Wednesday, Oct 16 2019 | Time 22:10 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कांग्रेस के कर्नाटक से रास सदस्य राममूर्ति का इस्तीफा
  • बेंगलुरु को चित कर दिल्ली पहली बार फाइनल में
  • संसद का शीतकालीन सत्र 18 नवम्बर से शुरू होने की संभावना
  • उप्र में त्यौहारों के मद्देनजर 30 नवम्बर तक अधिकारियों का अवकाश नहीं हो स्वीकृत
  • जालौन:ट्रक ने मारी बाइक को टक्कर , दो की मौत एक घायल
  • बिहार में नहरों, तटबंधों और जलाशयों की ड्रोन से होगी निगरानी
  • झारखंड विधानसभा चुनाव में 21 सीटों पर प्रत्याशी खड़े करेगा फॉरवर्ड ब्लॉक
  • बिहार में युवती की सिर कटी लाश समेत छह शव बरामद
  • फोटो कैप्शन: दूसरा सेट
  • भारत को महान देश बनाने में महाराष्ट्र का बहुत बड़ा योगदान: मोदी
  • सेल्फी लेने के चक्कर में पार्वती नदी में गिरीं दो लड़कियां, एक लापता
  • शाओमी ने नोट 8 सीरीज के फोन लांच किये
  • जस्टिस मिश्रा को सुनवाई से अलग करने की अर्जी पर बुधवार को फैसला
  • अश्विन और उनकी कप्तानी पर अभी कोई फैसला नहीं : कुंबले
मनोरंजन » कला एवं रंगमंच


पिता की घड़ी बेचकर सपनों को साकर करने निकले थे जुबली कुमार

पिता की घड़ी बेचकर सपनों को साकर करने निकले थे जुबली कुमार

...पुण्यतिथि 12 जुलाई  ...
मुम्बई 11 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड में जुबली कुमार के नाम से मशहूर राजेन्द्र कुमार ने कई सुपरहिट फिल्मों में अपने दमदार अभिनय से दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया लेकिन उन्हें अपने करियर के शुरूआती दौर में कड़ा संघर्ष करना पड़ा था।

पंजाब के सियालकोट शहर में 20 जुलाई 1929 को एक मध्यम वर्गीय परिवार मे जन्में राजेन्द्र कुमार अभिनेता बनने का ख्वाब देखा करते थे।
जब वह अपने सपनों को साकार करने के लिये मुम्बई पहुंचे थे तो उनके पास मात्र पचास रुपये थे जो उन्होंने अपने पिता से मिली घड़ी बेचकर हासिल किए थे।
घड़ी बेचने से उन्हें 63 रुपये मिले थे. जिसमें से 13 रुपये से उन्होंने फ्रंटियर मेल का टिकट खरीदा ।
मुंबई पहुंचने पर गीतकार राजेन्द्र कृष्ण की मदद से राजेन्द्र कुमार को 150 रुपये मासिक वेतन पर निर्माता. निर्देशक एच.एस. रवैल के सहायक निर्देशक के तौर पर काम करने का अवसर मिला।
वर्ष 1950 में प्रदर्शित फिल्म ..जोगन ..में राजेन्द्र कुमार को काम करने का अवसर मिला।
इस फिल्म में उनके साथ दिलीप कुमार ने मुख्य भूमिका निभायी थी।

वर्ष 1950 से वर्ष 1957 तक राजेन्द्र कुमार फिल्म इंडस्ट्री में अपनी जगह बनाने के लिये संघर्ष करते रहे।
फिल्म.जोगन..के बाद उन्हें जो भी भूमिका मिली वह उसे स्वीकार करते चले गये।
इस बीच उन्होंने तूफान और दीया तथा.आवाज.एक झलक जैसी कई फिल्मों मे अभिनय किया लेकिन इनमें से कोई भी फिल्म बाक्स ऑफिस पर सफल नहीं हुयी।
वर्ष 1957 मे प्रदर्शित महबूब खान की फिल्म उन्हें बतौर पारश्रमिक 1000 रूपये महीना मिला।
यह फिल्म पूरी तरह अभिनेत्री नरगिस पर आधारित थी बावजूद इसके राजेन्द्र कुमार ने अपनी छोटी सी भूमिका के जरिये दर्शकों का मन मोह लिया।
इसके बाद गूंज उठी शहनाई.कानून.ससुराल. घराना. आस का पंछी और दिल एक मंदिर जैसी फिल्मों मे मिली कामयाबी के जरिये राजेन्द्र कुमार दर्शकों के बीच अपने अभिनय की धाक जमाते हुये ऐसी स्थिति में पहुंच गये जहां वह फिल्म में अपनी भूमिका स्वयं चुन सकते थे।

