Sunday, Feb 17 2019 | Time 16:11 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चीन में मकान ढहने से तीन लोगों की मौत, 14 घायल
  • ललित और हिम्मत ने रण स्टार को पहुंचाया क्वार्टरफाइनल में
  • करो या मरो के मुकाबले में अहमदाबाद का सामना करेगा यू मुम्बा
  • कैट का 18 फरवरी को देशव्यापी व्यापार बंद का आह्वान
  • पुलवामा पर सीआरपीएफ ने किया आगाह
  • शिअद हरियाणा में लोकसभा, विधानसभा चुनाव लड़ेगा : बादल
  • आदित्य ने चौथी बार जीता पीएसए चैलेंजर स्क्वैश टूर्नामेंट
  • आर्कोट के राजकुमार ने की पुलवामा हमले की निंदा
  • झांसी:नहर में गिरे तीन युवक , एक लापता
  • सेल जाएंट्स ने जीता डायमंड जुबली क्रिकेट कप
  • खाद्य तेलों,दालों में घटबढ़;गेहूं,चावल, गुड़,चीनी में टिकाव
  • पुलवामा में शहीद नसीर के परिजनों को मिलेगा 20 लाख
  • पुलवामा की फर्जी तस्वीरों पर सीआरपीएफ ने किया आगाह
  • हरियाणा की राष्ट्रपति भवन को मुर्रा भैंस और साहीवाल गाय देने की पेशकश
  • कृषि के क्षेत्र में देश का नेतृत्व करे हरियाणा:कोविंद
बिजनेस Share

सुजुकी अगले महीने देश में शुरू करेगी प्रोटो टाइप ईवी का परीक्षण

नयी दिल्ली 07 सितंबर (वार्ता) वाहन बनाने वाली जापान की प्रमुख कंपनी सुजुकी मोटर कार्पोरेशन के अध्यक्ष ओसामु सुजुकी ने अगले महीने से भारत में 50 प्रोटो टाइप इलेक्ट्रिक वाहनों (ईवी) का परीक्षण शुरू करने की शुक्रवार को घोषणा की।
श्री सुजुकी ने नीति आयोग द्वारा आयोजित दो दिवसीय वैश्विक मोबिलिटी शिखर सम्मेलन के उद्घाटन सत्र में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की मौजूदगी में अपनी कंपनी की भारतीय इकाई मारूति सुजुकी इंडिया के भारतीय बाजार में इलेक्ट्रिक वाहन पेश करने की योजनाओं का खुलासा करते हुये कहा कि उनकी कंपनी वर्ष 2020 के अासपास भारत में इलेक्ट्रिक वाहन लॉच करने की तैयारी कर रही है और इसके लिए टोयोटा मोटर कार्पोरेशन के साथ साझेदारी की गयी है। उन्होंने कहा कि 50 प्रोटो टाइप इलेक्ट्रिक वाहनों का सड़क पर अगले महीने से परीक्षण शुरू किया जायेगा ताकि भारतीय जलवायु और ट्रैफिक के अनुरूप यहां के उपभोक्ताओं के लिए सुरक्षित और सरल इलेक्ट्रिक वाहन विकसित किये जा सके। उन्होंने कहा कि गुजरात स्थित संयंत्र में वर्ष 2020 में वाहनों के लिए लीथियम ऑयन बैटरी का उत्पादन शुरू करने का निर्णय लिया गया है।
श्री सुजुकी ने भारत में इलेक्ट्रिक वाहनों की संख्या बढ़ाने का जिक्र करते हुये कहा कि बगैर पर्याप्त चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर के ऐसा कर पाना संभव नहीं हो सकता है। इसके लिए सरकार को त्वरित गति से काम करना होगा। भारत में ऐसे लोगों की संख्या बहुत अधिक जो कार खरीदना चाहते हैं। यह कहा जा रहा है कि वर्ष 2030 तक भारत में इलेक्ट्रिक वाहनों की हिस्सेदारी 30 फीसदी होगी। इसका मतलब है कि उस समय भी अधिकांश लोग गैर इलेक्ट्रिक वाहनों का उपयोग करेंगें।
उन्होंने कहा कि भारतीय ग्राहकों की जरूरतों को पूरा करने और उनकी जीवनशैली को बेहतर बनाने के साथ ही पर्यावरण की चुनौतियों का समाधान करते हुये सिर्फ इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देना ही जरूरी नहीं हैै बल्कि हाईब्रिड और सीएनजी वाहनों को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। इसके लिए सरकार की ओर से नीतिगत सहयोग की जरूरत है। उन्होंने कहा कि वाहनों को इलेक्ट्रिफिकेशन करने के साथ ही विभिन्न मुद्दों के समाधान किये जाने की भी जरूरत है। इसमें सूचना प्रौद्योगिकी का उपयोग कर सुरक्षित और सक्षम मोबिलिटी का निर्माण करना भी शामिल है। श्री सुजुकी ने भारत में टिकाऊ मोबिलिटी सोसायटी के निर्माण के लिए इससे जुड़े सभी मुद्दों के समाधान में हर संभव कोशिश करने का वादा करते हुये कहा कि मारूति सुजुकी वर्ष 1983 से भारतीय बाजार में कार बना रही है। उनकी कंपनी ने शत प्रतिशत स्थानीयकरण का लक्ष्य हासिल कर मेक इन इंडिया को सकार किया है।
शेखर
वार्ता
More News

बाजार भाव दो अतिम जबलपुर

17 Feb 2019 | 3:50 PM

 Sharesee more..

जबलपुर बाजार भाव

17 Feb 2019 | 3:50 PM

 Sharesee more..

सोना 170 रुपये महंगा; चांदी स्थिर

17 Feb 2019 | 2:51 PM

 Sharesee more..
image