Thursday, May 28 2020 | Time 17:38 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सिपेट का बदला नाम
  • घाना में कोरोना संक्रमितों की संख्या 7303 हुई
  • हरिद्वार में संत रविदास, महर्षि वाल्मीकि के स्थानों का हाेगा सौंदर्यीकरण
  • सऊदी प्रिंस, पुतिन केे बीच बातचीत सकारात्मक: पेसकोव
  • काठगोदाम से देहरादून के बीच एक जून से चलेगी विशेष ट्रेन
  • मलेशिया में कोरोना के 10 नये मामले, संक्रमितों की संख्या 7629 हुई
  • मौर्य ने जिला अधिकारी से क्वारंटीन व्यवस्थाओं की जानकारी ली
  • रुपया पाँच पैसे फिसला
  • फेडरल बैंक का मुनाफा 21 फीसदी घटा
  • त्रिपुरा आने वाले लाेगों को 14 दिन के होम क्वारंटीन का पालन करना होगा
  • टी-20 सीरीज से शुरू होगा भारत का ऑस्ट्रेलिया दौरा
  • टी-20 सीरीज से शुरू होगा भारत का ऑस्ट्रेलिया दौरा
  • कर्नाटक कर रहा टिड्डी दल के खतरे का सामना: मंत्री
  • कोरोना से डरें नहीं, जागरूकता से लड़ाई लड़े: पूनिया
राज्य » बिहार / झारखण्ड


लगातार बारिश से भागलपुर जिले में बाढ़ की स्थिति गंभीर

भागलपुर, 27 सितंबर (वार्ता) बिहार के कुछ हिस्सों में लगातार हो रही बारिश से भागलपुर जिले में बाढ़ की स्थिति गंभीर हो गई है।
जिलाधिकारी प्रणव कुमार ने आज यहां बताया कि जिले के नवगछिया, गोपालपुर, रंगरा, गोपालपुर, बिहपुर, नारायणपुर, सबौर, नाथनगर एवं पीरपैंती आदि प्रखंडों के करीब 200 गांवों की करीब कई लाख की आबादी बुरी तरह से प्रभावित हो गयी है। वहीं, सबौर प्रखंड के कई जगहों पर बाढ़ का पानी राष्ट्रीय उच्च मार्ग पर बहने और इससे कटाव होने के कारण सड़क आवागमन बंद कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि बाढ़ के पानी के तेज बहाव की वजह से नवगछिया-महादेवघाट पथ, पीरपैंती - बाखरपुर मार्ग, शिवनारायणपुर-टपुआ मार्ग, अकबरनगर-शाहकुंड मार्ग आदि पर आज से सभी गाड़ियों की आवागमन रोक दिया गया है।
श्री कुमार ने बताया कि मौसम विभाग की ओर से शनिवार को भारी बारिश की चेतावनी के मद्देनजर जिले के सभी सरकारी एवं निजी स्कूलों और आंगनबाड़ी केंद्रों को कल बंद रखा जायेगा। इसके साथ ही गंगा एवं कोसी के किनारे निर्मित सभी तटबंधों पर कड़ी निगरानी रखी जा रही है। खासकर, बिहपुर प्रखंड के नरकटिया गांव के पास जमींदारी तटबंध में हो रहे भीषण कटाव को रोकने के लिए युद्ध स्तर पर काम चल रहा है। होमगार्ड और चौकीदार की 24 घंटे ड्यूटी लगाई गई है। जल संसाधन विभाग और स्थानीय प्रशासन के लोग लगे हुए हैं।
जिलाधिकारी ने बताया कि प्रभावित क्षेत्रों में पर्याप्त संख्या में नावों की व्यवस्था की गई है और दस से अधिक राहत कैंप चलाये जा रहे हैं। इसके अलावा मवेशियों के चारे और बाढ़ पीड़ितों के लिए आवश्यक दवाई की भी व्यवस्था की गई है।
सं.सतीश
वार्ता
image