Tuesday, Jul 25 2017 | Time 06:21 Hrs(IST)
image
  • अमेरिकी निगरानी विमान को चीनी जेट विमान ने रोका
  • इजरायल मानवाधिकारों का कर रहा उल्लंघन : तुर्की
  • पराग्वे में गोलीबारी में चार मरे 11 घायल
  • सेना के जवान ने खुद को मारी गाेली
  • लापता 39 भारतीयों की पुख्ता जानकारी नहीं: इराक
  • ‘अाप’ ने भाजपा पर शिक्षा के भगवाकरण का लगाया आरोप
स्टार्टअप वर्ल्ड  Share

इसरो ने इस तरह रचा इतिहास

इसरो ने इस तरह रचा इतिहास

बेंगलुरु 21 फरवरी (वार्ता) भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने एक साथ 104 उपग्रह छोड़ने वाले पीएसएलवी-सी37 मिशन को अनूठे और नवाचारी तरीके अपनाकर सफल बनाया।
इतनी ज्यादा संख्या में उपग्रहों को प्रक्षेपण यान में रखने के लिए विशेष खाँचे तैयार किये गये तथा यह सुनिश्चित किया गया कि प्रक्षेपण के दौरान उपग्रह आपस में न/न टकरायें।
इसरो ने कल बताया कि इस मिशन में कार्टोसैट-2 श्रृंखला के मुख्य उपग्रह के साथ 103 नैनो उपग्रहों का प्रक्षेपण किया गया जिनमें 101 नैनो उपग्रह अन्य देशों के थे।
ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान पीएसएलवी-सी37 से धरती से 506 किलोमीटर की ऊँचाई पर सौर-स्थैतिक कक्षा में इन उपग्रहों को स्थापित किया गया।
यह अपने आप में इतिहास है क्योंकि अब तक किसी अन्य देश ने इतनी बड़ी संख्या में उपग्रहों का एक साथ प्रक्षेपण नहीं किया है।
इसरो के अनुसार, इतनी बड़ी संख्या में उपग्रहों को प्रक्षेपणयान में रखने और कक्षा में उन्हें स्थापित करने के लिए नवाचारी तरीके अपनाने की जरूरत थी।
प्रक्षेपणयान में उपग्रहों को रखने वाले पारंपरिक खांचों - पेलोड अडैप्टर तथा मल्टीपल सैटेलाइट अडैप्टर - के अलावा नये तरीके के छह अडैप्टर बनाये गये जिनका इस्तेमाल नैनो उपग्रहों को रखने के लिए किया गया।
इनमें से कुछ अडैप्टरों में एक से ज्यादा टीयर बनाकर उपग्रहों को रखने की सुविधा थी।
कुछ उपग्रहों को प्रक्षेपण यान के ‘वीइकल इक्वीपमेंट बे’ में भी रखा गया।
इस प्रकार कम जगह में 104 उपग्रहों को रखना संभव हो सका।
इसरो ने बताया कि इसके बाद अगली चुनौती उपग्रहों के बीच लंबे समय तक सुरक्षित दूरी बनाये रखने की थी।
इसके लिए प्रक्षेपण यान के अंतिम चरण पीएस4 की जटिल संचालन प्रक्रिया तथा विशेष रूप से तैयार किये गये प्रक्षेपण क्रम का सहारा लिया गया।
अंतरिक्ष में पीएस4 समेत 105 पिंडों को आपस में टकराने से बचाना एक बड़ी चुनौती थी।
दो पिंडों के बीच 5,460 तरीकों से टकराने की संभावना बन सकती थी।
जटिल प्रक्षेपण क्रम को अंजाम देने के लिए उन्हें प्रक्षेपण यान से अलग होने के लिए दी जाने वाली कमांड और उसके अनुरूप वायरिंग भी विशेष रूप से तैयार की गयी थी।
इसमें एक भी त्रुटि से गलत उपग्रह का प्रक्षेपण हो सकता था और उपग्रहों के आपस में टकराने का खतरा पैदा हो सकता था।
इसरो ने बताया कि उपग्रहों के प्रक्षेपण के पूरे क्रम को प्रक्षेपण यान पर लगाये गये कैमरे में रिकॉर्ड किया गया है।
इस मिशन के लिए आँध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र में विशेष तैयारी की गयी थी।
अजीत.जितेन्द्र वार्ता

'विस्तृत समाचार के लिए हमारी सेवाएं लें।'
सांसद

सांसद स्‍टार्टअप के लिए सहकार्य स्‍थल स्‍थापित करें: सीतारमण

नयी दिल्ली 28 जून (वार्ता) केन्द्रीय वाणिज्‍य और उद्योग मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज सभी सांसदों से अपनी स्‍थानीय क्षेत्रीय विकास निधि (एमपीएलएडीएस) से अपने क्षेत्र में स्‍टार्टअप के लिए सह-कार्यस्‍थल/ इन्‍क्‍यूबेटर स्‍थापित करने की अपील की है।

कौशल

कौशल विकास के लिए मिलेगा यात्रा भत्ता

नयी दिल्ली 04 जून (वार्ता) केंद्र सरकार गरीबी उन्मूलन के महत्वपूर्ण अभियान ‘दीनदयाल अंत्योदय योजना- राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन’ के तहत कौशल विकास कार्यक्रम में भागीदारी करने वालों को यात्रा भत्ता देने पर विचार कर रही है।

