Wednesday, Dec 11 2019 | Time 16:53 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • निजी डाटा विधेयक को संयुक्त संसदीय समिति को भेजा गया
  • विभाजन के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार बताने पर माफी मांगें अमित शाह: सिब्बल
  • नागरिकता संशोधन विधेयक भारत की सभ्यता के विपरीत: सिंधिया
  • वरिष्ठ फुटबॉल प्रशासक भाटिया को लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड
  • टोक्यो ओलंपिक में रूसी एथलीटों का विरोध करेंगे अमेरिकी
  • टोक्यो ओलंपिक में रूसी एथलीटों का विरोध करेंगे अमेरिकी
  • पूरे देश में शिक्षा प्रणाली एक जैसी हो: योगी
  • 250 नये स्टोर खोलेगी जेनेरिक दवा विक्रेता कंपनी मेडिकार्ट
  • गुजरात पाठ्य पुस्तक मंडल के गोदाम से 42 लाख के पुस्तक गायब
  • श्रीनगर हवाई अड्डे पर उड़ानें पांचवे दिन भी स्थगित
  • सरकार की नीतियों के विरुद्ध 14 दिसम्बर को कांग्रेस की रैली
  • वकीलों का पीआईसी में उत्पात: चार मरीजों की मौत
  • पीएसएलवी का मिशन-50, नौ सैटेलाइट का सफल प्रक्षेपण
  • पैंथर्स को मात देकर गुजरात पहले स्थान पर
  • पैंथर्स को मात देकर गुजरात पहले स्थान पर
राज्य » बिहार / झारखण्ड


सक्षम नेतृत्व के अभाव में झारखंड का नहीं हुआ विकास : जदयू

सक्षम नेतृत्व के अभाव में झारखंड का नहीं हुआ विकास : जदयू

धनबाद 22 अक्टूबर (वार्ता) बिहार में सत्तारूढ़ जनता दल यूनाईटेड (जदयू) ने झारखंड की अब तक की सरकारों के नेतृत्व पर सवाल खड़े करते हुये आज कहा कि सक्षम नेतृत्व के अभाव के कारण ही इस राज्य का विकास नहीं हो पाया।

जदयू के राष्ट्रीय महासचिव एवं राज्यसभा सांसद आरसीपी सिंह ने यहां कार्यकर्ता सम्मेलन में इस वर्ष होने विधानसभा चुनाव में धनबाद के जदयू प्रत्याशी के रूप में के. के. तिवारी के नाम की घोषणा करते हुये कहा कि वर्तमान समय में बिहार और झारखंड में नेतृत्व का अंतर है। वर्ष 2005 के बाद बिहार का नेतृत्व जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार ने किया। इसके बाद उन्होंने बिहार को नई ऊंचाई दी है। झारखंड के पास बिहार के मुकाबले सबकुछ अधिक है। जमीन ज्यादा है। खनिज पदार्थ अधिक हैं। जंगल ज्यादा हैं। लोग परिश्रमी हैं। इस लिहाज से प्रदेश का जितना विकास होना चाहिए, वह नहीं हो पाया है। इसका कारण सक्षम नेतृत्व का अभाव है। प्रदेश को वह नेतृत्व नहीं मिल पाया, जो उसे आगे ले जाने की क्षमता रखता है।

श्री सिंह ने कहा कि विकास नहीं होने का ही परिणाम है कि झारखंड के ग्रामीण इलाकों को तो छोड़ दीजिए, शहरी इलाकों में बिजली की कटौती होती है। वहीं, बिहार के ग्रामीण इलाकों में 22 से 24 घंटे बिजली रहती है। शहरी इलाकों में तो बिजली जाती ही नहीं है। उन्होंने कहा कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राज्य में शराबबंदी लागू करने का साहसिक फैसला लिया। इसका सामाजिक और आर्थिक असर देखने को मिल रहा है। बिहार में दूध और उससे बनने वाले उत्पादों की बिक्री बढ़ गई है।

सूरज

जारी (वार्ता)

More News
बागमती एक्सप्रेस के एक डिब्बे के निचले हिस्से में लगी आग

बागमती एक्सप्रेस के एक डिब्बे के निचले हिस्से में लगी आग

11 Dec 2019 | 10:45 AM

बक्सर 11 दिसंबर (वार्ता) बिहार में पूर्व-मध्य रेलवे के बक्सर स्टेशन पहुंचते ही बागमती एक्सप्रेस के एक डिब्बे के निचले हिस्से में ब्रेक फाइंडिंग होने से आग लग गई।

see more..
image