Thursday, Jul 18 2019 | Time 21:46 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • भारतीय पुरुष और महिला टीमें सेमीफाइनल में
  • सम्भल से फरार हुए तीनों बदमाशों पर ढ़ाई-ढ़ाई लाख का इनाम घोषित
  • अरुणाचल के लोगों को दूसरे दर्जे का नागरिक नहीं माने सरकार
  • अपराध, भ्रष्टाचार और सांप्रदायिकता से समझौता नहीं : नीतीश
  • सोनभद्र घटना का मुख्य आरोपी और उसका भाई गिरफ्तार
  • टीएसपीसी के सब जोनल कमांडर समेत चार नक्सली गिरफ्तार
  • जिलाधिकारी ने डॉल्फिन मारने वाले मछुआरों की गिरफ्तारी का दिया आदेश
  • पंजाब में निजी मैडीकल कॉलेजों में भी खिलाड़ियों, दंगा पीड़ितों को आरक्षण का फैसला
  • पत्रकारों के प्रवेश पर रोक को लेकर वित्त मंत्रालय से जवाब तलब
  • बहराइच में बाघ ने बनाया एक व्यक्ति को अपना शिकार
  • मुख्यमंत्री ने लगाई फीस वृद्धि पर रोक, छात्रों को देनी होनी पुरानी फीस
  • पुलिस अवर निरीक्षक रिश्वत लेते गिरफ्तार
  • दो लाख से अधिक श्रद्धालु पवित्र शिवलिंग का कर चुके दर्शन
  • प्रोन्नति के लिये यूपीजेईए का ‘सत्याग्रह’ छठे दिन भी जारी
  • प्रदेश की तीनों विद्युत वितरण कंपनियों द्वारा किया गया रखरखाव : प्रियव्रत
बिजनेस


अगस्त में भी सुस्त रहीं विनिर्माण गतिविधियां

नयी दिल्ली 03 सितंबर (वार्ता) उत्पादन घटने और नये ऑर्डर में आयी कमी से देश के विनिर्माण क्षेत्र की गतिविधियाें में लगातार दूसरे माह गिरावट दर्ज की गयर, जिससे इसका निक्की पर्चेजिंग मैनेजर्स सूचकांक (पीएमआई) अगस्त में घटकर 51.7 पर आ गया।
इससे पहले जुलाई में सूचकांक 52.3 रहा था। सूचकांक का 50 से ऊपर रहना विनिर्माण गतिविधियों में तेजी और इससे नीचे रहना गिरावट को दर्शाता है।
निक्की द्वारा सोमवार को जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि सूचकांक में आयी गिरावट का सबसे बड़ा कारण उत्पादन घटना और नये ऑर्डरों में कमी रहा है।
रिपोर्ट की लेखिका और मार्किट इकोनॉमिक्स की अर्थशास्त्री आशना डोढिया ने कहा,“ अगस्त का आंकड़ा भारत के विनिर्माण क्षेत्र के विकास की गति कम होने की ओर संकेत करता है। यह उत्पादन और नये आॅर्डरों में कमी को दर्शाता है। हालांकि मांग इस दौरान अच्छी रही है। विदेशों में भी मांग में सुधार रहा है और फरवरी के बाद पहली बार निर्यात ऑर्डर इतनी तेजी से बढ़े हैं।”
अर्चना/शेखर
जारी वार्ता
image