Thursday, May 28 2020 | Time 09:08 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चीन ने की मेंग को हिरासत में लिये जाने की निंदा
  • कोरोना काल में विदेशी विद्वानों ने किया प्रेमचंद को याद
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 29 मई)
  • अमेरिका रुस को 150 और वेंटिलेंटर भेजेगा
  • कोरोना वायरस से दुनियाभर में 3 49 लाख लोगों की मौत
  • ओमान में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 8373 हुई
  • अमेरिका में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा एक लाख के पार पहुंचा
  • तुर्की में कोरोना के 1035 मामले सामने आए
  • पोंपियो ने इंडोनेशिया के विदेश मंत्री से आर्थिक सहयोग पर की चर्चा
  • रुस में फंसे 200 फिलिस्तीनी छात्र दो सप्ताह के अंदर घर लौटेंगे : नोफल
  • मुम्बई से 1825 प्रवासी उत्तराखंडी विशेष ट्रेन से लालकुआं पहुंचे
  • वाशिंगटन में 29 मई से पाबंदियां हटेंगी ः बोसेर
  • यूएई में कोरोना के 883 नए मामले सामने आए, कुल 31969 संक्रमित
  • इटली में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा 33072 हुआ
  • राजस्थान सरकार ने रेल किराया देने से मना किया तो बिहार ने किया एक करोड़ का भुगतान : सुशील
लोकरुचि


कान्हा को दर्शन को उमड़े गोकुलवासी

कान्हा को दर्शन को उमड़े गोकुलवासी

मथुरा, 04 सितम्बर (वार्ता) ब्रजवासियों के कान्हा और आमजन के श्यामसुन्दर के गोकुल पहुंचने की खुशी में मंगलवार को गोकुलवासियों ने पलक पांवड़े बिछा दिए। शहनाई और नगाड़ों की ध्वनि के बीच गोकुलवासी झूम उठे।


     वैसे तो गोकुल में सोमवार की आधी रात बाद से ही चहल पहल शुरू हो गई थी लेकिन आज सुबह जैसे ही लोगों को पता चला कि “ यशोदा जायो लालना मै वेदन में सुनि आई ” तो गोकुलवासी राजा ठाकुर मंदिर की ओर दौड़ पड़े जहां पर यशोदा की भूमिका निभा रहे सेवायत अरूण जी की खुशी का तो कोई ठिकाना ही नही था।

     मंदिर के महंत भीखू जी महराज ने बताया कि यशोदा के लाला को देखने के लिए आज मंदिर में इतनी भीड़ उमड़ पड़ी कि उसको नियंत्रित करना मुश्किल हो गया क्योंकि ‘नन्द के आनन्द भये जै कन्हैयालाल की’ के सामूहिक गायन के बीच महिलाएं, पुरूष और बच्चे नृत्य कर रहे थे। एक ओर मंदिर के गर्भगृह से श्रद्धालुओं पर हल्दी मिश्रित दही डाला जा रहा था, दूसरी ओर मस्ती में लोग नृत्य कर रहे थे। गर्भ गृह से लुटाया जानेवाला प्रसाद, फल , खिलौने लूटने की होड़ सी मच गई।

     लगभग दस बजे बैंड बाजों की ध्वनि के बीच राजा ठाकुर मंदिर से ठाकुर की सवारी शोभायात्रा के रूप में चली जो गोकुल चैक पर नन्दोत्सव में बदल गई। जहां पर एक ओर होली का सा माहौल हो गया था तथा जमकर दधि लोगों पर डाला जा रहा था दूसरी ओर खिलैाने , मिठाई लुटाई जा रही थी।

काष्र्णि आश्रम रमणरेती में नन्दोत्सव में हजारों श्रद्धालुओं में नन्दोत्सव का प्रसाद लूटने की होड़ मच गई। पहले मंदिर के पास बने मंच से फल, खिलौने लुटाए जाते रहे बाद में काष्र्णि गुरू शरणानन्द जी महराज के आगमन के साथ वातावरण ‘हाथी दीन्हे घोड़ा दीन्हे और दीन्हें पालकी, जै कन्हैया लाल की’ के सामूहिक गायन और नृत्य के रूप में बदल गया। तीर्थयात्री खिलैाने, फल, मिठाई, टाफियां लूट रहे थे तो वह क्षण अविष्मरणीय बना जब गुरूशरणानन्द महराज ने चांदी के सिक्के और पायल लुटाए तो स्वामी स्वरूपानन्द महराज, स्वामी महेशानन्द, स्वामी गोविन्दानन्द एवं स्वामी हरिदास ने ठाकुर के वस्त्र प्रसादी के रूप में लुटाए। इन वस्त्रों के लूटने की होड़ बड़े बड़ों तक में थी क्योकि इसमें ठाकुर की साल भर की पोशाकें, तौलिया आद वस्त्र थे जिन्हें ठाकुर के प्रयोग में रोज लाया जाता है। नन्दोत्सव का समापन ’’नन्द के लाला की जय’’से हुआ।