नवाचारों

नवाचारों का लाभ आम जनता तक पहुंचे

जयपुर 28 मई (वार्ता) राजस्थान के उद्योग मंत्री राजपाल सिंह शेखावत ने उत्पादकों से नवाचारों को अपनाने का आह्वान करते हुए कहा कि इसका लाभ आम जनता तक पहुंचाने में वह अपना सक्रिय योगदान दें।

उत्तरप्रदेश

उत्तरप्रदेश में औद्योगिक क्षेत्रों के लिए तैयार होगा कुशल कार्यबल

नयी दिल्ली 13 मई (वार्ता) कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्री राजीव प्रताप रूडी से उत्तरप्रदेश के औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने आज यहां मुलाकात की और राज्य में कौशल विकास से संबंधित गतिविधियों पर चर्चा की।

नवाचार

नवाचार कार्यशालों से मैंने बहुत कुछ सीखा हैं: जावडेकर

नयी दिल्ली, 12 मई (वार्ता) मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावडेकर ने कहा है कि स्कूली शिक्षा में नवाचार को प्रोत्साहन देने के लिए देश के विभिन्न शहरों में कई कार्यशालाएं आयोजित की जा रही हैं और इन कार्यशालाओं से जो निष्कर्ष निकलेंगे उनका इस्तेमाल नवाचार को बढ़ावा देने पर किया जायेगा।

नवीन

नवीन ने नये स्टार्टअप पोर्टल की शुरूआत की

भुवनेश्वर. 01 मई (वार्ता) ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने आज स्टार्टअप ओडिशा पोर्टल की शुरूआत की और उन्होंने युवाओं से अपने सपनों को साकार करने के लिए इस पोर्टल का भरपूर फायदा उठाने के लिए कहा।

लखनऊ

लखनऊ में बनेगा देश का सबसे बडा स्टार्ट-अप इन्क्यूबेटर

लखनऊ 09 अप्रैल (वार्ता) उत्तर प्रदेश में लखनऊ एयरपोर्ट के निकट देश का सबसे बड़ा स्टार्ट-अप इन्क्यूबेटर स्थापित किया जायेगा।

इसरो

इसरो ने इस तरह रचा इतिहास

बेंगलुरु 21 फरवरी (वार्ता) भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने एक साथ 104 उपग्रह छोड़ने वाले पीएसएलवी-सी37 मिशन को अनूठे और नवाचारी तरीके अपनाकर सफल बनाया।

कौशल

कौशल विकास के लिए आया स्किलट्रेन ऐप

नयी दिल्ली 14 फरवरी (वार्ता) देश के दूरस्थ क्षेत्रों में युवाओं को विभिन्न क्षेत्रोें में दक्ष बनाने के उद्देश्य से आज स्किलट्रेन ऐप पेश किया गया।

स्टार्टअप

स्टार्टअप प्रक्रिया तेज एवं सरल की जाएगी:सीतारमण

नयी दिल्ली 16 जनवरी (वार्ता) केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री निर्मला सीतारमण ने अाज कहा कि युवाओं में उद्यमशीलता को बढ़ावा देने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यक्रम ‘स्टार्टअप इंडिया’ को लागू करने की प्रक्रिया को तेज और सरल करने के प्रयास किए जा रहे हैं।

युवकों में स्टार्टअप से जुड़ने के लिए डिजिटल केंद्र

युवकों में स्टार्टअप से जुड़ने के लिए डिजिटल केंद्र

नयी दिल्ली,08 जुलाई (वार्ता) केरल के मुख्यमंत्री पिनारयी विजयन केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी स्टार्टअप योजना से राज्य के युवकों को जोड़ने के लिए अगले सप्ताह देश के पहले डिजिटल केंद्र की शुरुआत करेंगे ।

इसरो ने इस तरह रचा इतिहास

इसरो ने इस तरह रचा इतिहास

बेंगलुरु 21 फरवरी (वार्ता) भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने एक साथ 104 उपग्रह छोड़ने वाले पीएसएलवी-सी37 मिशन को अनूठे और नवाचारी तरीके अपनाकर सफल बनाया।

सांसद स्‍टार्टअप के लिए सहकार्य स्‍थल स्‍थापित करें: सीतारमण

सांसद स्‍टार्टअप के लिए सहकार्य स्‍थल स्‍थापित करें: सीतारमण

नयी दिल्ली 28 जून (वार्ता) केन्द्रीय वाणिज्‍य और उद्योग मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज सभी सांसदों से अपनी स्‍थानीय क्षेत्रीय विकास निधि (एमपीएलएडीएस) से अपने क्षेत्र में स्‍टार्टअप के लिए सह-कार्यस्‍थल/ इन्‍क्‍यूबेटर स्‍थापित करने की अपील की है।

आगे देखे...
नवाचारों का लाभ आम जनता तक पहुंचे

नवाचारों का लाभ आम जनता तक पहुंचे

जयपुर 28 मई (वार्ता) राजस्थान के उद्योग मंत्री राजपाल सिंह शेखावत ने उत्पादकों से नवाचारों को अपनाने का आह्वान करते हुए कहा कि इसका लाभ आम जनता तक पहुंचाने में वह अपना सक्रिय योगदान दें।

image