वर्ष 1959 मे प्रदर्शित विजय भट्ट की संगीतमय फिल्म गूंज उठी शहनाई बतौर अभिनेता राजेन्द्र कुमार के सिने कैरियर की सबसे पहली हिट साबित हुयी।
वहीं वर्ष 1963 में प्रदर्शित फिल्म मेरे महबूब की जबर्दस्त कामयाबी के बाद राजेन्द्र कुमार शोहरत की बुंलदियो पर जा पहुंचे।
राजेन्द्र कुमार कभी भी किसी खास इमेज में नहीं बंधे।
इसलिये अपनी इन फिल्मों की कामयाबी के बाद भी उन्होंने वर्ष 1964 में प्रदर्शित फिल्म .संगम. में राजकपूर के सहनायक की भूमिका स्वीकार कर ली जो उनके फिल्मी चरित्र से मेल नहीं खाती थी।
इसके बावजूद राजेन्द्र कुमार यहां भी दर्शकों का दिल जीतने में सफल रहे।
वर्ष 1963 से 1966 के बीच कामयाबी के सुनहरे दौर में राजेन्द्र कुमार की लगातार छह फिल्में हिट रहीं और कोई भी फिल्म असफल नहीं हुई।
मेरे महबूब.1963. जिन्दगी. संगम और आई मिलन की बेला. सभी 1964. आरजू.1965. और सूरज.1966. सभी ने सिनेमाघरों पर सिल्वर जुबली या गोल्डन जुबली मनायी।
इन फिल्मों के बाद राजेन्द्र कुमार के कैरियर में ऐसा सुनहरा दौर भी आया. जब मुम्बई के सभी दस सिनेमाघरों में उनकी ही फिल्में लगी और सभी फिल्मों ने .सिल्वर जुबली. मनायी।
यह सिलसिला काफी लंबे समय तक चलता रहा।
उनकी फिल्मों की कामयाबी को देखते हुए उनके प्रशंसकों ने उनका नाम ही..जुबली कुमार.. रख दिया था।

राजेश खन्ना के आगमन के बाद परदे पर रोमांस का जादू जगाने वाले इस अभिनेता के प्रति दर्शकों का प्यार कम होने लगा।
इसे देखते हुए राजेन्द्र कुमार ने कुछ समय के विश्राम के बाद 1978 में ..साजन बिना सुहागन.. फिल्म से चरित्र अभिनय की शुरुआत कर दी।
राजेन्द्र कुमार के सिने करियर में उनकी जोड़ी सायरा बानो. साधना और वैजयंती माला के साथ काफी पसंद की गयी।
वर्ष 1981 राजेन्द्र कुमार के सिने कैरियर का अहम पड़ाव साबित हुआ।
अपने पुत्र कुमार गौरव को फिल्म इंडस्ट्री में स्थापित करने के लिए उन्होंने..लव स्टोरी. का निर्माण और निर्देशन किया. जिसने बाॅक्स आफिस पर जबरदस्त कामयाबी हासिल की।

इसके बाद राजेन्द्र कुमार ने कुमार गौरव के कैरियर को आगे बढाने के लिए ..नाम.. और ..फूल. फिल्मों का निर्माण किया लेकिन पहली फिल्म की सफलता का श्रेय संजय दत्त ले गए जबकि दूसरी फिल्म बुरी तरह पिट गई और इसके साथ ही कुमार गौरव के फिल्मी कैरियर पर भी विराम लग गया।
राजेन्द्र कुमार के फिल्मी योगदान को देखते हुए 1969 में उन्हें पद्मश्री से सम्मानित किया गया।
नब्बे के दशक में राजेन्द्र कुमार ने फिल्मों मे काम करना काफी कम कर दिया।
अपने संजीदा अभिनय से लगभग चार दशक तक दर्शकों के दिल पर राज करने वाले महान अभिनेता राजेन्द्र कुमार 12 जुलाई 1999 को इस दुनिया को अलविदा कह गये ।

राजेन्द्र कुमार ने अपने कैरियर में लगभग 85 फिल्मों में काम किया।
उनकी उल्लेखनीय फिल्मों में कुछ है...तलाक. संतान. धूल का फूल. पतंग. धर्मपुत्र. घराना. हमराही. आई मिलन की बेला. सूरज.पालकी. साथी. गोरा और काला. अमन. गीत. गंवार. धरती. दो जासूस. साजन बिना सुहागन. साजन की सहेली. बिन फेरे हम तेरे. फूल आदि।

