Monday, Dec 9 2019 | Time 05:14 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • फिनलैंड में सन्ना बनी सबसे कम उम्र में प्रधानमंत्री निर्वाचित होने वाली महिला
  • महाभियोग लेख इस सप्ताह पेश किया जा सकता है: जेरी
  • कोस्टा रिका में मध्य स्तर के भूकंप के झटके
  • ईरान में सीमा रक्षकों ने 500 किलोग्राम अफीम जब्त किया
  • नेतन्याहू ने गाजा पट्टी में संभावित सैन्य अभियान की तैयारी का दिया आदेश
  • उत्तर कोरिया को परमाणु निरस्त्रीकरण के समझौत पर अमल करना चाहिए:ट्रम्प
खेल


आंसुओं को बहने दो, ये तुम्हें और मजबूत बनाएंगे: सचिन

आंसुओं को बहने दो, ये तुम्हें और मजबूत बनाएंगे: सचिन

नयी दिल्ली, 20 नवंबर (वार्ता) भारत रत्न सचिन तेंदुलकर ने कहा है कि पुरूषों को अपनी भावनाआें को छिपाना नहीं चाहिये और मुश्किल पलों में यदि वे भावुक हो जाएं तो अपने आंसुओं को बहने दें जाे उन्हें और मजबूत बनाएंगे।

सचिन ने इंटरनेशनल मेन्स वीक के मौके पर सभी युवा लड़कों और पुरूषों के नाम एक पत्र लिखा है जिसमें उन्होंने पुरूषों से मजबूत बनने के लिये भावनाओं का खुलकर इजहार करने की अपील की है।

अपने अंतरराष्ट्रीय करियर से 16 नवंबर 2013 को संन्यास लेने वाले पूर्व क्रिकेटर के क्रिकेट को अलविदा कहे छह वर्ष हो चुके हैं। सचिन ने इस पत्र में अपनी भावनाओं का भी जिक्र किया है और लिखा,“ यह ठीक है कि पुरूष रोएं। यह संदेश इसलिये है कि अपनी भावनाएं दिखाने के बावजूद एक पुरूष की पौरूषता कम नहीं होती।”

सचिन ने लिखा कि आप जल्द ही पति, पिता, भाई, दोस्त, मेंटर और अध्यापक बनेंगे। आपको उदाहरण तय करने होंगे। आपको मजबूत और साहसी बनना होगा। लेकिन अापके जीवन में ऐसे पल आएंगे जब आपको डर, संदेह और परेशानियों का अनुभव होगा। वह समय भी आएगा जब आप विफल होंगे और आपको रोने का मन करेगा।

लेकिन यकीनन ऐसे समय में आप अपने आंसुओं को रोक लेंगे और मजबूत दिखाने का प्रयास करेंगे, क्येंकि पुरूष ऐसा ही करते हैं। पुरूषों को इसी तरह बड़ा किया जाता है कि पुरूष कभी रोते नहीं। रोने से आदमी कमजोर होते हैं।

उन्होंने कहा कि वह भी इसी तरह बड़े हुये हैं, लेकिन वह गलत थे। उनके दर्द और संघर्ष ने ही उन्हें इतना मजबूत और सफल बनाया है। सचिन ने कहा कि वह अपने जीवन में कभी भी 16 नवंबर 2013 की तारीख को भूल नहीं सकते हैं। उनके लिये उस दिन अाखिरी बार पवेलियन लौटना बहुत मुश्किल थे और दिमाग में बहुत कुछ चल रहा था। उनका गला रूंध गया था लेकिन फिर अचानक उनके आंसू दुनिया के सामने बह निकले और हैरानी की बात है कि उसके बाद वह शांति महसूस करने लगे थे।

भारतीय क्रिकेट की सबसे सफल शख्सियत सचिन ने कहा कि रोने और आंसू दिखाने में काेई शर्म नहीं है यह आपके जीवन का हिस्सा है और इससे आप मजबूत बनते हैं।

प्रीति राज

वार्ता

More News
विंडीज ने आसान जीत के साथ सीरीज बराबर की

विंडीज ने आसान जीत के साथ सीरीज बराबर की

08 Dec 2019 | 11:52 PM

तिरुवनंतपुरम, 08 दिसंबर (वार्ता) अनुभवी ओपनर लेंडल सिमंस की नाबाद 67 रन की शानदार पारी के दम पर वेस्ट इंडीज ने भारत को दूसरे टी-20 मुकाबले में रविवार को नौ गेंद शेष रहते आठ विकेट से हराकर तीन मैचों की सीरीज में 1-1 से बराबरी कर ली।

see more..
चेन्नई लेग में मुम्बई फाल्कंस ने जीती 2 रेस

चेन्नई लेग में मुम्बई फाल्कंस ने जीती 2 रेस

08 Dec 2019 | 11:52 PM

चेन्नई, 08 दिसम्बर (वार्ता) कुश माएनी और मिकेस जानसन (डेनमार्क) के प्रतिनिधित्व वाली मुम्बई फाल्कंस टीम ने रविवार को एमएमआरटी में आयोजित फ्रेंचाइजी बेस्ड एक्स1 रेसिंग लीग के पहले संस्करण के दूसरे चरण में तीन में से दो रेस अपने नाम की। एक रेस में अर्जुन माएनी और ओलीवर वेब (इंग्लैंड) के प्रतिनिधित्व वाली बेंगलोर रेसिंग स्टार्स टीम विजयी रही।

see more..
शिवम दुबे का अर्धशतक, भारत के 170

शिवम दुबे का अर्धशतक, भारत के 170

08 Dec 2019 | 9:45 PM

तिरुवनंतपुरम, 08 दिसंबर (वार्ता) शिवम दुबे (54) के बेहतरीन अर्धशतक की बदौलत भारत ने रविवार को वेस्टइंडीज के खिलाफ दूसरे टी-20 मुकाबले में सात विकेट पर 170 रन बना लिए।

see more..
तैराकों, जूडोकाओं, पहलवानों, तलवारबाजों का स्वर्णिम जलवा

तैराकों, जूडोकाओं, पहलवानों, तलवारबाजों का स्वर्णिम जलवा

08 Dec 2019 | 9:45 PM

काठमांडू, 08 दिसंबर (वार्ता) भारत ने यहां चल रहे 13वें दक्षिण एशियाई खेलों में अपना दबदबा कायम रखते हुए रविवार को जूडो मुकाबलों में पांच स्वर्ण, तैराकी में छह स्वर्ण, कुश्ती में चार स्वर्ण, तलवारबाजी में तीन स्वर्ण और टेनिस में दो स्वर्ण पदक जीत लिए।

see more..
भारतीय जूडोकाओं ने 5 स्वर्ण और तैराकों ने 6 स्वर्ण जीते

भारतीय जूडोकाओं ने 5 स्वर्ण और तैराकों ने 6 स्वर्ण जीते

08 Dec 2019 | 9:45 PM

काठमांडू, 08 दिसंबर (वार्ता) भारत ने यहां चल रहे 13वें दक्षिण एशियाई खेलों में अपना दबदबा कायम रखते हुए रविवार को जूडो मुकाबलों में पांच स्वर्ण, तैराकी में छह स्वर्ण और तलवारबाजी में तीन स्वर्ण पदक जीत लिए। भारत के अब तक 125 स्वर्ण, 74 रजत और 40 कांस्य पदक सहित कुल 239 पदक हो गए हैं।

see more..
image