Monday, Apr 22 2019 | Time 11:53 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • खगड़िया में कैसर और मुकेश सहनी के बीच रोमांचक मुकाबला
  • ट्रक की टक्कर से मोटरसाइकिल सवार दो की मौत
  • मधेपुरा में नीतीश और लालू की प्रतिष्ठा दाव पर
  • पुतिन, किम की बैठक, रूसी विश्वविद्यालय की सुरक्षा बढ़ी
  • कांग्रेस ने दिल्ली की छह सीटों के लिए उम्मीदवार घोषित किये
  • उप्र में वाराणसी समेत 13 लोकसभा क्षेत्रों के लिये अधिसूचना जारी, नामांकन प्रक्रिया शुरू
  • कांग्रेस ने दिल्ली के छह लोकसभा उम्मीदवारों की घोषणा की
  • तृणमूल कांग्रेस के आक्रामक प्रहारों से जूझ रहे अभिजीत मुखर्जी
  • सीकर जिले का हिस्ट्रीशीटर गिरफ्तार
  • श्रीलंका आतंकवादी हमले में मृतकों की संख्या 290 हुई
  • संयुक्त राष्ट्र ने श्रीलंका में हुये आतंकवादी हमले की निंदा की
  • कारवां-ए-अमन बस की सेवा आठवें सप्ताह स्थगित
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 23 अप्रैल)
  • भरोसा बढ़े तो रुस,जापान किसी भी समस्या को हल कर सकते है : मोर्गुलोव
  • कोलंबिया में भूस्खलन से 14 लोगों की मौत
बिजनेस


भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) के अध्यक्ष गुरुप्रसाद महापात्रा ने कहा कि प्राधिकरण अपने सभी हवाई अड्डों पर कार्गो के लिए जरूरी बुनियादी ढाँचा उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध है। नागरिक उड्डयन मंत्रालय के अधीन काम करने वाला एएआई देश भर में सवा सौ से ज्यादा हवाई अड्डों का संचालन करता है।
स्पाइसजेट के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक अजय सिंह ने बताया कि यात्री विमानों की ‘बेली’ का उपयोग करते हुये इस समय कंपनी की मालवाहन क्षमता 15 हजार टन मासिक है जो चार मालवाहक विमानों के शामिल होने के साथ इस साल के अंत तक बढ़कर 27 हजार टन हो जायेगी। यदि स्पाइस एक्सप्रेस का प्रयोग सफल रहा तो कंपनी अगले साल पाँच-छह और मालवाहक विमान लीज पर लेगी। इससे उसकी क्षमता 40 हजार से 50 हजार टन मासिक के बीच हो जायेगी। कंपनी की योजना अगले कुछ वर्षों में अपनी मालवाहन क्षमता बढ़ाकर करीब एक लाख टन करने की है।
उन्होंने कहा कि शुरुआत में कंपनी दवाओं, मानव अंगों, जीवित जानवरों तथा पक्षियों, इलेक्ट्रॉनिक सामानों और जल्द खराब होने वाले महँगे कृषि उत्पादों की ढुलाई का लक्ष्य लेकर चल रही है। कार्गो सेवा के लिए संभावित सेक्टरों में पहले दिल्ली, बेंगलुरु, गुवाहाटी और अमृतसर को लक्ष्य किया जा रहा है। जल्द ही हांगकांग और काबुल के लिए भी माल परिवहन सेवा शुरू की जायेगी।
अभी देश में सिर्फ पाँच मालवाहन विमान परिचालन में हैं जो निजी कुरियर कंपनी के पास हैं।
श्री सिंह ने कहा कि कंपनी के कुल राजस्व में यात्री परिवहन से इतर कारोबार की हिस्सेदारी अभी 17 प्रतिशत के करीब है जो इस साल के अंत तक बढ़कर 25 प्रतिशत पर पहुँचने की उम्मीद है।
अजीत/शेखर
वार्ता
image