Monday, Jan 20 2020 | Time 23:29 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • बैंकों के विलय पर बैंककर्मियों ने सरकार को ललकारा
  • दिल्ली चुनाव के लिए 496 प्रत्याशियों ने भरे पर्चे
  • झारखंड में मंत्रिमंडल का गठन नहीं होना दुर्भाग्यपूर्ण : बाबूलाल
  • मंत्रिमंडल का विस्तार मतभेद पैदा करेगा : सिद्दारमैया
  • दिल्ली चुनाव के लिए राजद ने की प्रत्याशियों की घोषणा
  • चैंपियन ऑफ चेंज पुरस्कार से नवाजे गए हेमंत
  • चाड में बम विस्फोट, 11 लोगों की मौत
  • हेमंत ने बिजली की समस्या पर झारखंडवासियों को लिखा पत्र
  • सोनिया ने कांग्रेस शासित राज्यों में गठित की समितियां
  • देश में तीन करोड़ राशन कार्ड फर्जी : पासवान
  • बरेली में लेखपाल चार हाजार रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार
  • सोनिया ने गठित की घोषणा पत्र क्रियान्वयन समितियां
  • गोरखपुर पुलिस ने किए दो वांछित इनामी बदमाश गिरफ्तार
  • नागरिकता संशोधन कानून में सुधार की जरुरत: नजीब
  • बांका में भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


महाविकास अगाडी ने सरकार बनाने का दावा किया

महाविकास अगाडी ने सरकार बनाने का दावा किया

मुंबई, 25 नवंबर (वार्ता) महाराष्ट्र में शिव सेना, राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी (राकांपा) और कांग्रेस (महाविकास अगाडी) ने सोमवार को सरकार बनाने को दावा किया और राज्यपाल कार्यालय को अपने समर्थन में 162 विधायकों का हस्ताक्षरित पत्र सौंपा।

शिव सेना ने निर्दलीय उम्मीदवारों के अलावा 63 विधायकों , कांग्रेस के 44 और राकांपा के 51 विधायकों के हस्ताक्षर वाले पत्र को सौंपा। समाजवादी पार्टी भी तीनों पार्टियों के साथ शामिल हो गयी और उसने अपने दो सदस्यों के हस्ताक्षर वाला पत्र सौंपा।

सभी पार्टियों के नेता आज मुंबई में राजभवन में राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के आवास पर गये और पत्र सौंपा, लेकिन राज्यपाल उस समय दिल्ली में थे। राज्यपाल को सौंपे गये हस्ताक्षरित पत्र में राकांपा के तीन नेताओं अजित पवार , अन्ना बनसोद और नरहरि झिरवाल के हस्ताक्षर नहीं थे।

इस दौरान सेना, राकांपा और कांग्रेस ने उम्मीद जाहिर कि उच्चतम न्यायालय जल्द से जल्द महाराष्ट्र विधानसभा में बहुमत साबित कराए जाने की घोषणा करेगा।

राजभवन में सौंपे गए पत्र में कहा गया है कि अगर भारतीय जनता पार्टी बहुमत साबित करने में असफल रहती है तो शिव सेना के सरकार बनाने के दावे पर विचार किया जाना चाहिए। राकांपा नेता जयंत पाटिल ने बाद में संवाददाताओं से कहा कि हम राज्यपाल कार्यालय या विधानसभा में बहुमत साबित करने के लिए तैयार है

शीर्ष न्यायालय दायर की गयी उस याचिका पर मंगलवार को अपना फैसला सुनायेगा जिसमें तुरंत सरकार बनाए जाने को असंवैधानिक करार दिया था और इस मामले में उच्चतम न्यायालय में गुहार लगाई गई थी।

उप्रेती जितेन्द्र

वार्ता

image