Monday, Nov 18 2019 | Time 11:24 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सभी मुद्दों पर खुलकर चर्चा के लिए तैयार : मोदी
  • महाराष्ट्र में मोटरसाइकल- टेम्पू की टक्कर में तीन की मौत
  • आरसेप से हटना भारत की ऐतिहासिक चूक:चीनी थिंक टैंक
  • श्रीलंका के कैबिनेट मंत्रियों का प्रधानमंत्री से पद छोड़ने का आग्रह
  • लीबिया ने 62 अवैध प्रवासियों को देश से बाहर किया
  • बस - ट्रक भिड़ंत में 10 लोगों की मौत, 25 घायल
  • न्यायमूर्ति बोबडे ने ली 47 वें मुख्य न्यायाधीश की शपथ
  • न्यायमूर्ति शरद अरविंद बोबडे देश के 47 वें मुख्य न्यायाधीश बने। राष्ट्रपति ने शपथ दिलाई।
  • श्रीलंका के सातवें राष्ट्रपति के तौर पर शपथ लेंगे गोताबाया
  • मोदी ने कमलनाथ को जन्मदिन की दी शुभकामनाएं
  • बीमारियों से ज्यादा लोग सड़क हादसों में मर रहे हैं: गुटेरेस
  • उप्र में पराली जलाने वालों पर हो कार्रवाई, 20 तक अधिकारियों से रिपोर्ट मांगी
  • बलरामपुर में स्कार्पियो के पलटने से परिवार के तीन सदस्यों की मृत्यु ,आठ घायल
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 19 नवंबर )
  • ईरान में ‘शांतिपूर्ण विरोध’ का समर्थन-अमेरिका
राज्य » मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़


कृषि क्षेत्र में नई क्रांति की आवश्यकता-कमलनाथ

कृषि क्षेत्र में नई क्रांति की आवश्यकता-कमलनाथ

नरसिंहपुर, 14 अक्टूबर (वार्ता) मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि किसानों की आय बढ़ाने और कृषि क्षेत्र की उन्नति के लिए व्यापक सुधार लाया जायेगा। कृषि में नई क्रांति की आवश्यकता है, जिससे किसानों की क्रय शक्ति बढ़ाई जा सके और उन्हें न्याय मिले।

श्री कमलनाथ आज यहां जिला मुख्यालय में आयोजित विकास कार्यों के लोकार्पण और भूमिपूजन समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि गन्‍ना के उत्पादन और गन्‍ना किसानों के व्यापक हितों को ध्यान में रखकर शासन द्वारा नीति बनाई जायेगी। उन्होंने कहा कि गन्‍ना‍ किसानों से बातचीत कर उनकी समस्याओं का निराकरण किया जायेगा। उनकी अपेक्षायें पूरी होंगी। उन्होंने कहा कि किसानों और नौजवानों की क्रय शक्ति बढ़ाकर ही आर्थिक गतिविधियों को तेज किया जा सकता है।

उन्होंने कहा कि किसानों, नौजवानों तथा प्रत्येक नागरिक की उन्नति के लिए दिये गये वचन, हमारी सरकार को काम करने के लिए मिले मात्र साढ़े सात माह के अल्प समय में ही जमीन में अमल पर आते हुए दिखने और महसूस होने लगे हैं। प्रदेश में प्रथम चरण में 21 लाख किसानों के कृषि ऋण माफ हुये हैं और नरसिंहपुर जिले में 20 हजार 322 किसानों के कृषि ऋण माफ हुये हैं। कृषि ऋण माफी की निर्धारित प्रक्रिया निरंतर चल रही है और शेष कर्ज राशि भी शीघ्र माफ होती जायेगी।

उन्होंने कहा कि हमारी सरकार को खाली खजाना मिला था। किसान, नौजवान सहित समाज का हर वर्ग हताशा की स्थिति में था। कृषि, उद्योग सहित प्रत्येक क्षेत्र में उत्साह और निवेश की कमी हो रही थी। अब राज्य सरकार की जनहितैषी नीतियों से सकारात्मक बदलाव को महसूस किया जाने लगा है। जनता सहित निवेशकों में मध्यप्रदेश के लिए विश्‍वास बढ़ा है। यही विश्‍वास निवेश को आमंत्रित कर रहा है। निवेश को बढ़ाकर नौजवानों को बेहतर रोजगार देकर उनके भविष्य को सुरक्षित बनाया जायेगा और इस बड़ी चुनौती को राज्य सरकार स्वीकार कर चुकी है। राज्य सरकार ने साढ़े सात माह की अल्प अवधि में ही अपनी सकारात्मक नीति और नियत का परिचय दे दिया है।

उन्होंने कहा कि खाली खजाना मिलने के बाद भी जनकल्याण के कार्यों के लिए वित्त का इंतजाम सरकार ने किया। उन्होंने छिंदवाड़ा और नरसिंहपुर के विकास का उल्लेख करते हुए कहा कि आज ये दोनों जिले चहुंमूखी विकास के कारण बहुत बदल गये हैं। पहले इन दोनों जिलों में आने वाले लोग आज यहां हुए बड़े परिवर्ततन को स्पष्ट रूप से देखते हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि छिंदवाड़ा और नरसिंहपुर जिलों में सड़कों और अधोसंरचनाओं को उन्नत बनाने के लिए उन्होंने केन्द्र सरकार में मंत्री के रूप में अनेक परियोजनाओं को स्वीकृति दी थी। मेरा नरसिंहपुर से बहुत गहरा, आत्मीय और पुराना संबंध है। आने वाले समय में नरसिंहपुर विकास का नया इतिहास बनायेगा। उन्होंने कहा कि विधानसभा अध्यक्ष श्री प्रजापति और विधायकों की सभी मांगों पर राज्य सरकार निर्णय लेकर कार्यों को स्वीकृत कर अमल में लाने का कार्य करेगी।

