Wednesday, Jan 22 2020 | Time 23:06 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • आईईडी भेजने के आरोप में बीएसएफ जवान गिरफ्तार
  • तुर्की में विफल तख्ता पलट मामलेे में 131 को सजा
  • हवाई अड्डे पर बम रखने का आरोपी मेंगलुरु पुलिस के हवाले
  • ट्रंप के शीघ्र पाकिस्तान दौरे की संभावना : कुरैशी
  • दहेज में बाइक नहीं देने पर विवाहिता की हत्या
  • हेमंत ने सात ग्रामीणों की हत्या की जांच के लिए दिया एसआईटी गठित करने का आदेश
  • फोटो कैप्शन तीसरा सेट
  • महिला सशक्तीकरण पर आधारित फिल्म है ‘छोटकी ठकुराइन’
  • महाराष्ट्र ने 256 पदकों के साथ बरकरार रखा अपना खिताब
  • महाराष्ट्र ने 256 पदकों के साथ बरकरार रखा अपना खिताब
  • मनोरंजन संग संदेश देगी ‘शुभ मंगल ज्यादा सावधान’ : आयुष्मान
  • राजपथ पर दिखेगी यूपी के सर्वधर्म समभाव की झलक
  • पटना में बनेगा 25 हजार अभ्यर्थियों के बैठने की क्षमता वाला परीक्षा केंद्र
लोकरुचि


मोबाइल की लत छुड़ाएगा ‘मोबाइल नशा मुक्ति केंद्र’

मोबाइल की लत छुड़ाएगा ‘मोबाइल नशा मुक्ति केंद्र’

प्रयागराज, 30 जुलाई (वार्ता)बदलते परिवेश में मोबाइल और इंटरनेट लोगों की प्रगति के लिये जहां आवश्यक संसाधनों में शामिल हो गया है वही दूसरी ओर इसका लोगों के स्वास्थ्य और व्यवहार में इसका प्रतिकूल असर भी पड़ रहा है।


    मनोचिकित्सक डाॅ0 राकेश पासवान नेे मंगलवार को यहां बताया कि मोबाइल और इंटरनेट लोगों की प्रगति के लिये जहां आवश्यक संसाधनों में शामिल हो गया है। उन्होंने कहा इसके अधिक प्रयोग से लोगों से स्वास्थ्य में प्रतिकूल असर पड़ रहा है।

    डॉ0 पासवान ने बताया कि मोबाइल के एक सीमा से अधिक प्रयोग से निजात दिलाने के लिए मोतीलाल नेहरु मंडलीय (काल्विन) अस्पताल में प्रदेश का पहला‘‘मोबाइल नशा मुक्ति केन्द्र” शुरू किया गया है।

     उन्होंने बताया कि मोतीलाल नेहरु मंडलीय (काल्विन) अस्पताल के प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डॉ0 वी के सिंह के नेतृत्व में गठित राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ कार्यक्रम की टीम कार्य कर रही है। जिसके नोडल अधिकारी प्रयागराज के एड़िशनल मुख्य चिकित्साधिकारी डा वी के मिश्रा है। 

केन्द्र के इन्चार्ज मनोचिकित्सक डाॅ0 राकेश पासवान ने ‘‘यूनीवार्ता” को बताया कि बच्चों के साथ-साथ वरिष्ठ नागरिकों और महिलाओं ,युवाओं में बढ़ती लत की समस्या को देखते हुए अस्पताल में मोबाइल नशा मुक्ति केन्द्र की सोमवार, बुधवार और शुक्रवार को ओपीडी की शुरूआत की गयी है।  इसमें मोबाइल और इंटरनेट की लत छुडाने के लिए खास ओपीडी शुरू हुई है। इसमें मरीजो की काउंसिलिग के साथ आवश्यकता पड़ने पर दवायें भी उपलब्ध कराई जायेगी। इसके साथ ही कुछ खास थिरेपी योग भी बताया जाएगा।

     उन्होने बताया कि मोबाइल के आदी बन चुके लोगों के स्वास्थ्य के साथ ही व्यवहार में भी प्रतिकूल बदलाव देखने को मिल रहा है जिससे लोग चिडचिड़ेपन और बेचैनी के शिकार हो रहे हैं। इसके लती हुए लोगों में सिरदर्द, आंखों की रोशनी कमजोर होना, नींद न आना, अवसाद, सामाजिक अलगाव, तनाव, आक्रामक व्यवहार, वित्तीय समस्याएं, बर्बाद हुए रिश्ते और मानसिक विकास जैसे कई गंभीर समस्याओं का कारण बनती है। स्वस्थ, समृद्ध और शांतिपूर्ण जीवन जीने के लिए इस लत को दूर करना महत्वपूर्ण है। सेल फोन के आदी लोग लंबे समय तक काम पर ध्यान केंद्रित करने में सक्षम नहीं होते हैं। बहुत अधिक स्क्रीन समय मस्तिष्क पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है और ध्यान केंद्रित करने की क्षमता कम हो जाती है।

