Saturday, Jan 19 2019 | Time 15:36 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • भाजपा ने देश को बांटा और हम राष्ट्र की एकजुटता के पक्ष में: नायडू
  • खतरे में है लोकतंत्र: सिन्हा
  • सुस्त जेवराती माँग से सोना टूटा
  • लोकसभा चुनाव की तैयारियों के सिलसिले में पुलिस मुख्यालय ने जारी किये दिशा-निर्देश
  • खतरे में है लोकतंत्र: सिन्हा
  • कश्मीर में बर्फ़बारी से यातायात प्रभावित, लेह हाईवे बंद
  • कार्यकर्ताओं पर हार का ठीकरा फोड़ने पर भूपेश ने भाजपा पर कसा तंज
  • बक्सर में ट्रक से भारी मात्रा में विदेशी शराब बरामद
  • उत्तरी अफगानिस्तान में आईएस का शीर्ष कमांडर गिरफ्तार
  • दिल्ली में धुंध से राहत, खिली धूप
  • कर्नाटक में एक सप्ताह बाद लौटे भाजपा विधायक
  • बाबुल सुप्रियो का तृणमूल कांग्रेस की विशाल रैली पर कटाक्ष
  • कमजोर लोगों पर हमला करता है डिमेंशिया
  • ठेके पर शिक्षकों की नियुक्ति का प्रस्ताव नहीं हो सका पारित
  • कोलकाता में ‘पाखंड शो’: बाबुल सुप्रियो
खेल Share

महिला कबड्डी खिलाड़ियों को प्रोत्साहन की आवश्यकता

महिला कबड्डी खिलाड़ियों को प्रोत्साहन की आवश्यकता

नयी दिल्ली, 21 जुलाई (वार्ता) पांच विश्व कप खिताब और सात बैक-टू-बैक एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक कबड्डी के खेल में भारत की सफलता का प्रमाण हैं लेकिन इन उपलब्धियों के बाद भी प्रमोशन और आधारभूत संरचना के मामले में देश में कबड्डी का विकास नहीं हुआ है। यह मानना है पालम स्पोर्ट्स क्लब की 50 वर्षीय कोच और शारीरिक शिक्षा शिक्षक नीलम साहू का।

नीलम अजय साहू के साथ मिलकर पिछले 25 साल से लड़कियों को कबड्डी का प्रशिक्षण दे रही हैं। सीमित संसाधनों के बावजूद अब तक उन्होंने लगभग 300 खिलाड़ियों को प्रशिक्षित किया है। इनमें से नौ खिलाड़ियों ने विभिन्न अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंटों में भारत का प्रतिनिधित्व भी किया है।

खिलाड़ियों की मदद और उन्हें बेहतर सुविधा के साथ प्रशिक्षण देने के लक्ष्य के साथ अब उन्होंने क्राउड फंडिंग प्‍लेटफॉर्म मिलाप से हाथ मिलाया है। उन्होंने ‘लेट्स हेल्प वीमेन कबड्डी प्लेयर्स अचिव देयर ड्रीम’ नाम से ऑनलाइन फंडरेजर कार्यक्रम मिलाप क्राउड फंडिंग मंच पर शुरू किया है। ये फंड महिला खिलाड़ियों को अपने खेल में उत्कृष्टता प्राप्त करने में मदद करेगा।

अपनी परेशानी साझा करते हुए कोच नीलम साहू ने कहा कि कबड्डी एक ऐसा खेल है, जिसके लिए खिलाड़ियों को अभ्यास करते समय नंगे पैर रहना होता है। सर्दियों में ठंडी जमीन एक बड़ी चुनौती है। कई प्रशिक्षण संस्थान सर्दियों के दौरान अभ्यास के लिए मैट का उपयोग करते हैं। मैट की औसत लागत लगभग दो लाख रुपये है। इतना पैसा हम नहीं लगा सकते। मैट सिर्फ एक मौसम तक ही काम आता है। इसमें लगातार खर्च आता है। उनका कहना है कि सुविधाओं की कमी के कारण कई खिलाड़ियों के सपने अधूरे रह जाते हैं।

राज

वार्ता

More News
सीके खन्ना ने टीम इंडिया को दी बधाई

सीके खन्ना ने टीम इंडिया को दी बधाई

18 Jan 2019 | 10:26 PM

नयी दिल्ली, 18 जनवरी (वार्ता) भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के कार्यवाहक अध्यक्ष सीके खन्ना ने भारतीय टीम को ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट के बाद वनडे सीरीज में भी ऐतिहासिक जीत दर्ज करने पर बधाई दी है।

 Sharesee more..
एमपी-हरियाणा मुक़ाबले से शुरू होगा लुधियाना चरण

एमपी-हरियाणा मुक़ाबले से शुरू होगा लुधियाना चरण

18 Jan 2019 | 10:05 PM

लुधियाना, 18 जनवरी (वार्ता) प्रो रेसलिंग लीग के पंचकूला में आयोजित पहले चरण की शानदार कामयाबी के बाद इसका दूसरा चरण शनिवार से लुधियाना में शुरू हो रहा है और इस चरण का पहला मुक़ाबला मध्य प्रदेश योद्धा और हरियाणा हैमर्स के बीच होगा।

 Sharesee more..
आर्षवंत ने यूएस किड्स गोल्फ इंडिया टूर में जीता तीसरा खिताब

आर्षवंत ने यूएस किड्स गोल्फ इंडिया टूर में जीता तीसरा खिताब

18 Jan 2019 | 9:53 PM

गुरुग्राम, 18 जनवरी (वार्ता) घने कोहरे के बीच शुक्रवार को यहां के क्लासिक गोल्फ एंड कंट्री क्लब में यूएस गोल्फ किड्स इंडिया टूर 2018-19 के पांचवें चरण का सफल आयोजन हुआ जिसमें आर्षवंत श्रीवास्तव ने अपने आयु वर्ग में इस टूर का तीसरा खिताब जीता।

 Sharesee more..
भारत एशियाई जूनियर स्क्वैश के सेमीफाइनल में

भारत एशियाई जूनियर स्क्वैश के सेमीफाइनल में

18 Jan 2019 | 9:46 PM

चेन्नई, 18 जनवरी (वार्ता) भारत ने थाईलैड के पटाया में खेली जा रही एशियाई जूनियर स्क्वैश चैंपियनशिप में शुक्रवार को पुरुष और महिला वर्ग के सेमीफाइनल में जगह बना ली है। सेमीफाइनल में भारत की महिला एवं पुरुष टीमों का मुकाबला शनिवार को मलेशिया से होगा।

 Sharesee more..
image