Wednesday, Feb 20 2019 | Time 18:41 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मंत्री ने धार्मिक,पुरातात्विक,ऐतिहासिक एवं सांस्कृतिक स्थलों की मांगी जानकारी
  • गडकरी ने किया मुरादाबाद और मेरठ में करोड़ों की परियोजनाओं का शिलान्यास
  • टेलर ने फ्लेमिंग को पीछे छोड़ा
  • आरपीएफ को विशेष अभियान में 922 लावारिस बच्चे मिले
  • नामवर पंचतत्व में विलीन, साहित्य में शोक की लहर
  • श्रम कार्ड के लम्बित आवेदनों का 15 दिन में होगा निस्तारण - डहरिया
  • जोशी ने दिये शहीद के आश्रित के लिए डेढ़ लाख
  • देश को गर्त में धकेलने का प्रयास कर रहे हैं विपक्षी दल-शर्मा
  • पाकिस्तान के खिलाफ भड़काऊ बयान देकर करतारपुर कॉरीडोर को नुकसान पहुंचा रहे : खेहरा
  • 73 साल की सुनीता के लिए उम्र सिर्फ एक नंबर
  • राष्ट्रीय ग्रिड से बिजली उपलब्ध कराना हुआ आसान : राजकुमार
  • चौथी भारत-आसियान प्रदर्शनी एवं सम्मेलन कल से
  • छत्तीसगढ़ सरकार पंचायतों से रेत खदाने लेंगी वापस – भूपेश
  • भारत से जाने वाले हाजियों का काेटा बढ़ा
  • अमेरिका आईएनएफ संधि से हटने को लेकर गंभीर नहीं : पुतिन
विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी Share

अगले 82 साल तक नहीं लगेगा इतना लंबा चंद्रग्रहण

अगले 82 साल तक नहीं लगेगा इतना लंबा चंद्रग्रहण

नयी दिल्ली 13 जुलाई (वार्ता) इस सदी का सबसे लंबा पूर्ण चंद्रग्रहण 27-28 जुलाई की रात को लगेगा जो करीब पौने दो घंटे तक रहेगा। खास बात यह होगी इस बार देश के सभी हिस्सों से इसे देखा जा सकेगा।

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय ने बताया कि एक घंटे 43 मिनट तक चंद्रमा पूरी तरह पृथ्वी की छाया में होगा जो न सिर्फ वर्ष 2001 से अब तक का सबसे लंबा पूर्ण चंद्रग्रहण होगा बल्कि अगले 82 साल यानी वर्ष 2100 तक इतना लंबा पूर्ण चंद्रग्रहण दुबारा नहीं लगेगा।

इसके अलावा 27 जुलाई को लाल ग्रह मंगल पृथ्वी के ठीक सामने होगा। इस प्रकार उस दिन पृथ्वी सूर्य और मंगल के बीच में होगी। इस प्रकार जुलाई के अंतिम और अगस्त के शुरुआती दिनों में सूर्यास्त से सूर्योदय तक पूरे समय मंगल दिखायी देगा तथा आम दिनों के मुकाबले ज्यादा चमकीला नजर आयेगा। यह 31 जुलाई को पृथ्वी के सबसे करीब होगा।

आंशिक चंद्रग्रहण 27 जुलाई की रात 11 बजकर 54 मिनट पर शुरू होगा और धीरे-धीरे चंद्रमा पर पृथ्वी की छाया बढ़ती जायेगी तथा (28 जुलाई) रात एक बजे यह पूर्ण चंद्रग्रहण में बदल जायेगा। रात दो बजकर 43 मिनट तक पूर्ण चंद्रग्रहण रहेगा जबकि आंशिक चंद्रग्रहण तड़के तीन बजकर 49 मिनट पर समाप्त होगा।

