Thursday, Jun 20 2024 | Time 15:39 Hrs(IST)
image
भारत


देश में 50 फीसदी से ज्यादा गांव खुले में शौच से मुक्त

देश में 50 फीसदी से ज्यादा गांव खुले में शौच से मुक्त

नयी दिल्ली, 10 मई (वार्ता) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खुले में शौच से मुक्ति मिशन शुरु करने के नौ साल में आधे से अधिक गांवों ने मिशन के दूसरे चरण में खुले में शौच मुक्त का दर्जा हासिल कर लिया है।

मंत्रालय की सूचना के अनुसार अब तक 2.96 लाख से अधिक गांवों ने स्‍वयं को खुले में शौच मुक्त घोषित किया है। यह 2024-25 तक मिशन के दूसरे चरण के लक्ष्यों को प्राप्त करने की दिशा में यह महत्वपूर्ण कदम है। प्रधानमंत्री ने नौ साल पहले देश को खुले में शौच से मुक्ति के लिए अभियान की शुरुआत की थी।

सरकार का कहना है कि खुले में शौच मुक्त गांवों में श्रेष्‍ठ प्रदर्शन करने वाले राज्यों में तेलंगाना शामिल है जिसने इस मिशन के तहत शत-प्रतिशत सफलता हासिल कर ली है। इस क्रम में कर्नाटक ने 99.5 प्रतिशत, तमिलनाडु ने 97.8 प्रतिशत और उत्तर प्रदेश ने 95.2 प्रतिशत सफलता हासिल की है। छोटे राज्यों में गोवा 95.3 प्रतिशत और सिक्किम की सफलता 69.2 प्रतिशत है जबकि केंद्रशासित प्रदेशों में अंडमान तथा निकोबार द्वीप समूह, दादरा नगर हवेली और दमन दीव तथा लक्षद्वीप में शत-प्रतिशत खुले में शौच मुक्त आदर्श गांव हैं।

मंत्रालय के अनुसार खुले में शौच मुक्त 2,96,928 गांवों में से 2,08,613 गांव ठोस अपशिष्ट प्रबंधन या तरल अपशिष्ट प्रबंधन की व्यवस्था के साथ खुले में शौच मुक्त आकांक्षी गांव हैं। इसी तरह से 32,030 गांव ठोस अपशिष्ट प्रबंधन और तरल अपशिष्ट प्रबंधन दोनों की व्यवस्था के साथ खुले में शौच मुक्त व्‍यवस्‍था की ओर बढ़ते हुए गांव हैं जबकि 56,285 गांव खुले में शौच मुक्त आदर्श गांव हैं। खुले में शौच मुक्त मॉडल गांव वह है जो खुले में शौच मुक्त स्थिति को बनाए हुए है और इसमें ठोस अपशिष्ट प्रबंधन और तरल अपशिष्ट प्रबंधन दोनों की व्यवस्था है।

देश के ग्रामीण क्षेत्रों में प्लास्टिक के इस्तेमाल को लेकर भी जागरूकता आई है और एक लाख से अधिक ग्राम पंचायतों ने सिंगल यूज प्लास्टिक पर प्रतिबंध लगाने का प्रस्ताव पारित किया है। प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबंधन के संबंध में जानकारी देते हुए बताया गया है कि देश में 831 प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबंधन इकाइयां और 1,19,449 अपशिष्ट संग्रह एवं पृथक्करण शेड स्थापित किए गये हैं। सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय की सूचना के अनुसार प्लास्टिक को साफ कर उसके टुकड़े करके उसे सड़क निर्माण के कार्य में उपयोग में लाया जा रहा है और सीमेंट कारखानों में ईंधन के रूप में भी इसका इस्तेमाल किया जा रहा है।

मंत्रालय कहा कहना है कि घरेलू स्तर पर जैव-निम्नीकरणीय अपशिष्ट प्रबंधन के वास्ते भी लोगों को सामुदायिक स्तर पर कंपोस्टिंग के लिए प्रोत्‍साहित किया जा रहा है। इसके तहत 206 जिलों में 683 क्रियाशील बायो-गैस-सीबीजी संयंत्र स्थापित कर 3,47,094 सामुदायिक खाद गड्ढों का निर्माण किया गया है।

अभिनव, उप्रेती

वार्ता

More News
कार्यकारी अधिकारियों के कौशल को निखारने के लिए आईआईटी-आईएसएम ने शुरू किये सात कार्यक्रम

कार्यकारी अधिकारियों के कौशल को निखारने के लिए आईआईटी-आईएसएम ने शुरू किये सात कार्यक्रम

20 Jun 2024 | 3:14 PM

नयी दिल्ली, 20 जून (वार्ता) कार्यकारी अधिकारियों के नेतृत्व कौशल, रणनीतिक सोच और व्यवहारिक कौशल को निखारने के लिए भारतीय प्रौद्योगिकी संस्था (भारतीय खनन विद्यालय ) धनबाद ने सात कार्यकारी स्नातकोत्तर (मास्टर्स) कार्यक्रम की शुरुआत की है।

see more..
इंडोनेशिया के राष्ट्रपति ने मोदी से रणनीतिक साझेदारी मजबूत बनाने पर बात की

इंडोनेशिया के राष्ट्रपति ने मोदी से रणनीतिक साझेदारी मजबूत बनाने पर बात की

20 Jun 2024 | 2:37 PM

नयी दिल्ली 20 जून (वार्ता) इंडोनेशिया के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति प्रबोवो सुबियांतो ने गुरूवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ टेलीफाेन पर बातचीत के दौरान दोनों देशों के बीच रणनीतिक साझेदारी को मजबूत करने के तरीकों पर चर्चा की। श्री मोदी ने सोशल मीडिया प्लेटफार्म एक्स पर पोस्ट कर इस बात की जानकारी दी।

see more..
भारत, फ्रांस, ऑस्ट्रेलिया ने त्रिपक्षीय सहयोग की दिशा में प्रगति की समीक्षा की

भारत, फ्रांस, ऑस्ट्रेलिया ने त्रिपक्षीय सहयोग की दिशा में प्रगति की समीक्षा की

20 Jun 2024 | 2:13 PM

नयी दिल्ली 20 जून (वार्ता) भारत, फ्रांस और ऑस्ट्रेलिया ने समुद्री सुरक्षा और संरक्षा, समुद्री और पर्यावरण सहयोग तथा बहुपक्षीय जुड़ाव के क्षेत्रों में प्रगति की समीक्षा की है1

see more..
image