Friday, Nov 16 2018 | Time 12:42 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • अभी कुछ समय और इंतजार करे - सुरेन्द्रन
  • कश्मीर केंद्रीय विश्वविद्यालय में छात्रों के प्रदर्शन के कारण कक्षाएं स्थगित
  • चक्रवाती तूूफान गाजा से नागाई सबसे अधिक प्रभावित, अाठ लोगों की मौत
  • योगी ने लखनऊ में पुलिस लाइन का किया औचक निरीक्षण
  • भारतीय सेना सीमावर्ती क्षत्रों के 22 पुलों की करेगी मरम्मत-औजला
  • अथिया को रीलांच करेंगे सलमान
  • दक्षिण कश्मीर में सीआरपीएफ शिविर में आग
  • चेन्नई सर्राफा के शुरुआती भाव
  • त्रिपुरा: भाजपा-माकपा समर्थकों के बीच झड़पें, 12 पुलिसकर्मी सहित 54 घायल
  • जम्मू-कश्मीर में लेह, मुगल मार्ग पांचवें दिन भी बंद
  • कैलिफोर्निया की आग में मृतकों की संख्या 63 हुई, 630 से अधिक लापता
  • प्रधानमंत्री मध्य प्रदेश-छत्तीसगढ़ में चुनावी रैलियों को संबोधित करेंगे
  • दक्षिण कश्मीर में सुरक्षा बलों का खोजी अभियान शुरू
  • कानपुर पुलिस मुठभेड़ में शातिर बदमाश गिरफ्तार
  • सुरक्षा परिषद ने शांति सैनिकों की मौत पर शोक जताया
मनोरंजन Share

अभिनेता बनना चाहते थे मुकेश

अभिनेता बनना चाहते थे मुकेश

..पुण्यतिथि 27 अगस्त के अवसर पर ..

मुंबई 26 अगस्त (वार्ता)भारतीय सिनेमा जगत में मुकेश ने भले ही अपने पार्श्व गायन से लगभग तीन दशक तक श्रोताओं को दीवाना बनाया लेकिन वह अपनी पहचान अभिनेता के तौर पर बनाना चाहते थे।

मुकेश चंद माथुर का जन्म 22 जुलाई 1923 को दिल्ली में हुआ था। उनके पिता लाला जोरावर चंद माथुर एक इंजीनियर थे और वह चाहते थे कि मुकेश उनके नक्शे कदम पर चलें लेकिन वह अपने जमाने के प्रसिद्ध गायक अभिनेता कुंदनलाल सहगल के प्रशंसक थे और उन्हीं की तरह गायक एवं अभिनेता बनने का ख्वाब देखा करते थे । मुकेश ने दसवीं तक पढ़ाई करने के बाद स्कूल छोड दिया और दिल्ली लोक निर्माण विभाग में सहायक सर्वेयर की नौकरी कर ली जहां उन्होंने सात महीने तक काम किया। इसी दौरान अपनी बहन की शादी में गीत गाते समय उनके दूर के रिश्तेदार मशहूर अभिनेता मोतीलाल ने उनकी आवाज सुनी और प्रभावित होकर वह उन्हें 1940 में मुंबई ले आए और अपने साथ रखकर पंडित जगन्नाथ प्रसाद से संगीत सिखाने का भी प्रबंध किया ।

इसी दौरान 1941 में मुकेश को एक हिन्दी फिल्म ..निर्दोष.. में अभिनेता बनने का मौका मिल गया जिसमें उन्होंने अभिनेता एवं गायक के रूप में संगीतकार अशोक घोष के निर्देशन मेंअपना पहला गीत..दिल ही बुझा हुआ हो तो..भी गाया। यह फिल्म हालांकि टिकट खिड़की पर बुरी तरह से नकार दी गयी । इसके बाद मुकेश ने .दुख.सुख. और .आदाब अर्ज. जैसी कुछ और फिल्मों में भी काम किया लेकिन पहचान बनाने में कामयाब नहीं हो सके।

इसके बाद मोतीलाल प्रसिद्ध संगीतकार अनिल विश्वास के पास मुकेश को लेकर गये और उनसे अनुरोध किया कि वह अपनी फिल्म में मुकेश से कोई गीत गवाएं । वर्ष 1945 में प्रदर्शित फिल्म पहली नजर में अनिल विश्वास के संगीत निर्देशन में.. दिल जलता है तो जलने दे..गीत के बाद मुकेश कुछ हद तक अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो गये। मुकेश ने इस गीत को सहगल की शैली में ही गाया था। सहगल ने जब यह गीत सुना तो उन्होंने कहा था “अजीब बात है, मुझे याद नहीं आता कि मैंने कभी यह गीत गाया है।” इसी गीत को सुनने के बाद सहगल ने मुकेश को अपना उत्तराधिकारी घोषित कर दिया था ।

