Friday, Mar 22 2019 | Time 22:07 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • हार्दिक की मौजूदगी में लगे मोदी-मोदी के नारे, बिना भाषण दिये ही मंच से उतरे
  • राहुल ने पत्रकार के स्वास्थ्य पर चिंता प्रकट की
  • 48 घंटे की कड़ी मेहनत के बाद नदीम को बोरवेल से निकाला सुरक्षित बाहर
  • मोदी को पुन: उम्मीदवार बनाने से जश्न में डूबे वाराणसी के भाजपा कार्यकर्ता
  • भारत को उज्बेकिस्तान से मिली 0-3 से हार
  • भारत को उज्बेकिस्तान से मिली 0-3 से हार
  • कश्मीर में कांग्रेस नेता पर हमला, एक घायल
  • पूरी कांग्रेस दिखेगी बस में : तंवर
  • जेकेएलफ पर लगाया गया प्रतिबंध
  • शरद, मायावती के चुनाव नहीं लड़ने से राजग को फायदा : शिव सेना
  • ‘येदियुरप्पा डायरी: मूल प्रति शिवकुमार ने उपलब्ध नहीं करायी’
  • ‘समझौता एक्सप्रेस विस्फोट मामले में पाक ने नहीं की मदद’
  • देवरिया पुलिस ने व्यापारी की हत्या से परिवार के शोक को देखते हुए नहीं मनाई होली
  • चुनाव लड़ने का इच्छुक नहीं : शांता कुमार
विशेष » कुम्भ


एकता की अलख जगाने देश को साइकिल से माप रहे है नागराज

एकता की अलख जगाने देश को साइकिल से माप रहे है नागराज

कुंभ नगर,28 फरवरी (वार्ता) ‘रहनुमाओं की अदाओं पे फ़िदा है दुनिया, इस बहकती हुई दुनिया को सँभालो यारो

कैसे आकाश में सूराख़ हो नहीं सकता, एक पत्थर तो तबीयत से उछालो यारो। ’ दुष्यंत कुमार की इन पंक्तियों को आत्मसात करते हुये कर्नाटक के नागराज राष्ट्रीय एकता की खातिर विभिन्न संस्कृतियों और धर्मो को एक सूत्र में पिरोने के मकसद के साथ देशाटन पर हैं।

कर्नाटक के मूल निवासी नागराज गौड़ा ने एकता संदेश यात्रा का सफर मुंबई से तीन दिसम्बर 2017 को साइकिल से शुरू किया था। संगम तट पर बसे कुम्भ नगर पहुंचने पर उन्होने गुरूवार को “यूनीवार्ता” से खास बातचीत में कहा कि वह आमजन में राष्ट्रीय एकता, देशभक्ति, विश्व शांति, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, पानी बचाओ, हरियाली बढ़ाओ और सर्व धर्म समभाव के उद्देश्य से लोगों में जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से भारत भ्रमण पर निकले हैं।

श्री गौड़ा ने बताया कि मुंबई से गुजरात, राजस्थान, हरियाणा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखण्ड, दिल्ली, जयपुर, आगरा और कानपुर होते हुए तीन दिन पहले कुम्भ नगरी पहुंचे है। अपने सफर के दौरान वह विभिन्न राज्यों और जिलों में लोगों के बीच बात करतें हैं, अपने विचारों को साझा करते हैं। यह करके उनको आत्मिक शांति मिलती है। उन्होने कहा “ मैं अपने मकसद में कहां तक पहुंच पाता हूं, नहीं जानता लेकिन प्रयास होगा कि जितना दूर तक जा सकूं, लोगों के बीम में इन संदेशों के प्रवाह को पहुंचा सकूं। ”

उन्होने बताया कि वह यह सोच कर कुम्भ आए थे कि यह बहुत बड़ा प्लेटफार्म है और यहां पर एक साथ बड़ी संख्या में पहुंचे श्रद्धालुओं के बीच में अपने संदेश के प्रवाह को फैलाने में मदद मिलेगी लेकिन यहां पहुंचने से पहले मेला समाप्त हो चुका है। फिर भी जितना है उतने में अभी तक कम से कम पांच हजार श्रद्धालुआें के बीच संदेश को पहुंचा चुके हैं। उनका मानना है देश हित का संदेश का अगर दो प्रतिशत भी लोगों ने स्वीकार किया तो समझो उन्हे अपने मकसद में सफलता मिल गयी।

दिनेश प्रदीप

वार्ता

More News
कुम्भ ने दुनिया को कराया भारतीय संस्कृति की विविधता का अहसास :राणा

कुम्भ ने दुनिया को कराया भारतीय संस्कृति की विविधता का अहसास :राणा

04 Mar 2019 | 9:55 PM

कुम्भ,04 मार्च (वार्ता) उत्तर प्रदेश के गन्ना विकास एवं चीनी मिल मंत्री सुरेश राणा ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के निर्देशन तथा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कुशल नेतृत्व का बखान करते हुए कहा कि पूरे विश्व ने कुम्भ की प्राचीन मान्यता, आध्यात्मिकता, लौकिकता, आपसी सद्भाव को स्वीकार किया।

see more..
कुम्भ की आभा बेमिसाल : फडणवीस

कुम्भ की आभा बेमिसाल : फडणवीस

04 Mar 2019 | 9:55 PM

कुम्भनगर,04 मार्च (वार्ता) महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने कहा कि दुनिया के सबसे बड़े आध्यात्मिक और सांस्कृतिक समागम कुम्भ की जितनी प्रशंसा की जाए,वह कम है।

see more..
महाशिवरात्रि स्नान पर एक करोड़ से अधिक श्रद्धालुओं ने लगाई संगम में आस्था की डुबकी

महाशिवरात्रि स्नान पर एक करोड़ से अधिक श्रद्धालुओं ने लगाई संगम में आस्था की डुबकी

04 Mar 2019 | 8:55 PM

कुम्भनगर, 04 मार्च (वार्ता) सम्पूर्ण विश्व में अपनी अमिट छाप छोड़ने वाले कुम्भ के आखिरी दिन महाशिवरात्रि के पर्व पर एक करोड़ 10 लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने पतित पावनी गंगा, श्यामल यमुना और अन्त: सलिला स्वरूप में प्रवाहित हो रही सरस्वती में आस्था की डुबकी लगाई।

see more..
आध्यात्म,वैराग्य और ज्ञान की ऊर्जा सतत प्रवाहित होती है संगम की रेत में

आध्यात्म,वैराग्य और ज्ञान की ऊर्जा सतत प्रवाहित होती है संगम की रेत में

04 Mar 2019 | 6:04 PM

कुम्भनगर, 04 मार्च (वार्ता) पतित पावनी गंगा, श्यामल यमुना और अन्त: सलीला स्वरूप में प्रवाहित सरस्वती के त्रिवेणी की विस्तीर्ण रेती वैराग्य, ज्ञान और आध्यात्मिक शक्ति से ओतप्रोत है।

see more..
महाशिवरात्रि से पहले संगम पर उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़

महाशिवरात्रि से पहले संगम पर उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़

03 Mar 2019 | 2:35 PM

कुंभनगर, 03 मार्च (वार्ता) दुनिया के सबसे बड़े आध्यात्मिक और सांस्कृतिक समागम कुंभ के छठे और आखिरी स्नान पर्व महाशिवरात्रि से एक दिन पहले रविवार को एक बार फिर दूर-दराज से भक्तों का रेला संगम पर आस्था के समंदर में बूंदा-बांदी को धता बताकर हिलोरें ले रहा है।

see more..
image