चंद्रग्रहण की रात मंगल की स्थिति चंद्रमा की रेखा के काफी करीब होगी और ग्रहण के दौरान इसे बिना किसी उपकरण के भी देखा जा सकेगा। मंगल औसतन हर 26 महीने में एक बार पृथ्वी से सूर्य के ठीक विपरीत आता है। यह 2003 के बाद पहली बार होगा जब मंगल पृथ्वी के इतना करीब होगा और इतना चमकीला दिखेगा। अगस्त 2003 में यह लगभग 60 हजार साल में पृथ्वी के सबसे निकट आया था।

चंद्रमा 27 जुलाई को अपनी कक्षा में पृथ्वी से सबसे ज्यादा दूरी पर होगा जिससे अपनी कक्षा में इसकी गति कम होगी। इन्हीं दो कारणों से यह चंद्रग्रहण इतना लंबा होगा। इससे लंबा पूर्ण चंद्रग्रहण 16 जुलाई 2000 को लगा था जब यह एक घंटे 46 मिनट रहा था। इसी तरह का पूर्ण चंद्रग्रहण 15 जून 2011 को लगा था जो एक घंटे 40 मिनट तक दिखा था।

भारत के अलावा यह चंद्रग्रहण एशिया के अन्य हिस्सों, ऑस्ट्रेलिया, रूस के कुछ हिस्सों, अफ्रीका, यूरोप, दक्षिण अमेरिका के पूर्वी हिस्सों और अंटार्कटिका में भी देखा जा सकेगा।

अजीत अरविंद

वार्ता

More News
दिमाग में छिपा है ऑस्टियोपोरोसिस का इलाज

दिमाग में छिपा है ऑस्टियोपोरोसिस का इलाज

20 Jan 2019 | 5:56 PM

सैन फ्रांसिस्को, 20 जनवरी (शिन्हुआ) वैज्ञानिकों के एक बेहद अहम अनुसंधान में महिलाओं में बढ़ती उम्र में हड्डियों को कमजोर और भुरभुरा करने वाले रोग ‘ऑस्टियोपोरोसिस’ से निजात ही संभव नहीं है बल्कि उसे और मजबूत बनाने में ‘चमत्कारी’ सफलता भी मिल सकेगी।

 Sharesee more..
बढ़ रहे हैं ब्रेन ट्यूमर के मामले, बहरे हो रहे हैं ‘हम’: आईआईटी प्रोफेसर

बढ़ रहे हैं ब्रेन ट्यूमर के मामले, बहरे हो रहे हैं ‘हम’: आईआईटी प्रोफेसर

30 Sep 2018 | 12:55 PM

नयी दिल्ली, 30 सितम्बर (वार्ता) मोबाइल फोन ने जहां हमारी जिन्दगी को आसान बनाया है वहीं इसके प्रयोग संबंधी उचित जानकारियों के अभाव और मोबाइल टावरों से निकालने वाले खतरनाक इलेक्ट्रोमैग्नेटिक रेडिएशन का स्तर अंतरराष्ट्रीय मानक से कई गुणा अधिक होने के कारण हर वर्ष सैकड़ों जिन्दगियां ‘तकनीकी तरक्की’ की भेंट चढ़ रही हैं।

 Sharesee more..
कैंसर के बाद सबसे गंभीर बीमारी ‘लिवर सिरोसिस’

कैंसर के बाद सबसे गंभीर बीमारी ‘लिवर सिरोसिस’

16 Sep 2018 | 2:53 PM

(डाॅ़ आशा मिश्रा उपाध्याय से ) नयी दिल्ली 16 सितम्बर (वार्ता) शरीर की सबसे बड़ी ग्रंथी एवं महत्वपूर्ण अंगों में से एक यकृत में होने वाली सिरोसिस की बीमारी कैंसर के बाद सबसे भंयकर है जिसका अंतिम इलाज ‘लिवर प्रत्यारोपण’है। भारत और पाकिस्तान समेत विकासशील देशों में करीब एक करोड़ लोग इस बीमारी की गिरफ्त में हैं।

 Sharesee more..
image