सहगल की गायकी के अंदाज से प्रभावित रहने के कारण शुरुआती दौर की अपनी फिल्मों में वह सहगल के अंदाज मे ही गीत गाया करते थे लेकिन वर्ष 1948 मे नौशाद के संगीत निर्देशन में फिल्म ..अंदाज.. के बाद मुकेश ने गायकी का अपना अलग अंदाज बनाया। मुकेश के दिल में यह ख्वाहिश थी कि वह गायक के साथ साथ अभिनेता के रूप मे भी अपनी पहचान बनाये। बतौर अभिनेता वर्ष 1953 मे प्रदर्शित माशूका,और वर्ष 1956 मे प्रदर्शित फिल्म अनुराग की विफलता के बाद उन्होने पुनः गाने की ओर ध्यान देना शुरू कर दिया।

इसके बाद वर्ष 1958 मे प्रदर्शित फिल्म यहूदी के गाने ..ये मेरा दीवानापन है .. की कामयाबी के बाद मुकेश को एक बार फिर से बतौर गायक पहचान मिली। इसके बाद मुकेश ने एक से बढ़कर एक गीत गाकर श्रोताओं को भाव विभोर कर दिया। मुकेश ने अपने तीन दशक के सिने कैरियर में 200 से भी ज्यादा फिल्मों के लिये गीत गाये। मुकेश को उनके गाये गीतों के लिये चार बार फिल्म फेयर के सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायक के पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इसके अलावा वर्ष 1974 मे प्रदर्शित ..रजनी गंधा .. के गाने कई बार यूहीं देखा के लिये मुकेश नेशनल अवार्ड से भी सम्मानित किये गये।

राजकपूर की फिल्म ..सत्यम.शिवम.सुंदरम.. के गाने..चंचल निर्मल शीतल.. की रिकार्डिंग पूरी करने के बाद वह अमेरिका में एक कंसर्ट में भाग लेने गये जहां 27 अगस्त 1976 को दिल का दौरा पड़ने से उनका निधन हो गया। उनके अनन्य मित्र राजकपूर को जब उनकी मौत की खबर मिली तो उनके मुंह से बरबस निकल गया.. मुकेश के जाने से मेरी आवाज और आत्मा..दोनों चली गई।

दर्द भरे नगमों के बेताज बादशाह मुकेश के गाये गीतों मे जहां संवेदनशीलता दिखाई देती है वहीं निजी जिंदगी मे भी वह बेहद संवेदनशील इंसान थे और दूसरों के दुख.दर्द को अपना समझकर उसे दूर करने का प्रयास करते थे। एक बार एक बीमार लड़की ने अपनी मां से कहा कि अगर मुकेश उन्हें कोई गाना गाकर सुनाएं तो वह ठीक हो सकती है । मां ने जवाब दिया कि मुकेश बहुत बड़े गायक हैं, उनके पास आने के लिए कहां समय है और अगर वह आते भी हैं तो इसके लिए काफी पैसे लेंगे। तब उसके डाक्टर ने मुकेश को उस लड़की की बीमारी के बारे में बताया। मुकेश तुरंत लडकी से मिलने अस्पताल गए और उसे गाना गाकर सुनाया और इसके लिए उन्होंने कोई पैसा भी नहीं लिया। लड़की को खुश देखकर मुकेश ने कहा, “यह लडकी जितनी खुश है, उससे ज्यादा खुशी मुझे मिली है।”

वार्ता

More News
अगले साल शुरू होगा आंखे का सीक्वल

अगले साल शुरू होगा आंखे का सीक्वल

15 Nov 2018 | 2:21 PM

मुंबई 15 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड के महनायक अमिताभ बच्चन की सुपरहिट फिल्म आंखे का सीक्वल अगले साल शुरू किया जायेगा।

 Sharesee more..
विद्या बालन के पति का किरदार निभायेंगे संजय कपूर

विद्या बालन के पति का किरदार निभायेंगे संजय कपूर

15 Nov 2018 | 2:10 PM

मुंबई 15 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेता संजय कपूर सिल्वर स्क्रीन पर विद्या बालन के पति के किरदार में नजर आयेंगे।

 Sharesee more..
बाइचुंग भूटिया पर बनेगी फिल्म

बाइचुंग भूटिया पर बनेगी फिल्म

15 Nov 2018 | 2:01 PM

मुंबई 15 नवंबर (वार्ता) भारतीय फुटबाल टीम के पूर्व कप्तान बाईचुंग भूटिया पर फिल्म बनायी जायेगी।

 Sharesee more..
image