Tuesday, Nov 20 2018 | Time 17:30 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मैरीकॉम और लवलीना सेमीफाइनल में, दो पदक पक्के
  • शाओमी की 5000 एमआई स्टोर खोलने की योजना
  • कपाल मोचन मेला 19 से 24 नवम्बर तक बिलासपुर में
  • संस्कृत शिक्षा जरूरी : लालजी टंडन
  • राजद्रोह मामले में अल्पेश कथिरिया की जमानत अर्जी मंजूर, पर जेल से नहीं छूट पायेंगे
  • हमारी नेकनीयती को मजबूरी न समझें विकसित देश : हर्षवर्द्धन
  • सिख दंगों के एक मामले में एक को फांसी, दूसरे को आजीवन कारावास
  • 24 साल हर रोज परीक्षा दी: सचिन
  • दो तिहाई से ज्यादा बहुमत से बनेगी भाजपा की सरकार-गोयल
  • कांग्रेस जहां से गई, लौट कर नहीं आई : मोदी
  • राजस्थान में सभी विधानसभा सीटों के लिए सामान्य पर्यवेक्षक नियुक्त
  • कांग्रेस जहां से गई, लौट कर नहीं आई : मोदी
  • कांग्रेस ने त्रिपुरा में शहरी निकाय उपचुनाव लड़ने का किया फैसला
  • अय्यप्पा भक्तों के साथ कैदियों जैसा बर्ताव नहीं कर सकते विजयन: शाह
  • राजद्रोह मामले में अल्पेश कथिरिया की जमानत अर्जी मंजूर, पर जेल से नहीं छूट पायेंगे
खेल Share

खेल विधेयक लाने में राजनीतिक इच्छाशक्ति का अभाव: बिंद्रा

खेल विधेयक लाने में राजनीतिक इच्छाशक्ति का अभाव: बिंद्रा

नयी दिल्ली, 13 जुलाई (वार्ता) अोलंपिक के एकमात्र व्यक्तिगत भारतीय स्वर्ण विजेता निशानेबाज़ अभिनव बिंद्रा ने मौजूदा व्यवस्था पर कड़ा प्रहार करते हुये शुक्रवार को कहा कि आज देश में खेल विधेयक की सख्त जरूरत है लेकिन इसे लाने में राजनीतिक इच्छाशक्ति का अभाव है।

बिंद्रा ने ओपीपीआई (स्वास्थ्य और उम्मीद) के वार्षिक सम्मेलन में अपने करियर की शुरूआत से लेकर मौजूदा खेल व्यवस्था पर बारीकी से नज़र डालते हुये कहा,“ हम हर ओलंपिक के समय इस बात का ही रोना रोते हैं कि हमें एक दो पदक क्यों मिले, यह सिलसिला अगले चार वर्ष तक फिर बना रहता है। चार वर्ष बाद फिर वैसी ही स्थिति रहती है और हम इसी तरह शोर मचाते हैं जबकि हमें अपनी योजना में निरंतरता बनाये रखने की जरूरत है।”

निशानेबाजी से संन्यास ले चुके और अब देश में युवा निशानेबाजों को तैयार कर रहे बिंद्रा ने कहा,“ देश में खेल प्रशासन में बदलाव लाने की सख्त जरूरत है। खेल विधेयक आज के समय की जरूरत है लेकिन अफसोस इस बात का है कि राजनीतिक इच्छाशक्ति के अभाव में खेल विधेयक नहीं लाया जा रहा है। जब तक हम ऐसा नहीं करेंगे तो हम हर चार वर्ष बाद ओलंपिक के समय इसी बात का शोर मचाएंगे कि हमें ज्यादा पदक क्यों नहीं मिलते।”

2008 के बीजिंग ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने वाले बिंद्रा ने खेल परिदृश्य में सुधार लाने के लिये कहा,“ योजना में निरंतरता लानी होगी, ग्रास रूट स्तर पर खेलों को बढ़ावा देना होगा और युवा प्रतिभाओं में निवेश करना हाेगा तभी जाकर हम भविष्य के लिये अच्छे खिलाड़ी सामने ला पाएंगे। जब तक आप एक नयी पौध तैयार नहीं करेंगे तो भविष्य के चैंपियन कैसे तैयार होंगे।”

 

More News

20 Nov 2018 | 5:21 PM

 Sharesee more..

20 Nov 2018 | 5:20 PM

 Sharesee more..

24 साल हर रोज परीक्षा दी: सचिन

20 Nov 2018 | 5:08 PM

 Sharesee more..
उलझेंगे नहीं लेकिन विपक्षियों ने सीमा पार की ताे जवाब देंगे: विराट

उलझेंगे नहीं लेकिन विपक्षियों ने सीमा पार की ताे जवाब देंगे: विराट

20 Nov 2018 | 4:49 PM

ब्रिसबेन, 20 नवंबर (वार्ता) भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने आस्ट्रेलिया के खिलाफ गुरूवार को खेले जाने वाले पहले ट्वंटी 20 मुकाबले से पूर्व एक बार फिर दोहराया कि उनकी टीम विपक्षियों से उलझेगी नहीं लेकिन यदि वे सीमा पार करेंगे तो जवाब देने में भारतीय खिलाड़ी हिचकेंगे भी नहीं।

 Sharesee more..
image