Saturday, Apr 20 2019 | Time 17:44 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • न्याय से नौकरियाें का सृजन हाेगा: मनमोहन
  • अयोध्या की विश्व प्रशिद्ध चौरासी कोसी परिक्रमा मखौड़ा धाम से शुरू
  • मोदी की वापसी से प्रजातंत्र हो जायेगा खत्म : सिद्दीकी
  • राज ठाकरे कांग्रेस-राकांपा के लिए मुंबई में करेंगे चुनाव प्रचार
  • विरोधी दलों का एक ही मकसद है लूटो और खाओ :डा0 दिनेश शर्मा
  • कुल्लू के 100 वर्ष की आयु पूरी कर चुके मतदाता सम्मानित होंगे: यूनुस
  • मैक्सिको में बंदूकधारी ने की 13 लोगों की हत्या
  • साध्वी प्रज्ञा को कलेक्टर भोपाल का नोटिस
  • समावेशी विकास के साथ देश का सशक्तीकरण कांग्रेस का लक्ष्य: प्रियंका
  • अफगानिस्तान में फिदायीन बम हमले में छह घायल
  • देश मोदी के समावेशी विकास के हाई वे पर :नकवी
  • रहाणे की जगह स्मिथ बनाये गये राजस्थान के कप्तान
  • राकेश चतुर्वेदी वापस आए कांग्रेस में
  • बरेली में पूर्व विधायक के भाई ने गोली मारकर की आत्महत्या
  • क्रिस गेल ने मेरी ज़िन्दगी बदल दी : आंद्रे रसेल
भारत


आपसी सहमति से समलैंगिक संबंध अपराध नहीं : सुप्रीम कोर्ट

आपसी सहमति से समलैंगिक संबंध अपराध नहीं : सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली, 06 सितम्बर (वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने गुरुवार को एक ऐतिहासिक फैसले में भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 377 के प्रावधानों को मनमाना और अतार्किक करार देते हुए दो वयस्कों के बीच आपसी सहमति से बनाये गये समलैंगिक संबंध को अपराध की श्रेणी से बाहर कर दिया।

मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर, न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़, न्यायमूर्ति रोहिंगटन एफ नरीमन और न्यायमूर्ति इंदु मल्होत्रा की संविधान पीठ ने धारा 377 के प्रावधानों को चुनौती देने वाली याचिकाओं का संयुक्त रूप से निपटारा करते हुए कहा कि एलजीबीटी समुदाय को हर वह अधिकार प्राप्त है, जो देश के किसी आम नागरिक को मिला हुआ है।

इस मामले में मुख्य न्यायाधीश के अलावा न्यायमूर्ति रोहिंगटन एफ नरीमन, न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति इंदु मल्होत्रा ने अलग-अलग परंतु सहमति का फैसला सुनाया। न्यायालय का कहना था, “धारा 377 के कुछ प्रावधान अतार्किक और मनमाने हैं और हमें एक-दूसरे के अधिकारों का आदर करना चाहिए।’’

संविधान पीठ ने नृत्यांगना नवतेज जौहर, पत्रकार सुनील मेहरा, शेफ ऋतु डालमिया, होटल कारोबारी अमननाथ और केशव सूरी एवं व्यवसायी आयशा कपूर और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) के 20 पूर्व तथा मौजूदा छात्रों की याचिकाओं पर यह फैसला सुनाया। इन सभी ने दो वयस्कों द्वारा परस्पर सहमति से समलैंगिक यौन संबंध स्थापित करने को अपराध के दायरे से बाहर रखने का अनुरोध करते हुए धारा 377 की संवैधानिक वैधता को चुनौती दी थी।

सबसे पहले मुख्य न्यायाधीश ने खुद और अपने साथ न्यायमूर्ति खानविलकर की ओर से अपना फैसला सुनाया और कहा कि देश में सबको समानता का अधिकार है। समाज की सोच बदलने की जरूरत है। कोई भी अपने व्यक्तित्व से बच नहीं सकता है। समाज में हर किसी को जीने का अधिकार है। न्यायमूर्ति मिश्रा ने कहा, “हमें पुरानी धारणाओं को बदलना होगा। एलजीबीटी समुदाय को हर वह अधिकार प्राप्त है जो देश के किसी आम नागरिक को मिला है। हमें एक-दूसरे के अधिकारों का आदर करना चाहिए।”

संविधान पीठ ने अाम सहमति से 158 साल पुरानी आईपीसी की धारा 377 के उस हिस्से को निरस्त कर दिया जिसके तहत परस्पर सहमति से अप्राकृतिक यौन संबंध अपराध था। न्यायालय ने हालांकि पशुओं और बच्चों के साथ अप्राकृतिक यौन संबंध बनाने के अपराध के मामले में धारा 377 के एक हिस्से को पहले की तरह अपराध की श्रेणी में ही बनाये रखा है।

न्यायालय ने कहा कि धारा 377 एलजीबीटी के सदस्यों को परेशान करने का हथियार था, जिसके कारण इससे भेदभाव होता है। उच्चतम न्यायालय ने कहा कि एलजीबीटी समुदाय को अन्य नागरिकों की तरह समान मानवीय और मौलिक अधिकार हैं।

सुरेश.श्रवण

जारी.वार्ता

More News
मोदी ने गुजरात के पूर्व मुख्य सचिव के निधन पर शोक व्यक्त किया

मोदी ने गुजरात के पूर्व मुख्य सचिव के निधन पर शोक व्यक्त किया

20 Apr 2019 | 4:35 PM

नयी दिल्ली 20 अप्रैल (वार्ता) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुजरात के पूर्व मुख्य सचिव एच के खान के निधन पर शोक व्यक्त किया है। श्री मोदी ने टि्वट संदेश में आज कहा ,“ वरिष्ठ आई ए एस अधिकारी और गुजरात के पूर्व मुख्य सचिव एच के खान के निधन से दुखी हूं।

see more..
मोदी ने सरकारी कंपनियों का हक छीना, निजी क्षेत्र काे पहुंचाया लाभ : कांग्रेस

मोदी ने सरकारी कंपनियों का हक छीना, निजी क्षेत्र काे पहुंचाया लाभ : कांग्रेस

20 Apr 2019 | 3:52 PM

नयी दिल्ली, 20 अप्रैल (वार्ता) कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने पांच साल के कार्यकाल के दौरान सरकारी क्षेत्र की कंपनियों की अनदेखी की है और निजी क्षेत्र की चुनिदा कंपनियों को फायदा पहुंचाने के लिए काम किया है।

see more..
image