 

भावपूर्ण

भावपूर्ण अभिनय करने में माहिर थीं सिम्मी ग्रेवाल

...जन्मदिवस 17 अक्टूबर..
मुंबई 16 अक्टूबर (वार्ता) हिन्दी सिनेमा जगत में सिम्मी ग्रेवाल को एक ऐसी अभिनेत्री के तौर पर शुमार किया जाता है जिन्होंने साठ एवं सत्तर के दशक में अपने रूमानी अंदाज और भावपूर्ण अभिनय से सिने प्रेमियों को दीवाना बनाया।

सिलवर

सिलवर स्क्रीन पर हरदम रहा है करवाचौथ का सुंदर रूप ..अशोक टंडन से..

नयी दिल्ली, 16 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड फिल्मों में गीतों और प्रसंगों के जरिए सुहाग के प्रति प्रेम एवं समर्पण के प्रतीक करवाचौथ पर्व का सुंदर रूप जब-तब दिखाई देता रहता है।

धर्मेन्द्र

धर्मेन्द्र का किरदार निभाना बड़ी जिम्मेवारी : राजकुमार

मुंबई 16 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड में अपने संजीदा अभिनय के लिये मशहूर राजकुमार राव का कहना है कि सुपरहिट फिल्म चुपके चुपके के रीमेक में धमेन्द्र वाला किरदार निभाना उनके लिये बड़ी जिम्मेवारी है।

सारा

सारा के वॉरड्रोब पर पर्सनल ध्यान दे रही हैं करीना!

मुंबई 16 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री करीना कपूर इन दिनों सारा अली खान के वॉरड्रोब और उनके स्टाइल पर पर्सनल ध्यान दे रही हैं।

मणिरत्नम

मणिरत्नम की फिल्म में डबल रोल निभायेंगी ऐश्वर्या

मुंबई 16 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री ऐश्वर्या राय दक्षिण भारतीय फिल्मकार मणिरत्नम की फिल्म में डबल रोल निभाती नजर आ सकती हैं।

स्मिता

स्मिता ने समानांतर फिल्मों को दिया नया आयाम

.. जन्मदिवस 17 अक्टूबर  ..
मुंबई 16 अक्टूबर (वार्ता) भारतीय सिनेमा के नभमंडल में स्मिता पाटिल ऐसे ध्रुवतारे की तरह है जिन्होंने अपने सशक्त अभिनय से समानांतर सिनेमा के साथ. साथ व्यावसायिक सिनेमा में भी दर्शको के बीच अपनी खास पहचान बनायी ।

ससुरा

ससुरा बड़ा पैसा वाला 2 का टीजर रिलीज

मुंबई 14 अक्टूबर (वार्ता) भोजपुरी फिल्मकार अजय सिन्हा की आने वाली फिल्म 'ससुरा बड़ा पैसा वाला 2' का टीजर रिलीज हो गया है।

भंसाली

भंसाली की फिल्म में कैमियो नही करेंगे रणवीर!

मुंबई 15 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता रणवीर सिंह ने संजय लीला भंसाली की आने वाली फिल्म में काम करने से इंकार कर दिया है।

सलमान

सलमान खान के साथ काम करेंगी दिशा पाटनी

मुंबई, 14 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री दिशा पाटनी सिल्वर स्क्रीन पर दबंग स्टार सलमान खान के साथ फिर काम करती नजर आ सकती हैं।

हेमा

हेमा मालिनी को पहचान बनाने के लिये करना पड़ा था संघर्ष

..जन्मदिवस 16 अक्टूबर ..
मुम्बई 15 अक्टूबर (वार्ता) बॉलीवुड की जानी मानी अभिनेत्री हेमा मालिनी ने लगभग पांच दशक के कैरियर में कई सुपरहिट फिल्मों में काम किया लेकिन कैरियर के शुरआती दौर में उन्हें काफी संघर्ष करना पड़ा था और वह दिन भी देखना पड़ा था जब एक निर्माता-निर्देशक ने उन्हें यहां तक कह दिया था कि उनमें स्टार अपील नहीं है ।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

गजल गायकी को नया आयाम दिया जगजीत सिंह ने

गजल गायकी को नया आयाम दिया जगजीत सिंह ने

(पुण्यतिथि 10 अक्टूबर के अवसर पर )
मुंबई 09 अक्टूबर(वार्ता)बॉलीवुड में जगजीत सिंह काे एक ऐसी शख्सियत के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने अपनी गजल गायकी से लगभग चार दशक तक श्रोताओं के दिल पर अमिट छाप छोड़ी।

image