Friday, Nov 16 2018 | Time 16:57 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • हिमालया का खुश रहो- खुशहाल रहो अभियान हुआ लॉन्च
  • चेन्नई सर्राफा के भाव
  • 1984 दंगों के एक मामले में गवाह ने सज्जन कुमार को पहचाना
  • ममता ने ‘राष्ट्रीय प्रेस दिवस’ के मौके पर पत्रकारों को दी बधाई
  • किम जोंग उन ने नये हथियारों का किया निरीक्षण
  • वसुंधरा शनिवार दाखिल करेगी अपना नामांकन पत्र
  • ग्रुप में शीर्ष स्थान की जंग लड़ेंगे भारत-आस्ट्रेलिया
  • ग्रुप में शीर्ष स्थान की जंग लड़ेंगे भारत-आस्ट्रेलिया
  • सेंसेक्स 196 अंक उछला;निफ्टी 65 अंक चढ़ा
  • प्यार की बात करने का दावा करने वाली कांग्रेस को मध्यप्रदेश में आता है सिर्फ गुस्सा : मोदी
  • फुटपाथ विक्रेताओं को व्यवस्थित करना प्राथमिकता : रघुवर
  • श्रीकांत क्वार्टरफाइनल में हारकर बाहर
  • श्रीकांत क्वार्टरफाइनल में हारकर बाहर
  • जशपुर जिले में कल शाह और राहुल की सभा
  • चेन्नई तिलहन के भाव
खेल Share

महिला कबड्डी खिलाड़ियों को प्रोत्साहन की आवश्यकता

महिला कबड्डी खिलाड़ियों को प्रोत्साहन की आवश्यकता

नयी दिल्ली, 21 जुलाई (वार्ता) पांच विश्व कप खिताब और सात बैक-टू-बैक एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक कबड्डी के खेल में भारत की सफलता का प्रमाण हैं लेकिन इन उपलब्धियों के बाद भी प्रमोशन और आधारभूत संरचना के मामले में देश में कबड्डी का विकास नहीं हुआ है। यह मानना है पालम स्पोर्ट्स क्लब की 50 वर्षीय कोच और शारीरिक शिक्षा शिक्षक नीलम साहू का।

नीलम अजय साहू के साथ मिलकर पिछले 25 साल से लड़कियों को कबड्डी का प्रशिक्षण दे रही हैं। सीमित संसाधनों के बावजूद अब तक उन्होंने लगभग 300 खिलाड़ियों को प्रशिक्षित किया है। इनमें से नौ खिलाड़ियों ने विभिन्न अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंटों में भारत का प्रतिनिधित्व भी किया है।

खिलाड़ियों की मदद और उन्हें बेहतर सुविधा के साथ प्रशिक्षण देने के लक्ष्य के साथ अब उन्होंने क्राउड फंडिंग प्‍लेटफॉर्म मिलाप से हाथ मिलाया है। उन्होंने ‘लेट्स हेल्प वीमेन कबड्डी प्लेयर्स अचिव देयर ड्रीम’ नाम से ऑनलाइन फंडरेजर कार्यक्रम मिलाप क्राउड फंडिंग मंच पर शुरू किया है। ये फंड महिला खिलाड़ियों को अपने खेल में उत्कृष्टता प्राप्त करने में मदद करेगा।

अपनी परेशानी साझा करते हुए कोच नीलम साहू ने कहा कि कबड्डी एक ऐसा खेल है, जिसके लिए खिलाड़ियों को अभ्यास करते समय नंगे पैर रहना होता है। सर्दियों में ठंडी जमीन एक बड़ी चुनौती है। कई प्रशिक्षण संस्थान सर्दियों के दौरान अभ्यास के लिए मैट का उपयोग करते हैं। मैट की औसत लागत लगभग दो लाख रुपये है। इतना पैसा हम नहीं लगा सकते। मैट सिर्फ एक मौसम तक ही काम आता है। इसमें लगातार खर्च आता है। उनका कहना है कि सुविधाओं की कमी के कारण कई खिलाड़ियों के सपने अधूरे रह जाते हैं।

राज

वार्ता

More News
श्रीकांत क्वार्टरफाइनल में हारकर बाहर

श्रीकांत क्वार्टरफाइनल में हारकर बाहर

16 Nov 2018 | 4:56 PM

कोलून, 16 नवंबर (वार्ता) चौथी वरीयता प्राप्त किदाम्बी श्रीकांत को यहां हांगकांग ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट में शुक्रवार को पुरूष एकल क्वार्टरफाइनल में अपने से निम्न वरीय जापानी खिलाड़ी केंतो निशिमोताे से उलटफेर का सामना करना पड़ गया।

 Sharesee more..

16 Nov 2018 | 4:34 PM

 Sharesee more..
पहली बार जॉर्डन से भिड़ने को तैयार भारत

पहली बार जॉर्डन से भिड़ने को तैयार भारत

16 Nov 2018 | 4:56 PM

नयी दिल्ली, 16 नवम्बर (वार्ता) भारत अपने फुटबॉल इतिहास में पहली बार जॉर्डन से भिड़ने जा रहा है और यह ऐतिहासिक मुकाबला शनिवार को जॉर्डन के अपने शहर अम्मान में होगा जिसके लिये भारतीय फुटबाल कोच स्टीफन कोंस्टेनटाइन ने अपनी 22 सदस्यीय टीम घोषित कर दी है।

 Sharesee more..

16 Nov 2018 | 3:12 PM

 Sharesee more..
एंडरसन को हरा 15वीं बार एटीपी सेमीफाइनल में फेडरर

एंडरसन को हरा 15वीं बार एटीपी सेमीफाइनल में फेडरर

16 Nov 2018 | 2:42 PM

लंदन, 16 नवंबर (वार्ता) स्विस मास्टर रोजर फेडरर ने एटीपी फाइनल्स में दक्षिण अफ्रीका के केविन एंडरसन को लगातार सेटों में 6-4, 6-3 से पराजित कर विंबलडन की हार का बदला चुकता किया, हालांकि दोनों खिलाड़ियों ने सेमीफाइनल में अपनी जगह पक्की कर ली है।

 Sharesee more..
image