Wednesday, Jan 23 2019 | Time 18:51 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • हजारे ने लोकपाल गठन के लिए कोविंद को लिखा पत्र
  • जनता को गुमराह कर रहा है विपक्ष:नायडू
  • गणतंत्र दिवस पर बंद रहेंगे कुछ मेट्रो स्टेशन
  • श्री हजूर साहब के प्रबंधन में दख़लअंदाजी बर्दाश्त नहीं: लोंगोवाल
  • विराट को आखिरी दो वनडे और ट्वंटी-20 सीरीज से विश्राम
  • दृष्टि/नेत्रहीनों को भारतीय मुद्रा की पहचान हेतु आईआईटी राेपड़ ने लाँच की एंड्रायड ऐप ‘रोशनी‘
  • फिल्म निर्माण को बढ़ावा देकर रोजगार सृजन प्राथमिकता : रघुवर
  • प्रियंका को लाकर कांग्रेस ने राहुल की नाकामी स्वीकारी : भाजपा
  • वनवासियों का अभियान चलाकर राजस्व रिकार्डों में दर्ज हो नाम- भूपेश
  • ‘करतारपुर कॉरिडोर मसले पर भारत ने पाकिस्तान को भेजा निमंत्रण’
  • करतारपुर गलियारा परियोजना धीमी प्रगति के लिए कैप्टन सरकार जिम्मेदार: छीना
  • बारामूला मुठभेड़: तीन आंतकवादी ढेर, अभियान जारी
  • कुश्ती लीग की 50 यादगार कुश्तियों पर किताब रिलीज़
  • एनडीआरएफ को पहला नेताजी सुभाष चंद्र बोस आपदा प्रबंधन पुरस्कार
खेल Share

खेल विधेयक लाने में राजनीतिक इच्छाशक्ति का अभाव: बिंद्रा

खेल विधेयक लाने में राजनीतिक इच्छाशक्ति का अभाव: बिंद्रा

नयी दिल्ली, 13 जुलाई (वार्ता) अोलंपिक के एकमात्र व्यक्तिगत भारतीय स्वर्ण विजेता निशानेबाज़ अभिनव बिंद्रा ने मौजूदा व्यवस्था पर कड़ा प्रहार करते हुये शुक्रवार को कहा कि आज देश में खेल विधेयक की सख्त जरूरत है लेकिन इसे लाने में राजनीतिक इच्छाशक्ति का अभाव है।

बिंद्रा ने ओपीपीआई (स्वास्थ्य और उम्मीद) के वार्षिक सम्मेलन में अपने करियर की शुरूआत से लेकर मौजूदा खेल व्यवस्था पर बारीकी से नज़र डालते हुये कहा,“ हम हर ओलंपिक के समय इस बात का ही रोना रोते हैं कि हमें एक दो पदक क्यों मिले, यह सिलसिला अगले चार वर्ष तक फिर बना रहता है। चार वर्ष बाद फिर वैसी ही स्थिति रहती है और हम इसी तरह शोर मचाते हैं जबकि हमें अपनी योजना में निरंतरता बनाये रखने की जरूरत है।”

निशानेबाजी से संन्यास ले चुके और अब देश में युवा निशानेबाजों को तैयार कर रहे बिंद्रा ने कहा,“ देश में खेल प्रशासन में बदलाव लाने की सख्त जरूरत है। खेल विधेयक आज के समय की जरूरत है लेकिन अफसोस इस बात का है कि राजनीतिक इच्छाशक्ति के अभाव में खेल विधेयक नहीं लाया जा रहा है। जब तक हम ऐसा नहीं करेंगे तो हम हर चार वर्ष बाद ओलंपिक के समय इसी बात का शोर मचाएंगे कि हमें ज्यादा पदक क्यों नहीं मिलते।”

2008 के बीजिंग ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने वाले बिंद्रा ने खेल परिदृश्य में सुधार लाने के लिये कहा,“ योजना में निरंतरता लानी होगी, ग्रास रूट स्तर पर खेलों को बढ़ावा देना होगा और युवा प्रतिभाओं में निवेश करना हाेगा तभी जाकर हम भविष्य के लिये अच्छे खिलाड़ी सामने ला पाएंगे। जब तक आप एक नयी पौध तैयार नहीं करेंगे तो भविष्य के चैंपियन कैसे तैयार होंगे।”

 

More News

सायना दूसरे दौर में

23 Jan 2019 | 6:44 PM

जकार्ता, 23 जनवरी (वार्ता) आठवीं वरीयता प्राप्त भारत की सायना नेहवाल ने बुधवार को संघर्षपूर्ण जीत के साथ इंडोनेशिया मास्टर्स बैडमिंटन टूर्नामेंट के दूसरे दौर में प्रवेश कर लिया।

 Sharesee more..
भारत ने बेहतर खेल का प्रदर्शन किया: विलियम्सन

भारत ने बेहतर खेल का प्रदर्शन किया: विलियम्सन

23 Jan 2019 | 6:25 PM

नेपियर, 23 जनवरी (वार्ता) भारत के हाथों सीरीज के पहले वनडे में बुधवार को आठ विकेट से मिली मात के बाद न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियम्सन ने कहा कि उनकी टीम ने बेहतर प्रदर्शन नहीं किया।

 Sharesee more..
टीम के समर्थन ने मुझे मजबूत बनाया: शमी

टीम के समर्थन ने मुझे मजबूत बनाया: शमी

23 Jan 2019 | 6:00 PM

नेपियर, 23 जनवरी (वार्ता) न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले मैच में 19 रन पर तीन विकेट लेकर मैन ऑफ द मैच बने भारतीय तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने बुधवार को कहा कि चोट के बाद वापसी करना आसान नहीं होता है लेकिन टीम के समर्थन से उन्होंने मैदान में सफल वापसी की।

 Sharesee more..
image