Friday, Nov 16 2018 | Time 14:56 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कांग्रेस का नहीं जोगी का गढ़ है मरवाही
  • कांग्रेस का नहीं जोगी का गढ़ है मरवाही
  • हत्या के आरोपी ने की पुलिस उप निरीक्षक की गोली मार कर हत्या
  • सुरेन्द्रनगर में किसान ने की खुदकुशी
  • सोशल मीडिया पर ट्रेंड हुआ कांग्रेस का चुनाव अभियान ‘बढ़ते चलो अंबिकापुर’
  • आस्ट्रेलियाई द्वीपों में भूकंप के झटके
  • सोना 235 रुपये लुढ़का ;चांदी में टिकाव
  • एंडरसन को हरा 15वीं बार एटीपी सेमीफाइनल में फेडरर
  • एंडरसन को हरा 15वीं बार एटीपी सेमीफाइनल में फेडरर
  • रुपये की संदर्भ दर
  • प्रमुख मुद्राओं में गिरावट
  • सोशल मीडिया पर धूम मचा रहा है छत्तीसगढ का अम्बिकापुर विधानसभा क्षेत्र
  • सबरीमला विवाद: तृप्ति देसाई के खिलाफ कोचीन हवाई अड्डे पर भक्तों का प्रदर्शन
  • टिकट नहीं मिलने से कांग्रेस में बगावत
  • तमिलनाडुु में ‘गाजा ’तूफान से 23 लोगों की मौत
बिजनेस Share

श्री गडकरी ने कहा कि स्वच्छ ईंधन चालित वाहनों की परमिट की अनिर्वायता खत्म करने से उद्योग के लिये नये कारोबार का रास्ता खुलेगा। उन्होंने साथ ही बताया कि मेट्रो सिटी के अलावा अन्य शहरों में चलने वाले किसी भी दोपहिया वाहन को टैक्सी के रूप में चलाया जा सकता है और इससे युवाओं के लिये रोजगार के नये अवसर पैदा होंगे। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि इंडस्ट्री को विविध और आर्थिक रूप से सक्षम नये कारोबारों की ओर देखना चाहिये।
उन्होंने कहा कि सरकार अबाध और तेज ट्रैफिक सुनिश्चित करने के लिये स्पीड गवर्नर हटा रही है। अब हमें इसकी जरूरत नहीं क्योंकि सरकार अच्छी सड़क बना रही है। इंडस्ट्री को वाहनों के बेहतर इंजन वाले मॉडल को सुनिश्चित करना चाहिये और उच्च प्रदर्शन वाले वाहनों का निर्माण करना चाहिये। सरकार बायो ईंधन के विकास पर जोर दे रही है।
इस मौके पर विशेष अतिथि के रूप में उपस्थित केंद्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने बीएस-6 के उत्सर्जन मानकों के बारे में जानकारी दी और इंडस्ट्री को इससे होने वाले लाभ के बारे में बताया।
भारी उद्योग मंत्री अनंत गीते ने आश्वासन दिया कि सरकार जल्द ही नयी वाहन नीति लायेगी। उन्होंने बताया कि कोई भी जल्दबाजी में नहीं बनायी जानी चाहिये और नीति को अंतिम रूप देने से पहले उसके प्रत्येक पहलू पर इंडस्ट्री से चर्चा की जानी चाहिये। उन्होंने कहा,“ हम वस्तु एवं सेवा कर(जीएसटी) को लेकर आपकी चिंताओं को समझते हैं। इंडस्ट्री को इसके प्रति कोई भय नहीं होना चाहिये। परिवर्तन के दौर से गुजरते हुये भी उपभोक्ताओं की जरूरतों को ध्यान में रखना होगा। नयी नीति इंडस्ट्री, उपभोक्ता और पर्यावरण के अनुकूल होगी। समय के साथ परिवर्तित होने की जरूरत है। अगर ऐसा नहीं करेंगे तो पीछे रह जायेंगे। यहां इंडस्ट्री का विकास सुनिश्चित करने के लिये हैं।”
अर्चना/शेखर
जारी वार्ता
More News

16 Nov 2018 | 2:18 PM

 Sharesee more..

रुपये की संदर्भ दर

16 Nov 2018 | 2:01 PM

 Sharesee more..

प्रमुख मुद्राओं में गिरावट

16 Nov 2018 | 1:57 PM

 Sharesee more..

सतना सीमेंट भाव

16 Nov 2018 | 12:53 PM

 Sharesee more..

सतना बाजार भाव

16 Nov 2018 | 12:53 PM

 Sharesee more..
image