Wednesday, Nov 20 2019 | Time 20:50 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पाकिस्तानी सैनिकों ने पुंछ में नियंत्रण रेखा पर गोलीबारी की
  • झांसी:लाखों के माल के साथ एक महिला और पांच बदमाश गिरफ्तार
  • कानून व्यवस्था को बनाये रखने के लिये सतर्क रहे पुलिस : नीतीश
  • व्यवसाई हत्याकांड मामले में दो गिरफ्तार
  • येदियुरप्पा ने कुरुबा समुदाय को लेकर कानून मंत्री की टिप्पणी पर मांगी माफी
  • झारखंड विधानसभा चुनाव में सरयू के पक्ष में चुनाव नहीं करेंगे नीतीश
  • जीटीएफ इंजन खरीदेगी गोएयर
  • एनएचएआई सर्वश्रेष्ठ फास्टैग तकनीक इस्तेमाल करे : गडकरी
  • सोनभद्र के राबट्सगंज में नौ पट्टाधारकों के विरुद्ध कार्रवाई के निर्देश
  • भारत-नेपाल सीमा से शराब के साथ दो तस्कर गिरफ्तार
  • ब्लू स्टार ने लॉच किया इन बिल्ट एयर प्यूरिफायर एसी
  • केरल में विधायक पर पुलिस लाठीचार्ज को लेकर विस में हंगामा
  • लूटकांड में हथियार समेत तीन गिरफ्तार
  • श्रीलंका के प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने दिया इस्तीफा
  • अमरिंदर का सैनिकों की मौत पर शोक, 12-12 लाख रुपए और नौकरी देने का ऐलान
राज्य


नंदनकानन प्राणि उद्यान में श्वेत बाघ की मौत

नंदनकानन प्राणि उद्यान में श्वेत बाघ की मौत

भुवनेश्वर, 16 अक्टूबर (वार्ता) ओडिशा के नंदनकानन प्राणि उद्यान में मंगलवार को श्वेत बाघ सुभ्रांशु की रक्त संबंधी प्रोटोजोआ रोग के कारण मौत हो गयी।

चिड़ियाघर के उप निदेशक जयंत कुमार दास ने बताया कि सुभ्रांशु बाघ की रक्त प्रोटोजोआ बीमारी से मौत होने की आशंका जतायी गयी है। बुधवार को हुए पोस्टमार्टम की रिपोर्ट से पता चला कि इस बीमारी से बाघ के यकृत और आंत में रक्त स्राव हो गया था जिसके कारण रक्त के आंतरिक हिस्सों में फैल जाने से शरीर को नुकसान हुआ था।

उन्हाेंने कहा कि प्रयोगशाला में पोस्टमार्टम के दौरान इकट्ठे किये गये नमूनों से इस बीमारी की पहचान हुई है। सुभ्रांशु नामक यह बाघ चिड़ियाघर का मुख्य आकर्षण था।

उन्होंने कहा कि मृत बाघ के अंगों के नमूने रोग की पुष्टि के लिए भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान, बरेली और चेन्नई भेजे जाएंगे। इसके साथ ही इसे सेंटर फॉर वाइल्ड लाइफ हेल्थ, ओयूएटी, भुवनेश्वर में सुरक्षित रखा जायेगा।

इस बीच, चिड़ियाघर प्राधिकरण ने बाघ के बाड़े की सफाई करनी शुरू कर दी है। बाड़े की दीवार 10 फुट ऊंची दीवार पर दोनों ओर स्प्रे किया जा रहा है।

श्री दास ने कहा कि टिक बीमारी के उन्मूलन के वैकल्पिक उपचार के लिए पैथोलॉजिस्टों से परामर्श करने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं।

सुभ्रांशु की मौत के बाद चिड़ियाघर में लगातार शेरों और बाघ के रक्त के नमूनों की जांच की जा रही है। सुभ्रांशु की मौत से अब चिड़ियाघर में बाघों की संख्या 25 रह गयी है जिसमें से 12 नर और 13 मादा हैं।

उप्रेती.श्रवण

वार्ता

image