Monday, Jan 25 2021 | Time 22:08 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • फर्जीवाड़ा कांड: तीन साल से फरार आरोपी गिरफ्तार
  • जयपुर में महामारी अध्यादेश उल्लंघन पर 56 हजार का जुर्माना वसूला
  • कर्नाटक में कोरोना सक्रिय मामलों में फिर से गिरावट
  • राजस्थान में कोरोना के 193 नये मामले आए
  • दिल्ली में कोरोना रिकवरी दर 98 फीसदी के पार
  • गोकुलम केरला ने नेरोका को 4-1 से हराया
  • आम जनता की समस्याओं का निराकरण सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता : हेमन्त
  • हरियाणा में राज्यपाल राजभवन तो मुख्यमंत्री पंचकूला में ध्वजारोहण करेंगे
  • महाराष्ट्र में कोरोना सक्रिय मामले घटकर 43,500 के करीब
  • शिंजो आबे को पद्म विभूषण, तरूण गोगोई और सुमित्रा महाजन को पद्म भूषण
  • हरियाणा के 14 पुलिसकर्मियों को राष्ट्रपति और पुलिस पदक
  • फोटो कैप्शन दूसरा सेट
  • भारत जूनियर ने चिली सीनियर को 2-1 से हराया
  • भारत जूनियर ने चिली सीनियर को 2-1 से हराया
  • लाला जगदलपुरी के नाम पर दिया जाएगा साहित्य का पुरस्कार - भूपेश
India


कृषि कानून को लेकर न्यायालय को भी किया गुमराह : कांग्रेस

कृषि कानून को लेकर न्यायालय को भी किया गुमराह : कांग्रेस

नयी दिल्ली, 13 जनवरी (वार्ता) कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि केंद्र सरकार ने कृषि संबंधी तीन कानूनों को लेकर न सिर्फ किसानों और जनता को बल्कि देश के उच्चतम न्यायालय को भी गुमराह किया है।
कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने बुधवार को यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा कि सरकार ने इस कानून को लेकर समग्र देश को, इसके हर नागरिक को तथा उच्चतम न्यायालय को भी बरगलाया है और उसके इस कदम की कड़ी निंदा की जानी चाहिए। उनका कहना था कि सूचना के अधिकार के तहत मिली एक सूचना के अनुसार सरकार ने इस कानून को लेकर देश को गुमराह किया है।
उन्होंने कहा कि सरकार ने उच्चतम न्यायालय में एक हलफनामा देकर कहा है कि कृषि संबंधी कानून लाने से पहले इसके बारे में जनता से परामर्श मांगा गया। उन्होंने कहा कि 11 दिसम्बर और 15 दिसम्बर को सूचना के अधिकार के तहत इन तीनों कानूनों को लेकर जनता से परामर्श मांगेे जाने के बारे में जब सरकार से जानकारी मांगी गयी तो जवाब में कहा गया है कि उसके पास इससे जुड़े दस्तावेज नहीं है।
प्रवक्ता ने कहा कि सरकार ने इस बारे में कोई विचार विमर्श किसी से नहीं किया और अध्यादेश को आनन फानन में संसद से पारित करा दिया। मामला उच्चतम न्यायालय गया तो सरकार ने गलत तथ्य देकर न्यायालय की अवमानना की और जनता के साथ धोखा किया और संसद में इस कानून को जल्दबाजी कर पारित किया गया।
अभिनव जितेन्द्र
वार्ता

image