Sunday, May 31 2020 | Time 11:52 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सरकार बताये की पिछले वर्षों में साइन किए गए एमओयू का क्या हुआ : मायावती
  • सेरोटोनिन: एक सामान्य मस्तिष्क रसायन से होता है टिड्डियों का प्रकोप
  • धौलपुर जिले के बाडी कस्बे में मिले चार कोरोना पॉजीटिव
  • देश में कोरोना के एक दिन में सर्वाधिक 8000 से अधिक नये मामले
  • अजमेर से पश्चिम बंगाल एवं बिहार के श्रमिकों को लेकर ट्रेन रवाना
  • कोरोना का संकट अब भी उतना ही गंभीर, लापरवाही नहीं चल सकती, सब उतनी ही सावधानी बरतेें : मोदी
  • पर्यावरण दिवस पर पेड़ लगायें, पक्षियों के लिए पानी का इंतजाम करें : मोदी
  • जल संचयन हमारी जिम्मेदारी, वर्षा का पानी बूंद बूंद बचाना है : मोदी
  • टिड्डी दल का हमला बड़ा संकट, किसानों को बचा लेंगे : मोदी
  • दिल्ली में बारिश से तापमान में गिरावट
  • अम्फान से पूर्वी भारत में भारी नुकसान, संकट की घड़ी में देश उनके साथ खड़ा है : मोदी
  • अजमेर में एक कांस्टेबल ने आत्महत्य का किया प्रयास
  • आयुष्मान भारत योजना के एक करोड़ लाभार्थियों में 80 प्रतिशत गांवों के हैं, 50 प्रतिशत महिलाएंं : मोदी
  • आयुष्मान भारत योजना ने गरीबों के 14 हजार करोड़ रुपये बचाये : मोदी
  • लोग आयुष मंत्रालय की ‘माई लाइफ माई योग’ प्रतियोगिता में अवश्य भाग लें : मोदी
विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी


अगले 82 साल तक नहीं लगेगा इतना लंबा चंद्रग्रहण

अगले 82 साल तक नहीं लगेगा इतना लंबा चंद्रग्रहण

नयी दिल्ली 13 जुलाई (वार्ता) इस सदी का सबसे लंबा पूर्ण चंद्रग्रहण 27-28 जुलाई की रात को लगेगा जो करीब पौने दो घंटे तक रहेगा। खास बात यह होगी इस बार देश के सभी हिस्सों से इसे देखा जा सकेगा।

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय ने बताया कि एक घंटे 43 मिनट तक चंद्रमा पूरी तरह पृथ्वी की छाया में होगा जो न सिर्फ वर्ष 2001 से अब तक का सबसे लंबा पूर्ण चंद्रग्रहण होगा बल्कि अगले 82 साल यानी वर्ष 2100 तक इतना लंबा पूर्ण चंद्रग्रहण दुबारा नहीं लगेगा।

इसके अलावा 27 जुलाई को लाल ग्रह मंगल पृथ्वी के ठीक सामने होगा। इस प्रकार उस दिन पृथ्वी सूर्य और मंगल के बीच में होगी। इस प्रकार जुलाई के अंतिम और अगस्त के शुरुआती दिनों में सूर्यास्त से सूर्योदय तक पूरे समय मंगल दिखायी देगा तथा आम दिनों के मुकाबले ज्यादा चमकीला नजर आयेगा। यह 31 जुलाई को पृथ्वी के सबसे करीब होगा।

आंशिक चंद्रग्रहण 27 जुलाई की रात 11 बजकर 54 मिनट पर शुरू होगा और धीरे-धीरे चंद्रमा पर पृथ्वी की छाया बढ़ती जायेगी तथा (28 जुलाई) रात एक बजे यह पूर्ण चंद्रग्रहण में बदल जायेगा। रात दो बजकर 43 मिनट तक पूर्ण चंद्रग्रहण रहेगा जबकि आंशिक चंद्रग्रहण तड़के तीन बजकर 49 मिनट पर समाप्त होगा।

चंद्रग्रहण की रात मंगल की स्थिति चंद्रमा की रेखा के काफी करीब होगी और ग्रहण के दौरान इसे बिना किसी उपकरण के भी देखा जा सकेगा। मंगल औसतन हर 26 महीने में एक बार पृथ्वी से सूर्य के ठीक विपरीत आता है। यह 2003 के बाद पहली बार होगा जब मंगल पृथ्वी के इतना करीब होगा और इतना चमकीला दिखेगा। अगस्त 2003 में यह लगभग 60 हजार साल में पृथ्वी के सबसे निकट आया था।

चंद्रमा 27 जुलाई को अपनी कक्षा में पृथ्वी से सबसे ज्यादा दूरी पर होगा जिससे अपनी कक्षा में इसकी गति कम होगी। इन्हीं दो कारणों से यह चंद्रग्रहण इतना लंबा होगा। इससे लंबा पूर्ण चंद्रग्रहण 16 जुलाई 2000 को लगा था जब यह एक घंटे 46 मिनट रहा था। इसी तरह का पूर्ण चंद्रग्रहण 15 जून 2011 को लगा था जो एक घंटे 40 मिनट तक दिखा था।

भारत के अलावा यह चंद्रग्रहण एशिया के अन्य हिस्सों, ऑस्ट्रेलिया, रूस के कुछ हिस्सों, अफ्रीका, यूरोप, दक्षिण अमेरिका के पूर्वी हिस्सों और अंटार्कटिका में भी देखा जा सकेगा।

अजीत अरविंद

वार्ता

More News
पायरिया, मधुमेह नियंत्रण में बाधक,दिल की बीमारी का भी खतरा

पायरिया, मधुमेह नियंत्रण में बाधक,दिल की बीमारी का भी खतरा

12 Dec 2019 | 5:53 PM

(डाॅ़ आशा मिश्रा उपाध्याय से) नयी दिल्ली 12 दिसंबर(वार्ता) दांतों की गंभीर बीमारी पायरिया के प्रति शुरु से सजग नहीं रहने पर मधुमेह नियंत्रण में मुश्किलें आती हैं और कोरोनरी आर्टरीज डिजीज का खतरा बढ़ जाता है।

see more..
कैंसर की जंग में मददगार जर्मन डॉक्टर की चिकित्सा पद्धति

कैंसर की जंग में मददगार जर्मन डॉक्टर की चिकित्सा पद्धति

05 Dec 2019 | 4:38 PM

(डाॅ़ आशा मिश्रा उपाध्याय) नयी दिल्ली, 05 दिसंबर (वार्ता) कैंसर समेत 50 से अधिक गंभीर बीमारियों के इलाज में सफलता का परचम लहराने वाली जर्मनी की डॉ़ जोहाना बडविग ने अपनी प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति में कीमोथेरेपी और रेडिएशन को शामिल करने से इंकार कर दिया था जिसके कारण सात बार नामित होने के बावजूद उन्हें नोबेल पुरस्कार से वंचित रखा गया, पर आज उनकी चिकित्सा पद्धति से विश्वभर के कैंसर रोगी नया जीवन प्राप्त कर रहे हैं।

see more..
image