Monday, Nov 29 2021 | Time 01:41 Hrs(IST)
image
राज्य » बिहार / झारखण्ड


झारखंड में जिस तेजी से पर्यटन के क्षेत्र में विकास होना चाहिए था, उतना नहीं हुआ है :राज्यपाल

रांची, 11 अक्टूबर (वार्ता)झारखंड के राज्यपाल रमेश बैस ने कहा है कि राज्य में जिस तेजी से पर्यटन के क्षेत्र में विकास होना चाहिए था, उतना नहीं हुआ है।
राज्यपाल ने सोमवार को राज भवन में पर्यटन, कला-संस्कृति, खेलकूद एवं युवा कार्य विभाग के अधिकारियों के साथ विभागीय कार्यों की जानकारी लेते हुए कहा कि राज्य में पर्यटन की अपार सम्भवनाएं हैं। यह राज्य के विकास व राजस्व में अहम भूमिका का निर्वाह कर सकता है। प्रकृति ने प्रदेश को असीम खूबसूरती प्रदान की है। हमें उस पर गौर कर विकसित करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि पर्यटन के विकास की लिये हम सभी को योजनाबद्ध तरीके से कार्य करने की जरूरत है। हमें पर्यटकों को सुविधाएं उपलब्ध कराना होगा ताकि राज्य के पर्यटन स्थलों की पहचान राष्ट्रीय स्तर पर हो और लोग यहाँ आने के प्रति अधिक-से-अधिक आकर्षित हो। उन्होंने कहा कि प्राकृतिक दृष्टिकोण से समृद्ध विभिन्न स्थलों में आधारभूत संरचनाएँ विकसित की जाएं। उन्होंने अधिकारियों से इस दिशा में समर्पित भाव से कार्य करने का निदेश दिया तथा कहा कि इसके लिये राशि की चिंता न करें, आवश्यकता होगी तो वे केन्द्र सरकार से वार्ता कर पर्यटन के विकास के लिए राशि की माँग करेंगे। उन्होंने कहा कि जब तक वे झारखंड में हैं, वे इस राज्य के विकास के प्रति प्रतिबद्ध है ताकि विकास के क्षेत्र में इस राज्य की राष्ट्रीय स्तर पर एक विशिष्ट पहचान हो।
इस बैठक में सचिव, पर्यटन, कला-संस्कृति, खेलकूद एवं युवा कार्य विभाग अमिताभ कौशल सहित विभाग एवं निदेशालय और एनसीसी के अधिकारीगण मौजूद थे।
राज्यपाल ने कहा कि विदेशों में कृत्रिम (आर्टिफिशियल) प्रकृति का सृजन कर अच्छे पर्यटन की सुविधा विकसित कर पर्यटकों को आकर्षित किया जाता है जबकि हमारा राज्य प्राकृतिक दृष्टिकोण से अत्यन्त समृद्ध और भाग्यशाली है। उन्होंने पर्यटन स्थलों के समीप रात्रि में पर्यटकों के रुकने की व्यवस्था पर चर्चा करते हुए पर्यटकों के ठहराव हेतु सुविधाएं उपलब्ध करने का निदेश दिया। उन्होंने अधिकारियों को ट्यूरिस्ट सर्किट निर्माण करने हेतु कहा। उन्होंने कहा कि ऐसे ट्यूरिस्ट सर्किट का निर्माण किया जाय ताकि पर्यटकों को एक पर्यटन स्थल से दूसरे पर्यटन स्थल की दूरी का विभिन्न साधनों यथा- रेल मार्ग, सड़क मार्ग, हवाई मार्ग आदि से ज्ञात हो सके। उन्होंने राज्य को धार्मिक दृष्टिकोण से अत्यन्त समृद्ध बताते हुए पृथक धार्मिक ट्यूरिस्ट सर्किट बनाने का निदेश दिया। उन्होंने राजमहल में स्थापित फॉसिल्स पार्क में पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था सुनिश्चित करने हेतु कहा ताकि अधिक से अधिक पर्यटक आ सकें और जानकारी हासिल कर सकें।
विनय
जारी वार्ता
More News
लोजपा को न कोई झुका सकता है और न ही तोड़ सकता है : चिराग

लोजपा को न कोई झुका सकता है और न ही तोड़ सकता है : चिराग

28 Nov 2021 | 8:05 PM

पटना 28 नवंबर (वार्ता) लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं बिहार के जमुई से सांसद चिराग पासवान ने आज कहा कि उन्हें या उनकी पार्टी को न तो कोई झुका सकता है और न ही तोड़ सकता है।

see more..
बिहार में नीतीश के कारण बिजली महंगी : राजद

बिहार में नीतीश के कारण बिजली महंगी : राजद

28 Nov 2021 | 7:45 PM

पटना 28 नवंबर (वार्ता) बिहार की मुख्य विपक्षी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) ने आज आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कारण प्रदेश में लोगों को बिजली महंगी मिल रही है जिससे लोग परेशान हैं।

see more..
बिहार में आठ करोड़ के पार हुआ कोरोना टीकाकरण का आंकड़ा : मंगल

बिहार में आठ करोड़ के पार हुआ कोरोना टीकाकरण का आंकड़ा : मंगल

28 Nov 2021 | 6:33 PM

पटना 28 नवंबर (वार्ता) बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने बताया कि विभाग के बेहतर प्रबंधन और राज्यवासियों की सहभागिता और सक्रियता से राज्य में कोरोना टीकाकरण का आंकड़ा आठ करोड़ के पार हो गया है।

see more..
कोरोना के नये वेरिएंट ओमिक्रोन के संभावित खतरे को लेकर बरतें सतर्कता : नीतीश

कोरोना के नये वेरिएंट ओमिक्रोन के संभावित खतरे को लेकर बरतें सतर्कता : नीतीश

28 Nov 2021 | 6:30 PM

पटना 28 नवंबर (वार्ता) बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कोरोना के नये वेरिएंट ओमिक्रोन के संभावित खतरे को देखते हुए सतर्कता बरतने और संक्रमण से बचाव के लिए पूरी तैयारी रखने का निर्देश देते हुए आज कहा कि कोरोना से बचाव के लिए जांच और टीकाकरण कारगर उपाय हैं।

see more..
मिथिला और बंगाल का संबंध "वस्तु और दर्पण" की तरह : संकर्षण ठाकुर

मिथिला और बंगाल का संबंध "वस्तु और दर्पण" की तरह : संकर्षण ठाकुर

28 Nov 2021 | 6:21 PM

दरभंगा, 28 नवंबर (वार्ता) वरिष्ठ पत्रकार एवं राजनीतिक चिंतक संकर्षण ठाकुर ने मिथिला और बंगाल के संबंध को "वस्तु और दर्पण" की तरह बताया और कहा कि दोनों संस्कृतियां एक-दूसरे में अपने आपको देख सकती हैं।

see more..
image