Sunday, Jul 22 2018 | Time 14:16 Hrs(IST)
image
image
BREAKING NEWS:
  • बीएसएफ ने कठुआ में घुसपैठ की कोशिश नाकाम की ,घुसपैठिया ढेर
  • 2019 के लिए मज़बूत संप्रग-3 बनाएगी कांग्रेस, राहुल होंगे नेता
  • छत्तीसगढ़ के अधिकांश क्षेत्रों में हो रही हैं वर्षा
  • चना, गेहूँ, चीनी, खाद्य तेल, दालें महँगी
  • समस्तीपुर में राजद नेता के पुत्र की हत्या
  • लोहे का शेड गिरने से एक की मौत 28 घायल
  • लगातार दूसरे सप्ताह टूटा सोना
  • दक्षिण अफ्रीका में बंदूकधारियों ने 11 टैक्सी चालकों की हत्या की
  • तिमाही नतीजों से तय होगी बाजार की दिशा
  • ‘और मुस्कराऊंगा’, मोदी ने प्रशंसकों को किया आश्वस्त
  • बिहार में भारी मात्रा में शराब बरामद , एक गिरफ्तार
  • अमरनाथ यात्रा सुचारु रुप से जारी, 2 31 लाख यात्रियों ने दर्शन किये
  • परामर्श
  • Pilgrimage to holy cave progressing smoothly, over 2 31 lakh paid obeisance so far
बिजनेस Share

औद्योगिक उत्पादन में वृद्धि, खुदरा महंगायी ने दिया झटका

नयी दिल्ली,12 जनवरी (वार्ता) देश की आर्थिक गतिविधियों के पैमाने के तौर पर माने जाने वाले औद्योगिक उत्पादन (आईआईपी) में नवंबर 2017 में जोरदार वृद्धि ने जहां बजट से ठीक पहले आर्थिक मोर्चे पर सरकार को बड़ी राहत दी है वहीं ,खुदरा मंहगायी ने आम आदमी को बड़ा झटका दिया है।
सांख्यिकी एवं कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय की ओर से आज नवंबर 2017 के जारी जारी आंकड़ों के मुताबिक नवंबर में आईआईपी की वृद्धि दर 2.2 प्रतिशत से बढ़कर 8.4 प्रतिशत पर पहुंच गयी जो पिछले 25 महीनों का उच्चतम स्तर है। इससे पिछले साल इसी माह में इसमें 5.1 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज हुई थी।
वहीं, साल दर साल आधार पर अप्रैल-नवबंर के दौरान आईआईपी ग्रोथ 5.5 फीसदी से घटकर 3.2 फीसदी रही है।
महीने दर महीने के आधार पर नवबंर में विनिर्माण क्षेत्र सेक्टर की वृद्धि 2.5 फीसदी से बढ़कर 10.2 फीसदी, खनन क्षेत्र 0.2 फीसदी से बढ़कर 1.1 फीसदी ,बिजली क्षेत्र की 3.2 फीसदी से बढ़कर 3.9 फीसदी , कैपिटल गुड्स की दर 6.8 फीसदी से बढ़कर 9.4 फीसदी ,प्राथमिक वस्तुओं की 2.5 फीसदी से बढ़कर 3.2 फीसदी, टिकाउू उपभोक्ता वस्तुओं की 6.9 फीसदी से बढ़कर 2.5 फीसदी, गैर टिकाउु उत्पादों की 7.7 फीसदी से बढ़कर 23.1 फीसदी और इंटरमीडिएट वस्तुओं की वृद्धि दर 0.2 फीसदी से बढ़कर 5.5 फीसदी पर पहुंच गयी।
औद्योगिक उत्पादन के क्षेत्र में आयी इस खुशखबरी पर खुदरा महंगायी दर की तेजी ने दबाव बनाया । नवंबर के 4.88 प्रतिशत की तुलना में दिसंबर में खुदरा महंगायी दर बढकर 5.21 प्रतिशत पर पहुंच गयी जो कि पिछले 17 महीनों का उच्चतम स्तर है।
महीने दर महीने के आधार पर अंडा, सब्जियों और फलों की कीमतों में काफी तेजी आने से खाद्य पदार्थों की महंगाई दर 4.42 फीसदी से बढ़कर 4.96 फीसदी पर पहुंच गयी। महीने दर महीने आधार पर दिसंबर में शहरी इलाकों की महंगाई दर 7.36 फीसदी से बढ़कर 8.25 फीसदी रही है।
दिसंबर में दालों की महंगाई दर 23.53 फीसदी रिणात्मक के मुकाबले 23.47 फीसदी रिणात्मक रही है। दिसंबर में सब्जियों की महंगाई दर 22.48 फीसदी से बढ़कर 29.13 फीसदी पर पहुंच गयी । हालांकि ईंधन और बिजली की महंगाई दर में कोई बदलाव नहीं हुआ है। और दिसंबर में यह 7.9 फीसदी पर टिकी रही ।महीने दर महीने आधार पर दिसंबर में कपड़ों और जूतों की महंगाई दर 4.96 फीसदी से घटकर 4.8 फीसदी रह गयी ।
मधूलिका/शेखर
वार्ता
More News

22 Jul 2018 | 1:57 PM

 Sharesee more..

22 Jul 2018 | 1:56 PM

 Sharesee more..
लगातार दूसरे सप्ताह टूटा सोना

लगातार दूसरे सप्ताह टूटा सोना

22 Jul 2018 | 1:56 PM

नयी दिल्ली 22 जुलाई (वार्ता) वैश्विक स्तर पर दोनों कीमती धातुओं के दाम गिरने से दिल्ली सर्राफा बाजार में लगातार दूसरे सप्ताह सोने-चाँदी पर दबाव रहा।

 Sharesee more..

चना, गेहूँ, चीनी, खाद्य तेल, दालें महँगी

22 Jul 2018 | 1:56 PM

 Sharesee more..

22 Jul 2018 | 1:20 PM

 Sharesee more..
image