Tuesday, Apr 23 2019 | Time 17:29 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • हरियाणा पुलिस का छह बदमाशों पर एक-एक लाख रुपये का ईनाम घोषित
  • मोदी सरकार ने राजनीतिक परिभाषा बदलने का काम किया - बृजेंद्र सिंह
  • मध्य फिलीपींस में छह सैनिक मरे
  • वियतनाम में सैन्य विमान दुर्घटनाग्रस्त, सैनिक घायल
  • बैंकिंग, ऑटो में बिकवाली से तीसरे दिन टूटा बाजार
  • कांग्रेस प्रत्याशी औजला ने दाखिल किया नामांकन
  • उम्मीदवारों को चुनावी नैया पार लगाने के लिये डेरों का सहारा
  • पीयरलेस से 1514 करोड़ रुपए की वसूली
  • कांग्रेस की न्याय योजना करेगी गरीबी का खात्मा : कुलदीप बिश्नोई
  • कांग्रेस ने शिवराज सहित भाजपा के चार नेताओं के खिलाफ दर्ज कराई शिकायत
  • आईएस ने श्रीलंका हमले की ली जिम्मेदारी
  • शारदा चिट फंड घोटाले का मुख्य आरोपी अस्पताल में भर्ती
  • मराठवाडा में अपराह्न तीन बजे तक 47़ 5 फीसदी मतदान
  • कांग्रेस ने लूटा, भाजपा ने बांटा : दुष्यंत चौटाला
  • बिलकिस बानो को 50 लाख रु की सहायता देने के निर्देश
खेल


महिला कबड्डी खिलाड़ियों को प्रोत्साहन की आवश्यकता

महिला कबड्डी खिलाड़ियों को प्रोत्साहन की आवश्यकता

नयी दिल्ली, 21 जुलाई (वार्ता) पांच विश्व कप खिताब और सात बैक-टू-बैक एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक कबड्डी के खेल में भारत की सफलता का प्रमाण हैं लेकिन इन उपलब्धियों के बाद भी प्रमोशन और आधारभूत संरचना के मामले में देश में कबड्डी का विकास नहीं हुआ है। यह मानना है पालम स्पोर्ट्स क्लब की 50 वर्षीय कोच और शारीरिक शिक्षा शिक्षक नीलम साहू का।

नीलम अजय साहू के साथ मिलकर पिछले 25 साल से लड़कियों को कबड्डी का प्रशिक्षण दे रही हैं। सीमित संसाधनों के बावजूद अब तक उन्होंने लगभग 300 खिलाड़ियों को प्रशिक्षित किया है। इनमें से नौ खिलाड़ियों ने विभिन्न अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंटों में भारत का प्रतिनिधित्व भी किया है।

खिलाड़ियों की मदद और उन्हें बेहतर सुविधा के साथ प्रशिक्षण देने के लक्ष्य के साथ अब उन्होंने क्राउड फंडिंग प्‍लेटफॉर्म मिलाप से हाथ मिलाया है। उन्होंने ‘लेट्स हेल्प वीमेन कबड्डी प्लेयर्स अचिव देयर ड्रीम’ नाम से ऑनलाइन फंडरेजर कार्यक्रम मिलाप क्राउड फंडिंग मंच पर शुरू किया है। ये फंड महिला खिलाड़ियों को अपने खेल में उत्कृष्टता प्राप्त करने में मदद करेगा।

अपनी परेशानी साझा करते हुए कोच नीलम साहू ने कहा कि कबड्डी एक ऐसा खेल है, जिसके लिए खिलाड़ियों को अभ्यास करते समय नंगे पैर रहना होता है। सर्दियों में ठंडी जमीन एक बड़ी चुनौती है। कई प्रशिक्षण संस्थान सर्दियों के दौरान अभ्यास के लिए मैट का उपयोग करते हैं। मैट की औसत लागत लगभग दो लाख रुपये है। इतना पैसा हम नहीं लगा सकते। मैट सिर्फ एक मौसम तक ही काम आता है। इसमें लगातार खर्च आता है। उनका कहना है कि सुविधाओं की कमी के कारण कई खिलाड़ियों के सपने अधूरे रह जाते हैं।

राज

वार्ता

More News
बजरंग और प्रवीण राणा स्वर्ण से एक कदम दूर

बजरंग और प्रवीण राणा स्वर्ण से एक कदम दूर

23 Apr 2019 | 5:11 PM

नयी दिल्ली, 23 अप्रैल (वार्ता) भारत के स्टार पहलवान बजरंग पूनिया और प्रवीण राणा ने चीन में चल रही एशियाई कुश्ती प्रतियोगिता के फ्री स्टाइल में अपने अपने वर्गों के फाइनल में प्रवेश कर लिया है।

see more..
भारत की दो जोड़ियां दूसरे दौर में, दो बाहर

भारत की दो जोड़ियां दूसरे दौर में, दो बाहर

23 Apr 2019 | 4:50 PM

वुहान, 23 अप्रैल (वार्ता) भारत की दो जोड़ियों ने बैडमिंटन एशिया चैंपियनशिप के मिश्रित युगल मुकाबलों के दूसरे दौर में जगह बना ली है जबकि दो अन्य जोड़ियों को बाहर हो जाना पड़ा है।

see more..
बेयरस्टो, वार्नर की वतन वापसी से हैदारबाद को तगड़ा झटका

बेयरस्टो, वार्नर की वतन वापसी से हैदारबाद को तगड़ा झटका

23 Apr 2019 | 4:36 PM

नयी दिल्ली, 23 अप्रैल (वार्ता) आईपीएल के 12वें सीजन में अपनी ताबड़तोड़ पारियों से विपक्षी टीम को पस्त करने वाले सनराइजर्स हैदराबाद के सलामी बल्लेबाज जॉनी बेयरस्टो और डेविड वार्नर विश्वकप के मद्देनज़र अपने देश रवाना होंगे जिससे हैदराबाद की टीम को तगड़ा झटका लगा है।

see more..
चोटिल अल्जारी की जगह हैंडरिक्स मुंबई में शामिल

चोटिल अल्जारी की जगह हैंडरिक्स मुंबई में शामिल

23 Apr 2019 | 4:24 PM

नयी दिल्ली, 23 अप्रैल (वार्ता) दक्षिण अफ्रीका के तेज़ गेंदबाज़ बियूरन हैंडरिक्स को चोटिल खिलाड़ी अल्जारी जोसफ की जगह मुंबई इंडियन्स का हिस्सा बनाया गया है जो अब टीम के लिये आईपीएल-12 के शेष सत्र में खेलेंगे।

see more..
image