     स्वामीनारायण मंदिर मथुरा में तो आज जबरदस्त तरीके से दधिकाना का आयोजन हुआ। श्रद्धालुओं में दही लूटने की होड़ मची रही तो मिठाई, खिलौने,  टाफियो की एक प्रकार से वर्षा सी हुई तथा जो भी आया उसे यह प्रसाद दिया गया विशेष रूप से गरीब बच्चों में मिठाई और टाफियों का विशेष वितरण हुआ। महंत अखिलेश्वरदास ने बताया कि मंदिर की ओर से गरीब बच्चों को प्रोत्साहित करने का लगातार प्रयास होता है। हिंडोला उत्सव में तो गरीब बच्चों में कापियां और पेसिल प्रसाद रूप में वितरित किये गए थे। आज इन बच्चों में मिठाई , खिलौने और टाफियों का जब वितरण हुआ तो उनके चेहरे खिल उठे।

     नन्दोत्सव का आयोजन श्रीकृष्णजन्मस्थान के मंदिरों, द्वारकाधीश मंदिर, वृन्दावन के मंदिरों, नन्दगांव , बरसाना एवं महाबन के मंदिरों में धूमधाम से किया गया।

    सोमवार की रात 12 बजे श्रीकृष्ण जन्मस्थान के भागवत भवन में जब अभिषेक का कार्यक्रम शुरू हुआ तो बाल, वृद्ध, पुरूष, महिलाओं में इसकी एक झलक पाने की धक्का मुक्की सी होने लगी।सोने चांदी की 51 किलो की गाय से दुग्ध का स्वतः ठाकुर पर गिरना देखकर लोग लालायित थे। श्रीकृष्ण जन्म के साथ ही जबर्दस्त पुष्प वर्षा हुई तथा संस्थान के सचिव कपिल शर्मा और उनकी टीम ने  टाफियां एवं खिलौने लुटाए । कुल मिलाकर जन्माष्टमी की पूर्व संध्या से चली भक्ति की बयार आज भी तेजी से बह रही है तथा तीर्थयात्री उसका आनन्द लेकर धन्य हो रहे हैं।

सं प्रदीप

वार्ता

More News
लाकडाउन ने नट समुदाय को समझाया जड़ का महत्व

लाकडाउन ने नट समुदाय को समझाया जड़ का महत्व

27 May 2020 | 8:49 PM

मुरादाबाद 26 मई (वार्ता) वैश्विक महामारी कोविड-19 के कारण जारी लाकडाउन ने लोगों के जीने के अंदाज को बदल दिया है और इसमें नट समुदाय भी अछूता नहीं है।

see more..
कई कारोबारियों के बिजनेस पार्टनर है ‘ठाकुर’

कई कारोबारियों के बिजनेस पार्टनर है ‘ठाकुर’

25 May 2020 | 5:24 PM

मथुरा 25 मई (वार्ता) व्यापार को चमकाने के लिए ‘ठाकुर’ को ’बिजनेस पार्टनर’ बनाने की निराली परंपरा भक्तों द्वारा ब्रज के मंदिरों में लम्बे समय से अपनाई जा रही है।

see more..
महोबा में जागरूकता अभियान के साथ अनूठे अंदाज में मनाई गई आल्हा की जयंती

महोबा में जागरूकता अभियान के साथ अनूठे अंदाज में मनाई गई आल्हा की जयंती

25 May 2020 | 12:55 PM

महोबा, 25मई (वार्ता) उत्तर प्रदेश के महोबा में बारहवीं शताब्दी के महान योद्धा चंदेल सेनानायक, महाबली आल्हा की जयंती सोमवार को कोरोना जागरूकता अभियान के साथ अनूठे अंदाज में मनाई गई।

see more..
प्रकृति की खातिर हर साल 21 दिन का लॉकडाउन जरूरी: पर्यावरणविद

प्रकृति की खातिर हर साल 21 दिन का लॉकडाउन जरूरी: पर्यावरणविद

24 May 2020 | 4:01 PM

इटावा, 24 मई (वार्ता) कोरोना संक्रमण के चलते देशव्यापी लाकडाउन ने सरकार और आम आदमी की मुश्किलों में इजाफा किया है लेकिन आपदा की इस घड़ी ने प्रकृति के सौंदर्य को बरकरार रखने के लिये नियमित अंतराल में मानव दखलदांजी पर रोक लगाने को लेकर एक नयी बहस को जन्म दे दिया है।

see more..
लाकडाउन ने कछुओं को दिया वंश वृद्धि का मौका

लाकडाउन ने कछुओं को दिया वंश वृद्धि का मौका

22 May 2020 | 10:03 PM

इटावा 22 मई (वार्ता) वैश्विक महामारी कोविड-19 के कारण जारी लाकडाउन ने कलकल बहती चंबल नदी में विचरण करते दुर्लभ प्रजाति के कछुओं को सुरक्षित प्रजनन का मौका दे दिया है।

see more..
image