Wednesday, Oct 16 2019 | Time 20:55 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • बिहार में युवती की सिर कटी लाश समेत छह शव बरामद
  • फोटो कैप्शन: दूसरा सेट
  • भारत को महान देश बनाने में महाराष्ट्र का बहुत बड़ा योगदान: मोदी
  • सेल्फी लेने के चक्कर में पार्वती नदी में गिरीं दो लड़कियां, एक लापता
  • शाओमी ने नोट 8 सीरीज के फोन लांच किये
  • जस्टिस मिश्रा को सुनवाई से अलग करने की अर्जी पर बुधवार को फैसला
  • अश्विन और उनकी कप्तानी पर अभी कोई फैसला नहीं : कुंबले
  • निर्बाध बिजली सरकार देगी, बिल भरना होगा : रघुवर
  • लूटकांड मामले में सरगना समेत पांच गिरफ्तार
  • उप्र में अपराध नियंत्रण एवं त्योहारों पर हो पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था: ओ पी सिंह
  • मास्टर्स नेशनल चैंपियनशिप 18 से लखनऊ में
  • सोनिया गांधी से माफी मांगे खट्टर: मंड
  • सुखबीर का अहंकार ही अकाली दल को खत्म करेगा : कैप्टन अमरिन्दर सिंह
  • करतारपुर में 31 अक्टूबर तक पूरा हो जायेगा निर्माण कार्य: गृह मंत्रालय
  • अनुच्छेद 370 आतंकवाद और अलगाववाद का मंच बन गया था: प्रसाद
राज्य » उत्तर प्रदेश


नाईक ने किया चित्रकला कार्यशाला में कलाकारों को सम्मानित

नाईक ने किया चित्रकला कार्यशाला में कलाकारों को सम्मानित

लखनऊ, 10 जून (वार्ता) उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने पांच दिवसीय चित्रकला कार्यशाला का समापन करते हुए सभी कलाकारों सम्मानित किया।

ललित कला अकादमी, राष्ट्रीय कला संस्थान, नई दिल्ली तथा संस्कार भारती उत्तर प्रदेश के संयुक्त तत्वावधान में राजभवन में छह जून से पांच दिवसीय कला कार्यशाला का आयोजन किया गया। इसमें कलाकारों ने मुख्यतः राज्यपाल एवं राजभवन की इमारत के चित्र बनाये थे।

श्री नाईक ने सोमवार को चित्रकला कार्यशाला के समापन के मौके सभी कलाकारों को अंग वस्त्र, प्रमाण पत्र, रूपये पांच-पांच हजार की धनराशि बतौर यादगार तथा अपनी पुस्तक ‘चरैवेति!चरैवेति!!’ देकर सम्मानति किया।

इस मौके पर राज्यपाल ने कहा कि ‘मेरा फोटो सुंदर है पर यदि मैं और सुंदर होता तो चित्र भी ज्यादा सुंदर होता।’ सभी कलाकारों ने चित्रकारी में अपनी असीमित कल्पना शक्ति का प्रयोग करके सुंदर चित्र बनाये हैं।

उन्होंने कहा कि भारत की पहचान विश्व में कला से है। भारत में कला का समृद्ध इतिहास रहा है। हमारे देश में 64 कलायें विद्यमान हैं। इस गौरवशाली परम्परा को आज भी गुफाओं में देखा जा सकता है।

श्री नाईक ने कहा कि 22 जुलाई 2014 को जब उन्होंने राज्यपाल के पद की शपथ ली थी तो उन्होंने राजभवन के दरवाजे सभी के लिये खोलकर उसे ‘लोकभवन’ बनाने की बात कही थी। गत पांच साल में 30 हजार से ज्यादा लोगों से उन्होंने राजभवन में भेंट की। राजभवन वास्तव में केवल राज्यपाल का ही नहीं बल्कि पूरे समाज का है। उन्होंने कहा कि राजभवन की सुंदरता चित्रों के माध्यम से और सुंदर होकर बाहर आयी है।

त्यागी

जारी वार्ता

More News
त्योहारी सीजन में कोटक महिन्द्रा ने खोला आकर्षक प्रस्तावों का पिटारा

त्योहारी सीजन में कोटक महिन्द्रा ने खोला आकर्षक प्रस्तावों का पिटारा

16 Oct 2019 | 8:15 PM

लखनऊ, 16 अक्टूबर (वार्ता) बैंकिग कारोबार में बढ़ती प्रतिस्पर्धा के बीच त्योहारी मौसम में निजी क्षेत्र में अग्रणी कोटक महिन्द्रा बैंक ने ग्राहकों को आकर्षित करने की नीयत से कई आकर्षक प्रस्तावों की पेशकश की है।

see more..
अमन पसंद अयोध्या को है अदालत के फैसले का इंतजार

अमन पसंद अयोध्या को है अदालत के फैसले का इंतजार

16 Oct 2019 | 8:00 PM

अयाेध्या 16 अक्टूबर (वार्ता) उत्तर प्रदेश की पौराणिक नगरी अयोध्या में रामजन्मभूमि विवाद ने यूं तो 18वीं शताब्दी में ही जन्म ले लिया था लेकिन छह दिसम्बर 1992 को बाबरी विध्वंस के बाद देश भर में भड़के सांप्रदायिक दंगों ने यहां की गंगा जमुनी संस्कृति पर गहरा आघात किया जिससे आहत अमन पसंद अयोध्या पिछले करीब तीन दशकों से विवाद के खत्म होने की राह तक रही है।

see more..
image