Friday, Nov 16 2018 | Time 17:02 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • अादमपुर , बठिंडा तथा पठानकोट सबसे ठंडे
  • छत्तीसगढ़ में 10 वर्षों में बिजली दरों में हुआ 300 प्रतिशत का इजाफा - शेरगिल
  • हायर का दिल्ली-एनसीआर में पहला एक्सपीरियंस स्टोर
  • हिमालया का खुश रहो- खुशहाल रहो अभियान हुआ लॉन्च
  • चेन्नई सर्राफा के भाव
  • 1984 दंगों के एक मामले में गवाह ने सज्जन कुमार को पहचाना
  • ममता ने ‘राष्ट्रीय प्रेस दिवस’ के मौके पर पत्रकारों को दी बधाई
  • किम जोंग उन ने नये हथियारों का किया निरीक्षण
  • वसुंधरा शनिवार दाखिल करेगी अपना नामांकन पत्र
  • ग्रुप में शीर्ष स्थान की जंग लड़ेंगे भारत-आस्ट्रेलिया
  • ग्रुप में शीर्ष स्थान की जंग लड़ेंगे भारत-आस्ट्रेलिया
  • सेंसेक्स 196 अंक उछला;निफ्टी 65 अंक चढ़ा
  • प्यार की बात करने का दावा करने वाली कांग्रेस को मध्यप्रदेश में आता है सिर्फ गुस्सा : मोदी
  • फुटपाथ विक्रेताओं को व्यवस्थित करना प्राथमिकता : रघुवर
  • श्रीकांत क्वार्टरफाइनल में हारकर बाहर
खेल Share

खेल विधेयक लाने में राजनीतिक इच्छाशक्ति का अभाव: बिंद्रा

खेल विधेयक लाने में राजनीतिक इच्छाशक्ति का अभाव: बिंद्रा

नयी दिल्ली, 13 जुलाई (वार्ता) अोलंपिक के एकमात्र व्यक्तिगत भारतीय स्वर्ण विजेता निशानेबाज़ अभिनव बिंद्रा ने मौजूदा व्यवस्था पर कड़ा प्रहार करते हुये शुक्रवार को कहा कि आज देश में खेल विधेयक की सख्त जरूरत है लेकिन इसे लाने में राजनीतिक इच्छाशक्ति का अभाव है।

बिंद्रा ने ओपीपीआई (स्वास्थ्य और उम्मीद) के वार्षिक सम्मेलन में अपने करियर की शुरूआत से लेकर मौजूदा खेल व्यवस्था पर बारीकी से नज़र डालते हुये कहा,“ हम हर ओलंपिक के समय इस बात का ही रोना रोते हैं कि हमें एक दो पदक क्यों मिले, यह सिलसिला अगले चार वर्ष तक फिर बना रहता है। चार वर्ष बाद फिर वैसी ही स्थिति रहती है और हम इसी तरह शोर मचाते हैं जबकि हमें अपनी योजना में निरंतरता बनाये रखने की जरूरत है।”

निशानेबाजी से संन्यास ले चुके और अब देश में युवा निशानेबाजों को तैयार कर रहे बिंद्रा ने कहा,“ देश में खेल प्रशासन में बदलाव लाने की सख्त जरूरत है। खेल विधेयक आज के समय की जरूरत है लेकिन अफसोस इस बात का है कि राजनीतिक इच्छाशक्ति के अभाव में खेल विधेयक नहीं लाया जा रहा है। जब तक हम ऐसा नहीं करेंगे तो हम हर चार वर्ष बाद ओलंपिक के समय इसी बात का शोर मचाएंगे कि हमें ज्यादा पदक क्यों नहीं मिलते।”

2008 के बीजिंग ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने वाले बिंद्रा ने खेल परिदृश्य में सुधार लाने के लिये कहा,“ योजना में निरंतरता लानी होगी, ग्रास रूट स्तर पर खेलों को बढ़ावा देना होगा और युवा प्रतिभाओं में निवेश करना हाेगा तभी जाकर हम भविष्य के लिये अच्छे खिलाड़ी सामने ला पाएंगे। जब तक आप एक नयी पौध तैयार नहीं करेंगे तो भविष्य के चैंपियन कैसे तैयार होंगे।”

 

More News
श्रीकांत क्वार्टरफाइनल में हारकर बाहर

श्रीकांत क्वार्टरफाइनल में हारकर बाहर

16 Nov 2018 | 4:56 PM

कोलून, 16 नवंबर (वार्ता) चौथी वरीयता प्राप्त किदाम्बी श्रीकांत को यहां हांगकांग ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट में शुक्रवार को पुरूष एकल क्वार्टरफाइनल में अपने से निम्न वरीय जापानी खिलाड़ी केंतो निशिमोताे से उलटफेर का सामना करना पड़ गया।

 Sharesee more..

16 Nov 2018 | 4:34 PM

 Sharesee more..
पहली बार जॉर्डन से भिड़ने को तैयार भारत

पहली बार जॉर्डन से भिड़ने को तैयार भारत

16 Nov 2018 | 4:56 PM

नयी दिल्ली, 16 नवम्बर (वार्ता) भारत अपने फुटबॉल इतिहास में पहली बार जॉर्डन से भिड़ने जा रहा है और यह ऐतिहासिक मुकाबला शनिवार को जॉर्डन के अपने शहर अम्मान में होगा जिसके लिये भारतीय फुटबाल कोच स्टीफन कोंस्टेनटाइन ने अपनी 22 सदस्यीय टीम घोषित कर दी है।

 Sharesee more..

16 Nov 2018 | 3:12 PM

 Sharesee more..
एंडरसन को हरा 15वीं बार एटीपी सेमीफाइनल में फेडरर

एंडरसन को हरा 15वीं बार एटीपी सेमीफाइनल में फेडरर

16 Nov 2018 | 2:42 PM

लंदन, 16 नवंबर (वार्ता) स्विस मास्टर रोजर फेडरर ने एटीपी फाइनल्स में दक्षिण अफ्रीका के केविन एंडरसन को लगातार सेटों में 6-4, 6-3 से पराजित कर विंबलडन की हार का बदला चुकता किया, हालांकि दोनों खिलाड़ियों ने सेमीफाइनल में अपनी जगह पक्की कर ली है।

 Sharesee more..
image