Tuesday, Jul 23 2019 | Time 20:53 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • हिमाचल में भूकंप के हल्के झटके
  • जैसन, स्टोन आयरलैंड के खिलाफ करेंगे टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण
  • दिल्ली पुलिस ने कुंडली से बरामद की 50 किलो हेरोइन
  • वन प्रबंधन में स्थानीय लोगों की भागीदारी आवश्यक: कोविंद
  • ‘फेसबुक लाइव’ ने ली युवक की जान
  • मुझे लगा था कि मैं सीमित ओवरों में नहीं खेल पाऊंगा : प्लंकेट
  • हिमाचल में मानसून पड़ने लगा कमजोर, 39 प्रतिशत कम हुई बारिश
  • 27 प्रतिशत आरक्षण से पिछड़े वर्ग को उचित प्रतिनिधित्व और सम्मान मिलेगा: शोभा ओझा
  • नये भारत के निर्माण में मीडिया का सार्थक योगदान : लालजी
  • हरियाणा का राष्ट्रीय कोष में जीएसटी याेगदान लगभग पांच प्रतिशत
  • टीचर की छेड़छाड़ का विरोध करने पर छात्रा, उसके भाई को स्कूल से निकाला, मां-बाप को काम से
  • झांसी प्रशासन ने पॉलीथीन के खिलाफ अपनाया कड़ा रूख
  • दिव्यांगों की प्रतिभा से राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री हुए अभिभूत
  • जानी मानी गुजराती गायिका किंजल दवे भाजपा में शामिल
  • कम बारिश होने की स्थिति में आकस्मिक इंतजाम की पूर्व तैयारी रखें-गहलोत
मनोरंजन » जानीमानी हस्तियों का जन्म दिन


‘नहीं हुआ मदन मोहन जैसा संगीतकार ’

‘नहीं हुआ मदन मोहन जैसा संगीतकार ’

(जन्मदिवस 25 जून )
मुंबई 25 जून(वार्ता)संगीत सम्राट नौशाद हिन्दी फिल्मों के मशहूर संगीतकार मदन मोहन के गीत ‘आपकी नजरों ने समझा प्यार के काबिल मुझे, दिल की ऐ धड़कन ठहर जा मिल गयी मंजिल मुझे’से इस कदर प्रभावित हुये थे कि उन्होंने इस धुन के बदले अपने संगीत का पूरा खजाना लुटा देने की इच्छा जाहिर कर दी थी।

मदन मोहन कोहली का जन्म 25 जून 1924 को हुआ।
उनके पिता राय बहादुर चुन्नी लाल फिल्म व्यवसाय से जुड़े हुये थे और बाम्बे टाकीज और फिलिम्सतान जैसे बडे फिल्म स्टूडियो में साझीदार थे।
घर मे फिल्मी माहौल होने के कारण मदन मोहन भी फिल्मों में काम करके बडा नाम करना चाहते थे लेकिन अपने पिता के कहने पर उन्होंने सेना मे भर्ती होने का फैसला ले लिया और देहरादून में नौकरी शुरू कर दी।
कुछ दिनों बाद उनका तबादला दिल्ली हो गया।
लेकिन कुछ समय के बाद उनका मन सेना की नौकरी से ऊब गया और वह नौकरी छोड़ लखनऊ आ गये और आकाशवाणी के लिये काम करने लगे।

आकाशवाणी में उनकी मुलाकात संगीत जगत से जुडे उस्ताद फैयाज खान,उस्ताद अली अकबर खान ,बेगम अख्तर और तलत महमूद जैसी जानी मानी हस्तियों से हुयी जिनसे वह काफी प्रभावित हुये और उनका रूझान संगीत की ओर हो गया।
अपने सपनों को नया रूप देने के लिये मदन मोहन लखनऊ से मुंबई आ गये।
मुंबई आने के बाद मदन मोहन की मुलाकात एस डी बर्मन. श्याम सुंदर और सी.रामचंद्र जैसे प्रसिद्व संगीतकारो से हुयी और वह उनके सहायक के तौर
पर काम करने लगे।
संगीतकार के रूप में 1950 में प्रदर्शित फिल्म ..आंखें.. के जरिये वह फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने मे सफल हुए।