      डाॅ0 पासवान ने बताया कि मोबाइल की लत से पीड़ित लोग नोमोफोबिया से पीड़ित होते हैं। यह हमारे स्वास्थ्य, रिश्तों के साथ-साथ काम पर भी असर डालता है। मोबाइल फोन दुनिया भर के किसी भी व्यक्ति के साथ तुरंत जुड़ने

की स्वतंत्रता प्रदान करते हैं। वे हमें किसी भी आवश्यक जानकारी को खोजने में मदद करते हैं और मनोरंजन का एक बड़ा स्रोत है। उन्होने कहा कि यह आविष्कार हमें सशक्त बनाने के उद्देश्य से किया गया था, लेकिन यह कुछ ऐसा

है जो हमारे ऊपर हावी हो रहा है।

    उन्होने बताया कि हाइड्रोफोबिया, एक्रॉफोबिया और क्लेस्ट्रोफोबिया के बारे में सुना होगा लेकिन क्या नोमोफोबिया के बारे में सुना है। यह एक नए तरह का डर है जो मनुष्यों में बड़ी  संख्या में देखा जाता है। नोमोफोबिया “कोई मोबाइल फोन, फोबिया” नहीं है। यह एक के मोबाइल फोन के बिना होने का डर है। मोबाइल फोन के आदी किशोर सबसे खराब हैं। वे अपनी पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित नहीं कर सकते। मोबाइल की लत उनके ध्यान केंद्रित करने की क्षमता को कम करती है और चीजों को समझने की उनकी क्षमता को कम करती है।

    डाॅ0 पासवान ने बताया कि अध्ययनों से पता चलता है कि जो लोग दिन में कई घंटों तक अपने मोबाइल फोन पर बात करते हैं, उनमें मस्तिष्क कैंसर विकसित होने की संभावना अधिक होती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि मोबाइल फोन मस्तिष्क की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाने वाली रेडियो तरंगों का उत्सर्जन करते हैं। हालांकि, कई वैज्ञानिक और चिकित्सा व्यवसायी इस खोज से सहमत नहीं हैं।

More News
पर्यटको की आमद से इटावा सफारी पार्क हुआ गुलजार

पर्यटको की आमद से इटावा सफारी पार्क हुआ गुलजार

17 Jan 2020 | 4:56 PM

इटावा, 17 जनवरी (वार्ता)उत्तर प्रदेश में चंबल के बीहड़ों में स्थित इटावा सफारी पार्क पर्यटकों को खूब भा रहा है। सफारी पार्क में गत 25 नंबवर से 15 जनवरी तक 34 हजार से अधिक पर्यटको ने अपनी मौजूदगी से सुखद एहसास कराया है।

see more..
योगी ने गोरखनाथ मंदिर में चढ़ायी खिचड़ी

योगी ने गोरखनाथ मंदिर में चढ़ायी खिचड़ी

15 Jan 2020 | 6:50 PM

गोरखपुर 15 जनवरी (वार्ता) सूर्य के बुधवार तड़के मकर राशि में प्रवेश के साथ ही नाथ सम्प्रदाय के प्रसिद्ध शिवावतारी गोरक्षनाथ मंदिर में परम्परागत रूप से खिचड़ी चड़ाने का क्रम शुरू हो गया है।

see more..
बिहार में धूमधाम से मनायी जा रही मकर संक्रांति

बिहार में धूमधाम से मनायी जा रही मकर संक्रांति

15 Jan 2020 | 11:11 AM

पटना 15 जनवरी (वार्ता) बिहार में मकर संक्राति का पर्व धूमधाम से मनाया जा रहा है।

see more..
आध्यात्म, वैराग्य और ज्ञान की ऊर्जा सतत प्रवाहित होती है संगम की रेत में

आध्यात्म, वैराग्य और ज्ञान की ऊर्जा सतत प्रवाहित होती है संगम की रेत में

13 Jan 2020 | 4:59 PM

प्रयागराज, 13 जनवरी (वार्ता) पतित पावनी गंगा, श्यामल यमुना और अन्त:सलीला स्वरूप में प्रवाहित सरस्वती के त्रिवेणी की रेत वैराग्य, ज्ञान और आध्यात्मिक शक्ति से ओतप्रोत है।

see more..
मकर संक्रांति के दिन पतंग उड़ाने की परंपरा आज भी है बरकरार

मकर संक्रांति के दिन पतंग उड़ाने की परंपरा आज भी है बरकरार

13 Jan 2020 | 12:51 PM

पटना,13 जनवरी (वार्ता) मकर संक्रांति के दिन उमंग, उत्साह और मस्ती का प्रतीक पतंग उड़ाने की लंबे समय से चली आ रही परंपरा मौजूदा दौर में काफी बदलाव के बाद भी बरकरार है।

see more..
image