Sunday, Jul 12 2020 | Time 17:56 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • 14 फुटबॉलरों के कोरोना संक्रमित होने से मैच रद्द
  • बलिया में छह और कोरोना पॉजिटिव,संक्रमितों की संख्या 374 पहुंची
  • बक्सर में बैंक लूटकांड में शामिल चार अपराधी गिरफ्तार
  • देवरिया पुलिस ने चार टाॅप टेन सहित आठ बदमाशों पर की गैंगस्टर के तहत कार्रवाई
  • 200 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए लड़खड़ाया विंडीज
  • कोरोना-पंजाब-जिला प्रशासन
  • उप्र के कई जिलों में फसलों को नुकसान पहुंचाने के बाद लखनऊ शहर पहुंचा टिड्डी दल
  • त्रिपुरा स्टेट राइफल में अब महिलाओं को भी किया जाएगा शामिल
  • बंगलादेश में कोरोना मामले 1 84 लाख के करीब, रिकवरी दर 51 फीसदी
  • बारामूला में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ , दो आतंकवादी ढेर
  • रूस की सेचेनोव यूनिवर्सिटी में कोरोना वैक्सीन का परीक्षण
  • मोदी सरकार बादलों को बेअदबी मामले में बचा नहीं पायेगी : कांग्रेस
  • बहुचर्चित छात्रवृत्ति घोटाले में लखनऊ से दो और गिरफ्तारी
  • सोना तस्करी आरोपी स्वप्ना, संदीप से एनआईए ने की पूछताछ
  • इराक ने मांगी जर्मनी की मदद
राज्य » बिहार / झारखण्ड


उप चुनाव के सीट बंटवारे में ही टूट गयी महागठबंधन की गांठ : सुशील

उप चुनाव के सीट बंटवारे में ही टूट गयी महागठबंधन की गांठ : सुशील

पटना 25 सितंबर (वार्ता) बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने राज्य की पांच विधानसभा सीटों के लिए होने वाले उप चुनाव में राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के चार सीटों पर उम्मीदवारों के नाम घोषणा को लेकर कटाक्ष करते हुये कहा कि पांच दलों के कथित महागठबंधन को बांधने वाली गांठों की मजबूती का अंदाजा इसी से लग रहा है कि वे आपस में सीट बांटने में ही टूट गई।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता श्री मोदी ने माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर ट्वीट कर कहा, “बिहार में पांच दलों के कथित महागठबंधन को बांधने वाली गांठें कितनी मजबूत हैं, इसका अंदाजा इसी से लग रहा है कि वे उपचुनाव की पांच सीट आपस में बांटने में ही टूट गई तो वर्ष 2020 में वे 243 सीटों पर फैसला कैसे कर पाएंगे। स्वार्थ की पराकाष्ठा यह कि बड़े भाई (राजद) बनने वाले दल ने सभी चार सीटें अपने नाम कर लीं और सहयोगी दलों को ठेंगा दिखा दिया।”

श्री मोदी ने कहा कि हाल के संसदीय चुनाव में जिस दल का खाता नहीं खुला, वह अब भी खुद को बड़ा मान रहा है और 132 साल पुरानी, चार राज्यों में सत्तारूढ और बिहार में कम से कम एक सीट जीतने वाली कांग्रेस को कमतर आंक रहा है। दूसरी और कांग्रेस है, जो अपमान के घूंट पीकर राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव की बंधुआ मजदूर बनी हुई है।

सूरज

जारी (वार्ता)

image