Sunday, Feb 17 2019 | Time 15:03 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • हरियाणा की राष्ट्रपति भवन को मुर्रा भैंस और साहीवाल गाय देने की पेशकश
  • शहीदों के परिजनों से प्रियंका ने बात की, मदद का भरोसा दिया
  • पुणे ने किया जमशेदपुर का नुकसान, बेंगलुरू प्लेआफ में
  • बीसीसीआई शहीदों के परिवारों को दे 5 करोड़ की मदद : सीके खन्ना
  • मुस्लिम फ्रंट ने की पुलवामा हमले की पुरजोर निंदा
  • सोना 170 रुपये महंगा; चांदी स्थिर
  • शंकराचार्य ने अयोध्या के लिए 'रामाग्रह यात्रा' स्थगित की
  • कृषि के क्षेत्र में देश का नेतृत्व करे हरियाणा:कोविंद
  • अफगानिस्तान में बम विस्फोट से तीन लोगों की मौत
  • मोदी ने कहा, जो आग आपके दिल में है, वही आग मेरे दिल में भी
  • कृषि के क्षेत्र में देश का नेतृत्व करे हरियाणा:कोविंद
  • उत्तर प्रदेश में 107 वरिष्ठ पीसीएस अधिकारियों का तबादला
  • जम्मू में कर्फ्यू तीसरे दिन भी जारी, स्थिति सामान्य
  • आगरा- सड़क दुर्घटना में तीन महिलाओं और बच्चे सहित पांच लोगों की मृत्यु
  • श्रीनगर समेत घाटी के अन्य हिस्सों में मोबाइल इंटरनेट पर रोक
खेल Share

लक्ष्य ने 53 साल बाद स्वर्ण जीत रचा इतिहास, बाई देगा 10 लाख

लक्ष्य ने 53 साल बाद स्वर्ण जीत रचा इतिहास, बाई देगा 10 लाख

नयी दिल्ली, 22 जुलाई (वार्ता) छठी सीड भारत के लक्ष्य सेन ने शानदार प्रदर्शन करते हुए टॉप सीड थाईलैंड के कुनलावुत वितिदसरन को रविवार को लगातार गेमों में 21-19, 21-18 से शिकस्त देकर इंडोनेशिया के जकार्ता में एशियाई जूनियर बैडमिंटन चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक जीतकर इतिहास रच दिया।

लक्ष्य ने क्वार्टर फाइनल में दूसरी सीड ली शीफेंग को मात दी थी और फाइनल में उन्होंने शीर्ष वरीय खिलाड़ी को 46 मिनट में हरा दिया। लक्ष्य की इस उपलब्धि के लिए भारतीय बैडमिंटन संघ (बाई) ने उन्हें 10 लाख रुपये पुरस्कार राशि की घोषणा की है।

उत्तराखंड के 18 साल के लक्ष्य 1965 में गौतम ठक्कर के स्वर्ण जीतने के 53 साल बाद स्वर्ण जीतने वाले पहले भारतीय पुरुष खिलाड़ी बन गए। प्रतिभावान खिलाड़ी लक्ष्य इसी के साथ ही इस प्रतियोगिता में पदक जीतने वाले भारतीय खिलाड़ियों गौतम ठक्कर (स्वर्ण-1965), प्रणव चोपड़ा/प्राजक्ता सावंत (कांस्य-2009), समीर वर्मा (रजत-2011) और पी.वी. सिंधू (कांस्य-2011) और (स्वर्ण-2012), समीर वर्मा (कांस्य)2012 की श्रेणी में शामिल हो गए।

लक्ष्य का अपने करियर में थाईलैंड के खिलाड़ी से पहली बार मुकाबला था और उन्होंने नजदीकी मुकाबले में जीत हासिल कर अपने पदक का रंग बदल दिया। इससे पहले उन्होंने एशियाई जूनियर चैम्पियनशिप में कांस्य पदक जीता था।

 

image