Friday, Apr 27 2018 | Time 06:18 Hrs(IST)
image
image image
BREAKING NEWS:
  • ईरान के 80 हजार शिया लड़ाके सीरिया में सक्रिय: इजरायल
  • कर्नाटक के हुबली में राहुल गांधी के विमान में खराबी
  • परमाणु समझौते में बदलाव को स्वीकार नहीं करेगा ईरान
  • मोदी चीन पहुंचे, जिनपिंग के साथ अनौपचारिक शिखर बैठक में शामिल हाेंगे
  • सुंदरवन में बाघ ने दो मछुआरों को बनाया निवाला
स्टार्टअप वर्ल्ड  Share

इसरो ने इस तरह रचा इतिहास

इसरो ने इस तरह रचा इतिहास

बेंगलुरु 21 फरवरी (वार्ता) भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने एक साथ 104 उपग्रह छोड़ने वाले पीएसएलवी-सी37 मिशन को अनूठे और नवाचारी तरीके अपनाकर सफल बनाया। इतनी ज्यादा संख्या में उपग्रहों को प्रक्षेपण यान में रखने के लिए विशेष खाँचे तैयार किये गये तथा यह सुनिश्चित किया गया कि प्रक्षेपण के दौरान उपग्रह आपस में न/न टकरायें। इसरो ने कल बताया कि इस मिशन में कार्टोसैट-2 श्रृंखला के मुख्य उपग्रह के साथ 103 नैनो उपग्रहों का प्रक्षेपण किया गया जिनमें 101 नैनो उपग्रह अन्य देशों के थे। ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान पीएसएलवी-सी37 से धरती से 506 किलोमीटर की ऊँचाई पर सौर-स्थैतिक कक्षा में इन उपग्रहों को स्थापित किया गया। यह अपने आप में इतिहास है क्योंकि अब तक किसी अन्य देश ने इतनी बड़ी संख्या में उपग्रहों का एक साथ प्रक्षेपण नहीं किया है। इसरो के अनुसार, इतनी बड़ी संख्या में उपग्रहों को प्रक्षेपणयान में रखने और कक्षा में उन्हें स्थापित करने के लिए नवाचारी तरीके अपनाने की जरूरत थी। प्रक्षेपणयान में उपग्रहों को रखने वाले पारंपरिक खांचों - पेलोड अडैप्टर तथा मल्टीपल सैटेलाइट अडैप्टर - के अलावा नये तरीके के छह अडैप्टर बनाये गये जिनका इस्तेमाल नैनो उपग्रहों को रखने के लिए किया गया। इनमें से कुछ अडैप्टरों में एक से ज्यादा टीयर बनाकर उपग्रहों को रखने की सुविधा थी। कुछ उपग्रहों को प्रक्षेपण यान के ‘वीइकल इक्वीपमेंट बे’ में भी रखा गया। इस प्रकार कम जगह में 104 उपग्रहों को रखना संभव हो सका। इसरो ने बताया कि इसके बाद अगली चुनौती उपग्रहों के बीच लंबे समय तक सुरक्षित दूरी बनाये रखने की थी। इसके लिए प्रक्षेपण यान के अंतिम चरण पीएस4 की जटिल संचालन प्रक्रिया तथा विशेष रूप से तैयार किये गये प्रक्षेपण क्रम का सहारा लिया गया। अंतरिक्ष में पीएस4 समेत 105 पिंडों को आपस में टकराने से बचाना एक बड़ी चुनौती थी। दो पिंडों के बीच 5,460 तरीकों से टकराने की संभावना बन सकती थी। जटिल प्रक्षेपण क्रम को अंजाम देने के लिए उन्हें प्रक्षेपण यान से अलग होने के लिए दी जाने वाली कमांड और उसके अनुरूप वायरिंग भी विशेष रूप से तैयार की गयी थी। इसमें एक भी त्रुटि से गलत उपग्रह का प्रक्षेपण हो सकता था और उपग्रहों के आपस में टकराने का खतरा पैदा हो सकता था। इसरो ने बताया कि उपग्रहों के प्रक्षेपण के पूरे क्रम को प्रक्षेपण यान पर लगाये गये कैमरे में रिकॉर्ड किया गया है। इस मिशन के लिए आँध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र में विशेष तैयारी की गयी थी। अजीत.जितेन्द्र वार्ता

More News
टेक्सटाइल क्षेत्र के लिए कौशल विकास स्कीम

टेक्सटाइल क्षेत्र के लिए कौशल विकास स्कीम

20 Dec 2017 | 8:59 PM

नयी दिल्ली 20 दिसंबर (वार्ता) सरकार ने टेक्सटाइल क्षेत्र में रोजगार के नये अवसर सुनिश्चित करने के लिए 1300 करोड़ रुपये की लागत से नयी कौशल विकास योजना को मंजूरी प्रदान की है।

 Sharesee more..
कौशल विकास के नये कोर्स शुरू किये जायेंगे :चन्नी

कौशल विकास के नये कोर्स शुरू किये जायेंगे :चन्नी

08 Dec 2017 | 9:01 PM

चंडीगढ़, 08 दिसंबर (वार्ता)पंजाब के नौजवानों को भविष्य की आवश्यकताओं के अनुसार कुशल बनाकर रोजगार मुहैया करवाने के लिए कौशल विकास के कम अवधि के नवीन कोर्स आरंभ किये जायेंगे।

 Sharesee more..
एक करोड़ 24 लाख युवाओं का कौशल विकास किया सरकार ने:अनंत हेगड़े

एक करोड़ 24 लाख युवाओं का कौशल विकास किया सरकार ने:अनंत हेगड़े

07 Dec 2017 | 9:14 PM

नयी दिल्ली 07 दिसंबर (वार्ता) केंद्रीय कौशल विकास और उद्यमिता मंत्री अनंत कुमार हेगड़े ने आज कहा कि कश्मीर से कन्याकुमारी और कच्छ से कोहिमा तक कौशल ही भविष्य के भारत का निर्माण करेगा और सरकार पिछले साढ़े तीन साल में एक करोड़ 24 लाख युवाओं का कौशल विकास कर चुकी है।

 Sharesee more..
‘स्टार्ट अप’ की नयी मंजिल है पूर्वोत्तर क्षेत्र

‘स्टार्ट अप’ की नयी मंजिल है पूर्वोत्तर क्षेत्र

12 Nov 2017 | 2:52 PM

नयी दिल्ली 12 नवंबर (वार्ता) पूर्वोत्तर क्षेत्र पूरे देश के युवाओं के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के महत्वाकांक्षी कार्यक्रम ‘स्टार्ट अप’ की नयी मंजिल के रूप में तेजी से उभर कर सामने आ रहा है।

 Sharesee more..
रोजगार सृजन की दिशा में बढ़ रही है सरकार: गंगवार

रोजगार सृजन की दिशा में बढ़ रही है सरकार: गंगवार

08 Nov 2017 | 7:53 PM

नयी दिल्ली 08 नवंबर (वार्ता) कर्मचारियों और नियोक्ताओं के लिए उपयुक्‍त वातावरण की सुविधा उपलब्‍ध कराने पर जोर देते हुए केंद्रीय श्रम एवं रोजगार मंत्री संतोष गंगवार ने आज कहा कि सरकार कौशल विकास और रोजगार सृजन के लिए सही दिशा में आगे बढ़ रही हैं।

 Sharesee more..
image