Thursday, Nov 22 2018 | Time 16:07 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • धर्मवीर नैन बने युवा इनेलो के सिरसा प्रधान
  • कश्मीर घाटी में सुरक्षा कारणों से ट्रेन सेवा स्थगित
  • कांग्र्रेस ने की तेलंगाना में ईवीएम पैनल का रंग बदलने की मांग
  • एसीआरओएसएस की नौ उप योजनाओं को जारी रखने की मंजूरी
  • इमरान विदेश में राजनीतिक विरोधियों की आलोचना बंद कर देश का प्रतिनिधित्व करें: बिलावल
  • हवाई यात्रियों की संख्या अक्टूबर में 1 18 करोड़ के पार
  • सोना 90 रुपये चमका;चांदी 200 रुपये उछली
  • महिला ने प्रेमी का मांस मजदूरों को खिलाया
  • 17500 नये वार्डों के हर घर में उपलब्ध होगा नल का जल : मंत्री
  • उमर ने राम माधव को दी चुनौती, आरोप सिद्ध करें या माफी मांगे
  • खाद्यान्नों की पैकेजिंग सिर्फ जूट की बोरियों में, मानकों की अवधि भी बढ़ी
  • चीन में कार की चपेट में आकर पांच छात्रों की मौत
  • प्रमुख मुद्राओं की तुलना में रुपये की संदर्भ दर
  • पानीपत में निरंकारी संत समागम के मद्देनजर सुरक्षा के कड़े प्रबंध
  • गुरु नानक की 550 वीं जयन्ती देश- विदेश में धूम धाम से मनायी जायेगी
मनोरंजन Share

मीना कुमारी को अनाथालय छोड़ आये थे उनके पिता

मीना कुमारी को अनाथालय छोड़ आये थे उनके पिता

..जन्मदिवस 01 अगस्त के अवसर पर ..

मुंबई 31 जुलाई (वार्ता) अपने दमदार और संजीदा अभिनय से सिने प्रेमियों के दिलों पर छा जाने वाली ट्रेजडी क्वीन मीना कुमारी को उनके पिता अनाथालय छोड़ आये थे।

एक अगस्त 1932 का दिन था। मुंबई में एक क्लीनिक के बाहर मास्टर अली बक्श नामक एक शख्स बड़ी बेसब्री से अपनी तीसरी औलाद के जन्म का इंतजार कर रहा था। दो बेटियों के जन्म लेने के बाद वह इस बात की दुआ कर

रहे थे कि अल्लाह इस बार बेटे का मुंह दिखा दे। तभी अंदर से बेटी होने की खबर आयी तो वह माथा पकड़ कर बैठ गया। मास्टर अली बख्श ने तय किया कि वह बच्ची को घर नहीं ले जाएगा और वह बच्ची को अनाथालय छोड़ आया लेकिन बाद में उनकी पत्नी के आंसुओं ने बच्ची को अनाथालय से घर लाने के लिये मजबूर कर दिया। बच्ची का

चांद सा माथा देखकर उसकी मां ने उसका नाम रखा ..महजबीं ..। बाद में यही महजबीं फिल्म इंडस्ट्री में मीना कुमारी के नाम से मशहूर हुई।

वर्ष 1939 मे बतौर बाल कलाकार मीना कुमारी को विजय भटृ की ..लेदरफेस.. में काम करने का मौका मिला। वर्ष 1952 मे मीना कुमारी को विजय भटृ के निर्देशन मे ही बैजू बावरा में काम करने का मौका मिला। फिल्म की

सफलता के बाद मीना कुमारी बतौर अभिनेत्री फिल्म इंडस्ट्री मे अपनी पहचान बनाने मे सफल हो गयीं। वर्ष 1952 मे उन्होंने फिल्म निर्देशक कमाल अमरोही के साथ शादी कर ली। वर्ष 1962 मीना कुमारी के सिने कैरियर का अहम पड़ाव साबित हुआ। इस वर्ष उनकी आरती, मैं चुप रहूंगी और साहिब बीबी और गुलाम जैसी फिल्में प्रदर्शित हुईं। इसके साथ ही इन फिल्मों के लिये वह सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के फिल्म फेयर पुरस्कार के लिये नामित की गयी। यह फिल्म फेयर के इतिहास मे पहला ऐसा मौका था जहां एक अभिनेत्री को फिल्म फेयर के तीन नोमिनेशन मिले थे ।