विधानसभा अध्यक्ष नर्मदा प्रसाद प्रजापति ने कहा कि जब भी श्री कमलनाथ से जिले की विकास की चर्चा करने जाता हूं, उसके पहले से ही उनके पास जिले के विकास का ब्लू प्रिन्ट रखा होता है। विश्वास के प्रतीक के रूप में स्थापित प्रदेश सरकार मुखिया से उन्होंने नरसिंहपुर में विधि महाविद्यालय, कृषि अभियांत्रिकी महाविद्यालय, बिलथरी- कोठारी नर्मदा नदी पर पुल, डोभी में 30 बिस्तरीय अस्पताल, तेन्दूखेड़ा से सहजपुरा 17 किमी लम्बाई की सड़क निर्माण कराये जाने की माँग रखी। साथ ही जिले में इंडोर स्टेडियम एवं क्रिकेट स्टेडियम की स्वीकृति प्रदान कर जिले की खेल प्रतिभाओं को प्रदेश पर ही नहीं वरन राष्ट्रीय स्तर पर अपना मुकाम स्थापित करने की सौगात की भी मॉग की। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार के प्रति लोगों का विश्वास बढ़ा है। अब निवेशक भी प्रदेश आने के लिये तैयार है। उन्हे उम्मीद ही नही बल्कि पूर्व विश्वास है कि प्रदेश में विकास का पहिया अनवरत चलता रहेगा।

प्रदेश के वित्त मंत्री तथा जिले के प्रभारी मंत्री तरूण भनोत ने कहा कि श्री कमलनाथ के नेतत्व वाली सरकार द्वारा सम्पूर्ण प्रदेश के साथ नरसिंहपुर जिले के विकास के लिए प्राथमिकता के साथ तेजी से कार्य किया जा रहा है। जिले के सभी क्षेत्रों एवं सभी वर्गो के सर्वांगीण विकास के लिए योजनायें बनाकर विकास की राह में तेजी से कार्य किया जायेगा। जिसमें वित्त की कमी नही होने दी जायेगी। क्षेत्र के किसानों की समस्याओं को त्वरित निराकरण किया जायेगा।

प्रदेश शासन के लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री तुलसीराम सिलावट ने कहा कि सरकार द्वारा प्रदेश के चहॅूमुखी विकास के लिए नई सोच, नई मंशा से कार्य किया जा रहा है। जिससे प्रदेश के प्रत्येक वर्ग तक अच्छी शिक्षा एवं बेहतर स्वास्थ्य व्यवस्था की पहुंच हो। इस दिशा में तेजी से कार्यवाही की जा रही है। इस दिशा में नरसिंहपुर जिले में 100 बिस्तरीय जिला चिकित्सालय का भवन का लोकापर्ण एक बड़ा कदम है। उन्होंने कहा कि ऑपरेशन थियेटर, प्रसव कक्ष, न्यू बोर्न बेबी यूनिट जैसी अत्याधिक सुविधा वाले जिला चिकित्सालय का लाभ गरीब, जरूरतमंद परिवारों को मिलेगा।

पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुरेश पचौरी ने कहा कि स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की इस भूमि से श्री कमलनाथ का आत्मीय लगाव पहले से रहा है। नरसिंहपुर जिले के विकास की उनकी यह दिलचस्वी केन्द्र सरकार में मंत्री रहने के दौरान से ही बनी हुई है। इस कार्यकाल में उन्होंने जिले को कई सौगातें प्रदान की थी। वे नरसिंहपुर के विकास को छिन्दवाड़ा के विकास माडल की तर्ज पर करने में सतत् रूप से प्रयासरत है।

मुख्यमंत्री जनपद मैदान में आयोजित कार्यक्रम में विभिन्‍न विकास कार्यों के भूमिपूजन एवं लोकार्पण किया। जिसमें 10 करोड़ 65 लाख 15 हजार रूपये की लागत से निर्मित 100 बिस्तरीय चौ. शंकरलाल दुबे जिला चिकित्सालय, 30 करोड़ रूपये लागत से नर्मदा नदी में निर्मित उच्च स्तरीय केरपानी पुल एवं 11 करोड़ 36 लाख 13 हजार रूपये लागत के नर्मदा शॉपिंग काम्पलेक्स के प्रथम चरण में निर्मित दुकानों का लोकार्पण करने के साथ ही लगभग 11 करोड़ रूपये लागत से बनने वाले एस्ट्रोटर्फ एवं हॉकी स्टेडियम, 2 करोड़ 63 लाख रूपये की लागत के केन्द्रीय जेल के निर्माण कार्यों तथा 5 करोड़ 4 लाख रूपये लागत के एनएच 26 से बरमानखुर्द तक सीसी रोड का भूमिपूजन किया।

नाग

वार्ता

image