Friday, Jun 21 2024 | Time 13:01 Hrs(IST)
image
राज्य » बिहार / झारखण्ड


बोकारो : दहेज हत्या के मामले में चार लोगों को सश्रम आजीवन कारावास

बोकारो, 15 मई (वार्ता) झारखंड में बोकारो जिले के तेनुघाट व्यवहार न्यायालय की एक अदालत ने सोमवार को दहेज हत्या के मामले में चार लोगों को सश्रम आजीवन कारावास की सजा सुनायी है ।
न्यायालय सूत्रों ने आज यहां बताया कि जिले के बेरमो थाना क्षेत्र के घुटियाटांड़ करगली कॉलोनी निवासी रितेश कुमार ठाकुर उसके पिता पारस ठाकुर मां इंदु देवी और भाई राहुल ठाकुर को तेनुघाट व्यवहार न्यायालय के जिला अध्यक्ष अनिल कुमार की अदालत में उक्त सजा सुनाई गई है। न्यायालय ने आरोपियों को 10000 रुपए का जुर्माना भी लगाया है ।
विशेष लोक अभियोजक विजय कुमार ने बताया कि रितेश की शादी बिहार के औरंगाबाद जिले के रिसियप थाना अंतर्गत सनथुआ निवासी अनिल कुमार प्रभाकर की बेटी अर्चना कुमारी उर्फ माला के साथ विगत 19 अप्रैल 2016 को हुई थी । विगत 25 फरवरी 2019 को श्री प्रभाकर ने आरोपियों के खिलाफ दहेज हत्या का मुकदमा बेरमो थाना में दर्ज कराया था । आरोपित ने कार की मांग को लेकर पीड़िता और उसकी नन्हा बच्चे को जला दिया। युवती की मौत घटनास्थल पर ही हो गई थी , जबकि छोटी बच्ची की मौत इलाज के दौरान बोकारो जनरल अस्पताल में हो गई ।
सं.सतीश
वार्ता
More News
पूर्व सांसद साधु यादव ने किया आत्मसमर्पण, भेजे गए जेल

पूर्व सांसद साधु यादव ने किया आत्मसमर्पण, भेजे गए जेल

20 Jun 2024 | 9:50 PM

पटना 20 जून (वार्ता) परिवहन आयुक्त के कार्यालय में जबरन प्रवेश कर जबरदस्ती एक प्रवर्तन निरीक्षक का स्थानांतरण पत्र जारी करवाने के मामले में सजायाफ्ता पूर्व सांसद साधु यादव ने आज बिहार में पटना की एक विशेष अदालत में आत्मसमर्पण किया, जहां से बाद में उन्हें जेल भेज दिया गया ।

see more..
बिहार में आरक्षण बढ़ाने वाले कानून को रद्द करने के फैसले को सर्वो. न्या. में चुनौती देंगे तेजस्वी

बिहार में आरक्षण बढ़ाने वाले कानून को रद्द करने के फैसले को सर्वो. न्या. में चुनौती देंगे तेजस्वी

20 Jun 2024 | 9:45 PM

पटना, 20 जून (वार्ता) बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव ने कहा कि यदि बिहार सरकार अनुसूचित जाति-जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग और ईबीसी के लिए आरक्षण का दायरा बढ़ाने के कानून को रद्द करने वाले पटना उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ सर्वोच्च न्यायालय में अपील करने में विफल रहती है तो वह इस निर्णय को उच्चतम न्यायालय में चुनौती देंगे।

see more..
image