Tuesday, Sep 25 2018 | Time 06:34 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • गुटेरेस ने की ईरान में हुए आतंकवादी हमले की निंदा
  • कश्मीर पर चर्चा किये बगैर भारत-पाक के बीच वार्ता संभव नहीं : फवाद
  • तेलंगाना में कांग्रेस, टीटीडीपी और भाकपा गठबंधन जहरीला मिलाप: डॉ लक्ष्मण
  • संरा में सुषमा ने कई देशों के विदेश मंत्रियों, वैश्विक नेताओं से की मुलाकात
भारत Share

सरकारी स्तर पर हिन्दी सरल बनाने की जरुरत: मोदी

सरकारी स्तर पर हिन्दी सरल बनाने की जरुरत: मोदी

नयी दिल्ली 06 सितंबर (वार्ता) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हिन्दी के प्रचार प्रसार के लिए आम बाेलचाल की भाषा और सरकारी कामकाज में सरल हिन्दी का इस्तेमाल करने की जरुरत बताई है।

श्री मोदी ने गुरूवार को यहां केन्द्रीय हिन्दी समिति की 31वीं बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि हिन्दी भाषा का प्रसार, आम बोलचाल की भाषा में ही होना चाहिए और सरकारी काम-काज में भी क्लिष्ट तकनीकी शब्दों का इस्तेमाल कम से कम किया जाना चाहिए।

सरकारी और सामाजिक हिन्दी के बीच फासला कम करने की आवश्यकता बताते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि शिक्षा संस्थान इस अभियान की अगुवाई कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि तमिल जैसी, विश्व की प्राचीनतम भारतीय भाषाओं पर भारतीयों को गर्व हैं। देश की सभी भाषाएं हिन्दी को भी समृद्ध कर सकती हैं। इस सम्बन्ध में प्रधानमंत्री ने सरकार की “एक भारत, श्रेष्ठ भारत” पहल का उल्लेख किया |

विश्वभर में अपने अनुभवों की चर्चा करते हुए प्रधानमंत्री ने सभी सदस्यों को आश्वस्त किया कि हिन्दी सहित सभी भारतीय भाषाओं के माध्यम से, पूरी दुनिया से जुड़ा जा सकता है। प्रधानमंत्री ने समिति के सभी सदस्यों का रचनात्मक और व्यवहारिक सुझाव रखने के लिए अभिनंदन किया|

इससे पहले केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह के स्वागत संबोधन के बाद सचिव - राजभाषा ने कार्यसूची के अनुरूप विभिन्न विषयों पर अब तक हुई प्रगति का लेखा-जोखा प्रस्तुत किया | विभिन्न सदस्यों ने इन बिन्दुओं पर, और हिन्दी भाषा के प्रचार-प्रसार से सम्बद्ध अन्य मुद्दों पर अपने विचार व्यक्त किये |

इस अवसर पर श्री मोदी ने केन्द्रीय हिन्दी निदेशालय द्वारा प्रकाशित गुजराती-हिन्दी कोश का विमोचन भी किया |

लगभग दो घंटे तक चली इस बैठक में केन्द्र सरकार के वरिष्ठ मंत्री , अरुणाचल प्रदेश, हिमाचल प्रदेश और गुजरात के मुख्यमंत्री तथा समिति के अन्य सदस्यों ने भाग लिया |

सत्या अरुण

वार्ता

More News
बच्चियों के खतना का मामला संविधान पीठ के सुपुर्द

बच्चियों के खतना का मामला संविधान पीठ के सुपुर्द

24 Sep 2018 | 11:02 PM

नयी दिल्ली, 24 सितम्बर (वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने दाऊदी बोहरा मुस्लिम समुदाय में प्रचलित बालिकाओं के खतना की प्रथा को चुनौती देने वाली याचिका संविधान पीठ के आज सुपुर्द कर दी।

 Sharesee more..
शरद ने भी की जेपीसी से राफेल सौदे की जांच की मांग

शरद ने भी की जेपीसी से राफेल सौदे की जांच की मांग

24 Sep 2018 | 10:55 PM

नयी दिल्ली 24 सितम्बर (वार्ता) लोकतांत्रिक जनता दल के वरिष्ठ नेता शरद यादव ने सोमवार को कहा कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार पारदर्शी व्यवस्था में विश्वास करती है तो उसे राफेल विमान सौदा घोटाले की जांच संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) से कराने पर सहमत होना चाहिए।

 Sharesee more..
अयोध्या विवाद: फारूकी मामले में शुक्रवार को आ सकता है फैसला

अयोध्या विवाद: फारूकी मामले में शुक्रवार को आ सकता है फैसला

24 Sep 2018 | 10:16 PM

नयी दिल्ली, 24 सितम्बर (वार्ता) उच्चतम न्यायालय में जारी अयोध्या विवाद से संबंधित एक पहलू को संविधान पीठ को भेजे जाने या न भेजे जाने को लेकर 28 सितंबर को फैसला आ सकता है।

 Sharesee more..
दागी उम्मीदवारों के चुनाव लड़ने से रोकने संबंधी याचिका पर मंगलवार को फैसला

दागी उम्मीदवारों के चुनाव लड़ने से रोकने संबंधी याचिका पर मंगलवार को फैसला

24 Sep 2018 | 9:56 PM

नयी दिल्ली, 24 सितम्बर (वार्ता) उच्चतम न्यायालय गम्भीर अपराधों में अदालत की ओर से आरोप तय किये जाने के बाद किसी व्यक्ति को चुनाव लड़ने से रोकने संबंधी याचिका पर मंगलवार को फैसला सुनायेगा।

 Sharesee more..
सहकारी संघवाद को मजबूत करती हैं क्षेत्रीय परिषद की बैठकें: राजनाथ सिंह

सहकारी संघवाद को मजबूत करती हैं क्षेत्रीय परिषद की बैठकें: राजनाथ सिंह

24 Sep 2018 | 8:41 PM

नयी दिल्ली 24 सितम्बर (वार्ता) केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि केंद्र और राज्यों के बीच सहयोग बढ़ाकर जनता से जुड़े अहम मुद्दों का हल करने की दिशा में क्षेत्रीय परिषदों की महत्वपूर्ण भूमिका है।

 Sharesee more..
image