इस फिल्म के बाद लता मंगेशकर मदन मोहन की चहेती गायिका बन गयी और वह अपनी हर फिल्म के लिये लता मंगेशकर से ही गाने की गुजारिश किया करते थे।
लता मंगेशकर भी मदनमोहन के संगीत निर्देशन से काफी प्रभावित थीं और उन्हें ..गजलों का शहजादा .. कह कर संबोधित किया करती थीं।
संगीतकार ओ पी नैयर अक्सर कहा करते थे ,“मैं नहीं समझता कि लता मंगेशकर ,मदन मोहन के लिये बनी हैं या मदन मोहन,लता मंगेशकर के लिये लेकिन अब तक न तो मदन मोहन जैसा संगीतकार हुआ और न लता जैसी पार्श्वगायिका।

मदनमोहन के संगीत निर्देशन मे आशा भोंसले ने फिल्म मेरा साया के लिये ..झुमका गिरा रे बरेली के बाजार में .. गाना गाया जिसे सुनकर श्रोता आज भी झूम उठते हैं।
उनसे आशा भोंसले को अक्सर यह शिकायत रहती थी कि ..वह अपनी हर फिल्म के लिये लता दीदी को हीं क्यो लिया करते है .. इस पर मदनमोहन कहा करते ..जब तक लता जिंदा है उनकी फिल्मों के गाने वही गायेंगी।

मदन मोहन केवल महिला गायिका के लिये ही संगीत दे सकते है वह भी विशेषकर लता मंगेशकर के लिये।
यह चर्चा फिल्म इंडस्ट्री में पचास के दशक में जोरों पर थी लेकिन 1957 में प्रदर्शित फिल्म ..देख कबीरा रोया ..में पार्श्वगायक मन्ना डे के लिये ..कौन आया मेरे मन के द्वारे ..जैसा दिल को छू लेने वाला संगीत देकर उन्होंने अपने बारे में प्रचलित
धारणा पर विराम लगा दिया।
वर्ष 1965 मे प्रदर्शित फिल्म ..हकीकत .. में मोहम्मद रफी की आवाज में मदन मोहन के संगीत से सजा गीत ..कर चले हम फिदा जानों तन साथियो अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों ..आज भी श्रोताओं में देशभक्ति के जज्बे को बुलंद कर देता है।
आंखों को नम कर देने वाला ऐसा संगीत मदन मोहन ही दे सकते थे।

वर्ष 1970 मे प्रदर्शित फिल्म ..दस्तक .. के लिये मदन मोहन सर्वश्रेष्ठ संगीतकार के राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किये गये।
उन्होंने अपने ढाई दशक लंबे सिने कैरियर में लगभग 100 फिल्मों के लिये संगीत दिया।
अपनी मधुर संगीत लहरियों से श्रोताओं के दिल में खास जगह बना लेने वाला यह सुरीला संगीतकर 14 जुलाई 1975 को इस दुनिया से अलिवदा कह गया।

मदन मोहन के निधन के बाद 1975 में ही उनकी ..मौसम .. और लैला मजनू जैसी फिल्में प्रदर्शित हुयी जिनके संगीत का जादू आज भी श्रोताओं को मंत्रमुग्ध करता है।
मदन मोहन के पुत्र संजीव कोहली ने अपने पिता की बिना इस्तेमाल की 30 धुनें यश चोपड़ा को सुनाई जिनमें आठ का इस्तेमाल उन्होंने अपनी फिल्म ..वीर जारा..के लिये किया।
ये गीत भी श्रोताओं के बीच काफी लोकप्रिय हुये।

 

100

100 करोड़ क्लब में शामिल हुई सुपर 30

मुंबई 23 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के माचो मैन ऋतिक रौशन की फिल्म सुपर 30, 100 करोड़ के क्लब में शामिल हो गयी है।

इशान,

इशान, जाह्नवी को लेकर फिर फिल्म बनायेंगे करण

मुंबई 23 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड फिल्मकार करण जौहर एक बार फिर इशान खट्टर और जाह्नवी कपूर को लेकर फिल्म बनाने जा रहे हैं।

जासूस

जासूस का किरदार निभायेंगी कंगना रनौत

मुंबई 23 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत आने वाली फिल्म में जासूस का किरदार निभाती नजर आयेंगी।

‘देशभक्ति’

‘देशभक्ति’ से खास पहचान बनायी मनोज कुमार ने

..जन्मदिन 24 जुलाई  ..
मुंबई 23 जुलाई (वार्ता) हिंदी फिल्म जगत में मनोज कुमार को एक ऐसे बहुआयामी कलाकार के तौर पर जाना जाता है जिन्होंने फिल्म निर्माण की प्रतिभा के साथ साथ निर्देशन, लेखन, संपादन और बेजोड़ अभिनय तथा देशभक्ति पर आधारित फिल्मों के जरिये दर्शको के दिल में अपनी खास पहचान बनायी है ।

