Tuesday, Jul 14 2020 | Time 18:56 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • उत्तराखंड में उरेडा के नाम पर फर्जीवाड़ा
  • वडोदरा में 72 लाख रुपये की धोखाधडी के मामले में दो गिरफ्तार
  • भारी मात्रा में हथियारों सहित दो अंतरराष्ट्रीय तस्कर गिरफ्तार
  • बिहार में एक दिन में मिले सबसे अधिक 1432 पॉजिटिव, कुल संक्रमित 18853
  • ब्रॉड अब भी इंग्लैंड के लिए बड़ी भूमिका अदा कर सकते हैं: सिल्वरवुड
  • हिरासती मौत : पांचों पुलिसकर्मी सीबीआई हिरासत में
  • सोनभद्र में चार पुलिसकर्मियों समेत 11 और कोरोना पाॅजिटिव, संख्या 114 पहुंची
  • उत्तराखंड में देश की पहली रामायण वाटिका का लोकार्पण
  • अनंतनाग में पर्यटन विभाग के काफ़ी हाउस में लगी आग
  • बाराबंकी में 19 और कोरोना पॉजिटिव,संक्रमितों की संख्या हुई 625
  • उत्तराखंड में पोक्सो अधिनियम के तहत युवक गिरफ्तार
  • छत्तीसगढ़ में 15 विधायकों ने ली संसदीय सचिव के पद की शपथ
  • ससुर ने की पत्नी और पुत्रवधु की कुल्हाड़ी से काट कर नृशंस हत्या
  • किसानों को उपज का उचित मूल्य दिलाने में कृषक उत्पादक संगठनों की अहम भूमिका:शाही
  • फिल्म फेस्टिवल में दिखेगी संस्कृत विद्वान् सत्यव्रत शास्त्री के जीवन पर बनी फिल्म
राज्य » बिहार / झारखण्ड


सक्षम नेतृत्व के अभाव में झारखंड का नहीं हुआ विकास : जदयू

सक्षम नेतृत्व के अभाव में झारखंड का नहीं हुआ विकास : जदयू

धनबाद 22 अक्टूबर (वार्ता) बिहार में सत्तारूढ़ जनता दल यूनाईटेड (जदयू) ने झारखंड की अब तक की सरकारों के नेतृत्व पर सवाल खड़े करते हुये आज कहा कि सक्षम नेतृत्व के अभाव के कारण ही इस राज्य का विकास नहीं हो पाया।

जदयू के राष्ट्रीय महासचिव एवं राज्यसभा सांसद आरसीपी सिंह ने यहां कार्यकर्ता सम्मेलन में इस वर्ष होने विधानसभा चुनाव में धनबाद के जदयू प्रत्याशी के रूप में के. के. तिवारी के नाम की घोषणा करते हुये कहा कि वर्तमान समय में बिहार और झारखंड में नेतृत्व का अंतर है। वर्ष 2005 के बाद बिहार का नेतृत्व जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार ने किया। इसके बाद उन्होंने बिहार को नई ऊंचाई दी है। झारखंड के पास बिहार के मुकाबले सबकुछ अधिक है। जमीन ज्यादा है। खनिज पदार्थ अधिक हैं। जंगल ज्यादा हैं। लोग परिश्रमी हैं। इस लिहाज से प्रदेश का जितना विकास होना चाहिए, वह नहीं हो पाया है। इसका कारण सक्षम नेतृत्व का अभाव है। प्रदेश को वह नेतृत्व नहीं मिल पाया, जो उसे आगे ले जाने की क्षमता रखता है।

श्री सिंह ने कहा कि विकास नहीं होने का ही परिणाम है कि झारखंड के ग्रामीण इलाकों को तो छोड़ दीजिए, शहरी इलाकों में बिजली की कटौती होती है। वहीं, बिहार के ग्रामीण इलाकों में 22 से 24 घंटे बिजली रहती है। शहरी इलाकों में तो बिजली जाती ही नहीं है। उन्होंने कहा कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राज्य में शराबबंदी लागू करने का साहसिक फैसला लिया। इसका सामाजिक और आर्थिक असर देखने को मिल रहा है। बिहार में दूध और उससे बनने वाले उत्पादों की बिक्री बढ़ गई है।

सूरज

जारी (वार्ता)

More News
कोयला ब्लॉक नीलामी मामले में हेमंत ने सर्वोच्च न्यायालय का आभार जताया

कोयला ब्लॉक नीलामी मामले में हेमंत ने सर्वोच्च न्यायालय का आभार जताया

14 Jul 2020 | 5:48 PM

रांची, 14 जुलाई (वार्ता) झारखंड के मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने कोयला ब्लॉक की नीलामी के खिलाफ राज्य सरकार की याचिका पर सुनवाई के लिए सहमति देने पर सर्वोच्च न्यायालय का आभार जताया है।

see more..
बाबूलाल ने पार्टी नेताओं को सुरक्षा देने में लापरवाही पर केंद्रीय गृहमंत्री को लिखा पत्र

बाबूलाल ने पार्टी नेताओं को सुरक्षा देने में लापरवाही पर केंद्रीय गृहमंत्री को लिखा पत्र

14 Jul 2020 | 5:38 PM

रांची, 14 जुलाई (वार्ता) झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिखकर पार्टी से जुड़े नेताओं को सुरक्षा प्रदान करने में की जा रही जानबूझकर लापरवाही को उजागर किया है।

see more..
तेजी से फैल रहे कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए बिहार में फिर से लॉकडाउन

तेजी से फैल रहे कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए बिहार में फिर से लॉकडाउन

14 Jul 2020 | 4:49 PM

पटना 14 जुलाई (वार्ता) बिहार में तेजी से फैल रहे कोरोना संक्रमण को देखते हुए राज्य सरकार ने गांवों को छोड़कर पूरे प्रदेश में 16 से 31 जुलाई तक लॉकडाउन लागू करने का निर्णय लिया है।

see more..
image