वर्ष 1964 में मीना कुमारी और कमाल अमरोही की विवाहित जिंदगी मे दरार आ गयी। इसके बाद पति-पत्नी अलग अलग रहने लगे। कमाल अमरोही की फिल्म ..पाकीजा ..के निर्माण में लगभग चौदह वर्ष लग गये। उनसे अलग होने के बावजूद मीना कुमारी ने शूटिंग जारी रखी क्योंकि उनका मानना था कि पाकीजा जैसी फिल्मों में काम करने का मौका बार बार नहीं मिलता है ।

          मीना कुमारी के करियर में उनकी जोड़ी अशोक कुमार के साथ काफी पसंद की गयी। मीना कुमारी को उनके बेहतरीन अभिनय के लिये चार बार फिल्म फेयर के सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के पुरस्कार से नवाजा गया है। इनमें बैजू बावरा,

परिणीता, साहिब बीबी और गुलाम और काजल शामिल है।

मीना कुमारी यदि अभिनेत्री नहीं होती तो शायर के रूप में अपनी पहचान बनाती। हिंदी फिल्मों के जाने माने गीतकार और शायर गुलजार से एक बार मीना कुमारी ने कहा था ..ये जो एक्टिंग मैं करती हूं उसमें एक कमी है। ये फन,

ये आर्ट मुझसे नहीं जन्मा है, ख्याल दूसरे का, किरदार किसी का और निर्देशन किसी का। मेरे अंदर से जो जन्मा है वह लिखती हूं, जो मैं कहना चाहती हूं वह लिखती हूं।

मीना कुमारी ने अपनी वसीयत में अपनी कविताएं छपवाने का जिम्मा गुलजार को दिया जिसे उन्होंने .नाज.

उपनाम से छपवाया। सदा तन्हा रहने वाली मीना कुमारी ने अपनी रचित एक गजल के जरिये अपनी जिंदगी का नजरिया पेश किया है.

.. चांद तन्हा है आसमां तन्हा

दिल मिला है कहां कहां तन्हा

राह देखा करेगा सदियों तक

छोड़ जायेगें ये जहां तन्हा ..

लगभग तीन दशक तक अपने संजीदा अभिनय से दर्शकों के दिल पर राज करने वाली हिन्दी सिने जगत की महान अभिनेत्री मीना कुमारी 31 मार्च 1972 को सदा के लिये अलविदा कह गयी। उनके करियर की अन्य उल्लेखनीय फिल्में है..आजाद,एक हीं रास्ता, यहूदी, दिल अपना और प्रीत पराई, कोहिनूर, दिल एक मंदिर, चित्रलेखा, फूल और पत्थर, बहू बेगम, शारदा, बंदिश, भीगी रात, जवाब, दुश्मन आदि।

वार्ता

More News
‘बधाई हो’ का बॉक्स ऑफिस पर दोहरा शतक

‘बधाई हो’ का बॉक्स ऑफिस पर दोहरा शतक

22 Nov 2018 | 11:12 AM

मुंबई 22 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता आयुष्मान खुराना की फिल्म ‘बधाई हो’ ने ओवरसीज मिलाकर कुल 200 करोड़ रुपये की कमाई कर ली है।

 Sharesee more..
उर्मिला के बाद एली अबराम करेगी छम्मा-छम्मा

उर्मिला के बाद एली अबराम करेगी छम्मा-छम्मा

21 Nov 2018 | 7:05 PM

मुंबई 21 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री एली अबराम सिल्वर स्क्रीन पर सुपरहिट आइटम नंबर ‘छम्मा-छम्मा’ को रिक्रियेट करती नजर आयेंगी।

 Sharesee more..
अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में दिखायी जायेगी भोर

अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में दिखायी जायेगी भोर

21 Nov 2018 | 6:54 PM

मुंबई 21 नवंबर (वार्ता) देश में पिछड़ी जाति कहे जाने वाले मुसहरों पर आधारित फिल्म ‘भोर’ अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में कल दिखायी जायेगी।

 Sharesee more..
बॉलीवुड में डेब्यू करेंगे महेश बाबू

बॉलीवुड में डेब्यू करेंगे महेश बाबू

21 Nov 2018 | 6:44 PM

मुंबई, 21 नवंबर (वार्ता) दक्षिण भारतीय फिल्मों के सुपरस्टार महेश बाबू बॉलीवुड में डेब्यू कर सकते हैं।

 Sharesee more..
पायलट का किरदार निभायेंगी जाह्नवी कपूर!

पायलट का किरदार निभायेंगी जाह्नवी कपूर!

20 Nov 2018 | 11:31 AM

मुंबई 20 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री जाह्नवी कपूर सिल्वर स्क्रीन पर पायलट का किरदार निभाती नजर आ सकती है।

 Sharesee more..
image