अनुष्का

अनुष्का शर्मा बनायेंगी वेबसीरीज

मुंबई 22 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री अनुष्का शर्मा वेबसीरीज बनाने जा रही हैं।

कॉमेडी

कॉमेडी किंग महमूद को भी करना पड़ा था संघर्ष

.. पुण्यतिथि 23 जुलाई  ..
मुंबई 22 जुलाई (वार्ता) अपने विशिष्ट अंदाज, हाव-भाव और आवाज से लगभग पांच दशक तक दर्शको को हंसाने और गुदगुदाने वाले महमूद ने फिल्म इंडस्ट्री में ‘किंग ऑफ कामेडी’ का दर्जा हासिल किया लेकिन उन्हें इसके लिये काफी संघर्ष का सामना करना पड़ा था और यहां तक सुनना पड़ा था कि ..वो न तो अभिनय कर सकते है ..ना ही कभी अभिनेता बन सकते है ..
बाल कलाकार से हास्य अभिनेता के रूप मे स्थापित हुये महमूद का जन्म सितम्बर 1933 को मुंबई में हुआ था।

हिरानी

हिरानी की फिल्म में काम करेंगे शाहरूख!

मुंबई 22 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के किंग खान शाहरूख खान, राजकुमार हिरानी की फिल्म में काम करते नजर आ सकते हैं।

एक्स

एक्स बॉयफ्रेंड से सामना होने पर असहज नहीं होतीं कैटरीना

मुंबई 22 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड की बार्बी गर्ल कैटरीना कैफ का कहना है कि वह एक्स बॉयफ्रेंड्स से सामना होने पर असहज नहीं होतीं हैं।

यूट्यूब

यूट्यूब चैनल बनाएंगी जैकलीन फर्नांडिस

मुंबई 22 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड अभिनेत्री और पूर्व मिस श्रीलंका जैकलीन फर्नांडिस यूट्यूब चैनल बनाने जा रही हैं।

दिल्ली

दिल्ली के मैरिज हॉल पर फिल्म बनायेंगे सलमान!

मुंबई 22 जुलाई (वार्ता) बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान दिल्ली के मैरिज हॉल पर फिल्म बनाने जा रहे हैं।

दिव्या दत्ता को गौर गोपाल दास ने उबारा डिप्रेशन से

दिव्या दत्ता को गौर गोपाल दास ने उबारा डिप्रेशन से

नयी दिल्ली 20 जुलाई (वार्ता) मनमोहक मुस्कान से दर्शकों का दिल जीतने वाली बाॅलीवुड की जानी-मानी अभिनेत्री दिव्या दत्ता को देखकर शायद ही लोगों को एहसास हाे कि वह कभी डिप्रेशन की शिकार भी हुयी होंगी लेकिन उनकी जिन्दगी में एक ऐसा मोड़ आया था जब वह घोर निराशा तथा अवसाद में घिर गयीं थी और तब विश्वविख्यात मोटिवेशनल शख्सियत गौर गोपाल दास के एक वीडियो ने डिप्रेशन के दलदल से उन्हें निकाल कर उनका जीवन बदल दिया।

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

पॉप गायिकी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलायी माइकल जैक्सन ने

..जन्मदिवस 29 अगस्त के अवसर पर ..
मुंबई 28 अगस्त(वार्ता)किंग ऑफ पॉप माइकल जैक्सन को ऐसी शख्सियत के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने पॉप संगीत की दुनिया को पूरी तरह बदलकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनायी है।

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

दिल्ली में भी होगा फिल्म उद्योग, डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह आरंभ

नयी दिल्ली 15 जनवरी (वार्ता) दिल्ली में भी फिल्म उद्योग स्थापित करने के मकसद से पहले डियोरामा अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह एवं विपणन 2019 की कल रात यहां देश-विदेश के फिल्मी जगत के लोगों की मौजूदगी में शुरूआत हुयी।

बॉलीवुड के पहले सुपरस्टार थे राजेश खन्ना

बॉलीवुड के पहले सुपरस्टार थे राजेश खन्ना

पुण्यतिथि 18 जुलाई के अवसर पर ..
मुंबई 17 जुलाई (वार्ता) हिंदी फिल्म जगत में अपने अभिनय से लोगों को दीवाना बनाने वाले अभिनेता तो कई हुये और दर्शकों ने उन्हें स्टार कलाकार माना पर सत्तर के दशक में राजेश खन्ना पहले ऐसे अभिनेता के तौर पर अवतरित
हुये जिन्हें दर्शको ने सुपर स्टार की उपाधि दी।

image