Thursday, May 28 2020 | Time 21:47 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • हरियाणा में कोरोना के 123 नये मामले, कुल संख्या 1504 हुई, 19 लोगों की मौत
  • क्वारंटाइन अवधि पूरी करने वाले प्रवासी श्रमिकों को उपलब्ध हो रोजगार : नीतीश
  • मथुरा में तीन और कोरोना पॉजिटिव,संक्रमित के संपर्क में आने पर11 पुलिसकर्मी क्वारन्टाइन
  • सारण में ट्रेन से कटकर युवती की मौत
  • सारण में कुख्यात गिरफ्तार
  • दिल्ली में कोरोना संक्रमितों की संख्या 16000 के पार
  • आईसीसी ने 10 जून तक टाला टी-20 विश्व कप के भविष्य का फैसला
  • आईसीसी ने 10 जून तक टाला टी-20 विश्व कप के भविष्य का फैसला
  • झांसी पहुंचे साढ़े चौंतीस हजार श्रमिकों के रोजगार के लिए प्रशासन ने किया मंथन
  • पेरासिटामोल का निर्यात खुला
  • सेना ने स्कूल को बनाया 100 बिस्तरों वाला कोविड केयर सेंटर
  • कोविड- खिलाफ सफलता प्राप्ति के लिए विश्व और राष्ट्रीय स्तर पर प्रयास
  • सूडान में गिद्ध की भेंट चढ़ती बच्ची को बचाने की बजाय फोटो लेनेवाले कार्टर की तरह याचिकाकर्ता : मेहता
  • कोलकाता हवाई अड्डे पर 1745 यात्रियों का आगमन
  • सुपौल में व्यवसायी लूटकांड का उद्भेदन, दो गिरफ्तार
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


बैंको में असुरक्षित हैं आम जनता के पैसे : मनीष

बैंको में असुरक्षित हैं आम जनता के पैसे : मनीष

नागपुर, 16 अक्टूबर(वार्ता) कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी ने बुधवार को केंद्र की भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नीत सरकार की यह कहते हुए खिंचाई की कि उसके कार्यकाल में आम नागरिकों के पैसे कतई असुरक्षित हैं।

श्री तिवारी ने यहां संवाददाताओं से कहा कि आम जनता की गाढ़ी कमाई के पैसे बैंको में सुरक्षित नहीं है और यह सरकार नहीं जानती कि देश कैसे चलाना है। उन्होंने कहा, “आज स्थिति नोटबंदी जैसी ही है और लोगों को बैंको से अपने ही पेसे निकालने में विभिन्न समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।”

उन्होंने कहा कि 2008 की वैश्विक मंदी, 2011 के यूरोजोन संकट और 2014 में वैश्विक कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों के बावजूद तत्कालीन संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन सरकार के कार्यकाल में लगातार 10 सालों तक आर्थिक विकास की वृद्धि दर 7.8 रही, लेकिन इसके मद्देनजर कोई आर्थिक संकट सामने नहीं आया जबकि पिछले पांच वर्षों में भाजपा नीत सरकार के कार्यकाल में अर्थव्यवस्था की स्थिति सबसे खराब स्थिति में पहुंच गयी।

उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में देवेंद्र फड़नवीस के नेतृत्व वाली सरकार किसी भी मापदंड पर सफल नहीं हुई है। खान और अन्य औद्योगिक क्षेत्रों में रोजगार सृजन के पर्याप्त अवसर नहीं है।

कांग्रेस नेता ने कहा कि केंद्रीय जांच ब्यूरो(सीबीआई) और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) जैसे संगठनों की अनावश्यक हठधर्मिता देश के वित्तीय निवेश के माहौल को प्रभावित कर रही है।

वी डी सावरकर को भारत रत्न दिए जाने का कांग्रेस द्वारा विरोध किये जाने के संबंध में पूछे जाने पर श्री तिवारी ने एक मीडिया रिपोर्ट का हवाला दिया, जिसमें दावा किया गया था कि महात्मा गांधी की हत्या की साजिश की जांच के लिए 1966 में गठित कपूर आयोग ने भी अपने निष्कर्ष में संकेत दिया था कि गांधी की हत्या सावरकर और उनके समूह की साजिश थी।

टंडन, शोभित

वार्ता

image