Thursday, Oct 28 2021 | Time 11:06 Hrs(IST)
image
राज्य » बिहार / झारखण्ड


झारखंड में जीवन, दुर्घटना एवं स्वास्थ्य बीमा योजनाओं से आच्छादित हो रहे ग्रामीण

रांची, 25 सितंबर (वार्ता) झारखंड में
संक्रमण के कालखण्ड में ग्रामीणों के सशक्तिकरण के लिए मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन के प्रयास रंग ला रहे है।
एक ओर हड़िया दारू निर्माण और बिक्री कार्य में संलग्न 13 हजार से अधिक महिलाओं को विगत एक वर्ष में आजीविका का नया और सम्मानजनक आधार फूलो झानो आशीर्वाद अभियान बना, वहीं अब सरकार की विभिन्न बीमा योजनाओं से ग्रामीण आच्छादित हो रहे हैं। मुख्यमंत्री ने ऐसी ही योजनाओं से 25 लाख लाभुकों का बीमा सुनिश्चित किया। वह भी महज एक माह में। इसके बाद सरकार 30 लाख लोगों को बीमा योजनाओं से जोड़ने की ओर कदम बढ़ा चुकी है। कोरोना काल में ऐसी योजनाओं का महत्व और भी बढ़ जाता है। झारखण्ड के बीमा कराएं अभियान के मॉडल से प्रभावित होकर केंद्र सरकार ने भी अन्य राज्यों को इस परिपेक्ष्य में कार्य करने की सलाह दी है।
ग्रामीण विकास विभाग के सचिव डॉ. मनीष रंजन ने शनिवार को बताया कि
मुख्यमंत्री के पहल पर ग्रामीण विकास विभाग राज्य में 7 अगस्त से बीमा कराएं अभियान की शुरुआत कर सखी मंडल की बहनों को विभिन्न बीमा योजनाओं से प्राथमिकता पर जोड़ रहा है। इस अभियान से सखी मंडल की बहनों की सामाजिक सुरक्षा सुनिश्चित की जा रही है। अभियान अंतर्गत अब तक 25 लाख महिलाओं को बीमित किया जा चुका है। सखी मंडल की दीदियों को भविष्य के जोखिमों से सुरक्षा प्रदान करने और विशेष रूप से कोरोना महामारी के खतरों को ध्यान में रखते हुए अभियान चलाया जा रहा है। इसके तहत राज्य के सभी तरह के समूह से जुड़ी महिलाओं एवं उनके परिवार को जीवन बीमा, दुर्घटना बीमा एवं स्वास्थ्य बीमा योजनाओं से जुड़ने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है।
इस दौरान विभिन्न प्रचार माध्यमों, जैसे लीफलेट, वीडियो और रेडियो के माध्यम से जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान में 1,600 बैंक सखी, 16,500 सक्रिय महिला एवं 1,800 वित्तीय साक्षरता ट्रेनर, अग्रिम भूमिका निभा रहे हैं। ग्राम पंचायत स्तर पर कार्यरत 4,600 सखियां विशेष कैंप और घर-घर जाकर बीमा करने का काम कर रही हैं। जेएसएलपीएस स्टॉफ बैंक के साथ समन्वय स्थापित कर बीमा पंजीयन एवं बीमा दावा को ससमय पूरा करने का काम कर रहे हैं। कुल 165 दीदियों को 3.30 करोड़ दावा राशि प्राप्त हो चुकी है। ग्रामीण विकास विभाग का यह लक्ष्य है कि 100 प्रतिशत स्वयं सहायता समूह के सदस्य इन बीमा योजनाओं से लाभान्वित हों ।
सचिव डॉ. रंजन ने कहा कि
"सामाजिक सुरक्षा को सुनिश्चित करने की दिशा में बीमा कराएं अभियान ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। मुख्यमंत्री के निर्देश पर सखी मंडल की महिलाओं और उनके परिजनों का बीमा कराया गया है। यह प्रक्रिया अब भी जारी है। मुसीबत के समय ये बीमा योजनाएं अवश्य उनके आर्थिक पक्ष को मजबूत करने में सहायक होंगी।"
विनय
वार्ता
image