Sunday, Sep 23 2018 | Time 19:23 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • तीन तलाक का मुद्दा राजनीति का विषय नहीं : रविशंकर
  • एकता, अखंडता और सम्मान के लिए डालें वोट: लू
  • भारत ने छह स्वर्ण के साथ जीता ट्रैक एशिया कप
  • वोट बैंक की राजनीति के कारण गरीबों के स्वास्थ्य की हुई अनदेखी : मोदी
  • फोटो कैप्शन-दूसरा सेट
  • सरकार को आन्दोलनरत कर्मचारियों से करनी चाहिए बात-पायलट
  • पर्रिकर ही गोवा के मुख्यमंत्री बने रहेंगें: अमित शाह
  • हरियाणा ने जम्मू-कश्मीर को तीन विकेट से हराया
  • महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर ‘मुशायरा’
  • हरियाणा, हिमाचल और पंजाब सहित कई राज्यों में मानसून सक्रिय
  • भारत अंडर-16 लड़कियों का दूसरे राउंड का सपना टूटा
  • राफेल कांग्रेस द्वारा प्रायोजित झूठा मुद्दा-माथुर
  • भूटान भारत के परिवार का हिस्सा रहा है: वेंकैया
  • छत्तीसगढ़ के 40 लाख गरीबों को मिलेगी पांच लाख तक मुफ्त इलाज सुविधा
  • यूपी-ओड़िशा का मुकाबला बारिश की भेंट चढा
खेल Share

क्रिकेट के जुनून में खलील ने खायी थी पिता से पिटाई

क्रिकेट के जुनून में खलील ने खायी थी पिता से पिटाई

टोंक, 01 सितम्बर (वार्ता) एशिया कप के लिए भारतीय क्रिकेट टीम में शामिल किये गये बाएं हाथ के तेज गेंदबाज खलील अहमद को क्रिकेट के जुनून में कई बार पिता से पिटाई खानी पड़ी।

राजस्थान के टोंक में जन्मे खलील के पिता खुर्शीद अहमद सरकारी कंपाउडर है और वह उसे डाक्टर बनाना चाहते थे। खलील का पढ़ाई में कभी मन नहीं लगा और वह स्कूल छोड़कर खेल के मैदान में पहुंच जाता था जिसकी वजह से उसे कई बार पिता की डांट और पिटाई खानी पड़ी।

भारतीय टीम में शामिल होने की खबर मिलते ही खलील ने सबसे पहले खुदा का शुक्रिया अदा किया तथा मस्जिद में जाकर नमाज पढ़ी। उसके घर पर भी खेल प्रेमियों का जमावड़ा हो गया तथा मिठाइयां बांटी गई। खलील ने बताया कि पूर्व क्रिकेट कप्तान राहुल द्रविड़ ने उसका मार्गदर्शन किया जिसकी वजह से आज वह भारतीय क्रिकेट टीम का हिस्सा बन सका।

इससे पहले वह अंडर-19 क्रिकेट वर्ल्ड कप तथा आईपीएल मैच खेल चुका है। उसके कोच इम्तियाज अली ने उसे तराशा तथा टोंक के मैदान पर ही उसे अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेलने लायक बनाया।

More News
नवीन को रजत, अब स्वर्ण की उम्मीदें दीपक से

नवीन को रजत, अब स्वर्ण की उम्मीदें दीपक से

23 Sep 2018 | 6:47 PM

नयी दिल्ली, 23 सितम्बर (वार्ता) भारत के नवीन को स्लोवाकिया के ट्रनावा में चल रही जूनियर विश्व कुश्ती प्रतियोगिता में 57 किग्रा फ्री स्टाइल वर्ग के फाइनल में हारकर रजत से संतोष करना पड़ा जबकि दीपक पुनिया ने 86 किग्रा फ्री स्टाइल वर्ग के फाइनल में पहुंचकर देश की इस प्रतियोगिता में 17 वर्षों के बाद स्वर्ण हासिल करने की उम्मीदों को जिन्दा रखा है।

 Sharesee more..
टोक्यो ओलम्पिक में दोहरी पदक संख्या का लक्ष्य रखें: बत्रा

टोक्यो ओलम्पिक में दोहरी पदक संख्या का लक्ष्य रखें: बत्रा

23 Sep 2018 | 6:33 PM

नयी दिल्ली, 23 सितम्बर (वार्ता) भारतीय ओलम्पिक संघ आईओए के अध्यक्ष डॉ नरेंद्र ध्रुव बत्रा ने 18वें एशियाई खेलों में भारत के सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के बाद खिलाड़ियों के सामने अब 2020 के टोक्यो ओलम्पिक में दोहरी संख्या में पदक जीतने का लक्ष्य रख दिया है।

 Sharesee more..
image