डॉलर की पूंजी जुटायी है।

काल्पनिक टेक्नोलॉजीज ने जुटाये पांच लाख डॉलर

नयी दिल्ली 09 नवंबर (वार्ता) धार्मिक पर्यटन क्षेत्र की स्टार्टअप कंपनी काल्पनिक टेक्नोलॉजीज ने इंटेल तथा जेननेक्स्ट वेंचर्स के पूर्व निदेशकों से पांच लाख डॉलर की पूंजी जुटायी है।

रोजगार सृजन की दिशा में बढ़ रही है सरकार: गंगवार

रोजगार सृजन की दिशा में बढ़ रही है सरकार: गंगवार

नयी दिल्ली 08 नवंबर (वार्ता) कर्मचारियों और नियोक्ताओं के लिए उपयुक्‍त वातावरण की सुविधा उपलब्‍ध कराने पर जोर देते हुए केंद्रीय श्रम एवं रोजगार मंत्री संतोष गंगवार ने आज कहा कि सरकार कौशल विकास और रोजगार सृजन के लिए सही दिशा में आगे बढ़ रही हैं।

इसरो ने इस तरह रचा इतिहास

इसरो ने इस तरह रचा इतिहास

बेंगलुरु 21 फरवरी (वार्ता) भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने एक साथ 104 उपग्रह छोड़ने वाले पीएसएलवी-सी37 मिशन को अनूठे और नवाचारी तरीके अपनाकर सफल बनाया।

काल्पनिक टेक्नोलॉजीज ने जुटाये पांच लाख डॉलर

नयी दिल्ली 09 नवंबर (वार्ता) धार्मिक पर्यटन क्षेत्र की स्टार्टअप कंपनी काल्पनिक टेक्नोलॉजीज ने इंटेल तथा जेननेक्स्ट वेंचर्स के पूर्व निदेशकों से पांच लाख डॉलर की पूंजी जुटायी है।

‘स्टार्ट अप’ की नयी मंजिल है पूर्वोत्तर क्षेत्र

‘स्टार्ट अप’ की नयी मंजिल है पूर्वोत्तर क्षेत्र

नयी दिल्ली 12 नवंबर (वार्ता) पूर्वोत्तर क्षेत्र पूरे देश के युवाओं के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के महत्वाकांक्षी कार्यक्रम ‘स्टार्ट अप’ की नयी मंजिल के रूप में तेजी से उभर कर सामने आ रहा है।

image