Thursday, May 28 2020 | Time 21:25 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • झांसी पहुंचे साढ़े चौंतीस हजार श्रमिकों के रोजगार के लिए प्रशासन ने किया मंथन
  • पेरासिटामोल का निर्यात खुला
  • सेना ने स्कूल को बनाया 100 बिस्तरों वाला कोविड केयर सेंटर
  • कोविड- खिलाफ सफलता प्राप्ति के लिए विश्व और राष्ट्रीय स्तर पर प्रयास
  • सूडान में गिद्ध की भेंट चढ़ती बच्ची को बचाने की बजाय फोटो लेनेवाले कार्टर की तरह याचिकाकर्ता : मेहता
  • कोलकाता हवाई अड्डे पर 1745 यात्रियों का आगमन
  • सुपौल में व्यवसायी लूटकांड का उद्भेदन, दो गिरफ्तार
  • बिहार सरकार का निजी लैब में कोरोना जांच की अनुमति देना स्वागतयोग्य : एसोसिएशन
  • आत्मनिर्भर योजना के तहत नई हीट सीम मशीन लॉन्च
  • शिवराज ने किया कमलनाथ के दावे पर पलटवार
  • बंगलादेश में सख्त दिशा-निर्देशों के बीच शुरू हाेंगी आर्थिक गतिविधियां
  • कोरोना में जरूरतमंदों की मदद कर रहे हैं पावरलिफ्टर गौरव
  • कोरोना : सबसे ज्यादा मामले वाला नवाँ देश बना भारत
  • असम में कोरोना वायरस के 73 नये मामले, 856 संक्रमित
राज्य » मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़


व्यवस्था के साथ सोच में भी परिवर्तन लाना जरूरी :

व्यवस्था के साथ सोच में भी परिवर्तन लाना जरूरी :

इंदौर, 18 अक्टूबर (वार्ता) मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि मध्यप्रदेश में व्यवस्था के साथ-साथ सोच में भी परिवर्तन लाना चाहते हैं। जब तक हम वर्तमान परिस्थितियों के मुताबिक बदलाव नहीं लायेंगे तब तक समग्र विकास के सपने को साकार नहीं कर पाएंगे।

श्री कमलनाथ आज यहां सीआईआई की नेशनल काउंसिल की बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश जैव विविधता, खनिज संसाधन, वन सम्पदा के साथ ही क्षेत्रफल की दृष्टि से विशाल प्रदेश है और देश के दिल के रूप में स्थापित है। मध्यप्रदेश की इन विशेषताओं का अगर हम प्रदेश की समृद्धि के लिए उपयोग करते हैं तो हम इसे देश के अव्वल राज्यों की श्रेणी में लाकर खड़ा कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश को विकसित बनाने के सपने को पूरा करने के लिए हम शासन-प्रशासन के साथ ही लोगों की सोच में भी बदलाव ला रहे हैं। आज के वक्त की जरूरत के हिसाब से दिशा और दृष्टि बदल रही है। परिणाम आधारित लक्ष्य निर्धारित कर रहे हैं।

मध्यप्रदेश में निवेश लाने का लक्ष्य भी हम भरोसे के साथ जमीनी हकीकत के रूप में पूरा करना चाहते हैं। आज आर्थिक और सामाजिक क्षेत्र में जो परिवर्तन हो रहे हैं उसके साथ भी हम जुड़ रहे हैं। हमें इसमें रचनात्मक सोच के साथ निवेशकों, उद्योगपतियों के साथ ही आम जनता के भी सहयोग की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि तकनीक के क्षेत्र में जिस तरह नित नए परिवर्तन हो रहे हैं, नई-नई चीजें सामने आ रही हैं उससे स्पष्ट है कि तकनीकी विकास से आने वाले दस साल में औद्योगिक क्षेत्र में एक बड़ी क्रांति होने की संभावना है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हम निवेश के साथ-साथ रोजगार के अवसर बढ़ाने और आर्थिक गतिविधियों के विस्तार की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं। पिछले आठ-नौ माह के कार्यकाल में हमें उत्साहजनक परिणाम भी प्राप्त हुए हैं। निवेश के नक्शे पर मध्यप्रदेश उभरकर सामने आए, युवाओं की सोच के अनुरूप समाज और प्रदेश का निर्माण हो, हमारे देश की विविधता में एकता की जो विशेषता है, उसके अनुरूप मध्यप्रदेश बने हम इस दिशा में भी सुनियोजित सोच के साथ आगे बढ़ रहे हैं।

उन्होंने कहा कि कृषि क्षेत्र में उन्नति हमारे सामने एक बड़ी चुनौती इस मायने में है कि हमारे किसान अधिक उत्पादन के बाद भी कर्ज के बोझ से दबे हुए हैं। हमने सरकार में आने के बाद 20 लाख किसानों का कर्ज माफ किया है। लेकिन यह कोशिश तभी सफल होगी जब हम किसानों के अधिक उत्पादन का वाजिब उपयोग उनकी आय बढ़ाने में करें। खाद्य प्र-संस्करण इकाईयों का विस्तार करने का हमारा उद्देश्य यही है।

उन्होंने कहा कि हम एक बहुआयामी सोच के साथ सधे हुए कदमों से आगे बढ़ रहे हैं। मुझे विश्वास है कि आने वाले पाँच सालों में सभी के सहयोग से हम मध्यप्रदेश को समृद्ध और खुशहाल प्रदेश बना सकेंगे।

नाग

वार्ता

More News
ग्रामीणों को मिलेगा आबादी भूमि का मालिकाना हक - चौहान

ग्रामीणों को मिलेगा आबादी भूमि का मालिकाना हक - चौहान

28 May 2020 | 9:19 PM

भोपाल, 28 मई (वार्ता) मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि इतिहास में पहली बार ग्रामीणों को ‘स्वामित्व योजना’ में आबादी भूमि का मालिकाना हक मिलेगा। इस योजना के प्रथम वर्ष में प्रदेश के 10 जिलों का चयन किया गया है।

see more..
image