Friday, Sep 21 2018 | Time 17:08 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मूक बधिर छात्रा से दुष्कर्म, आश्रम संचालक सहित छह आरोपी गिरफ्तार
  • गिर वन में आठ दिन में मरे 11 शेर, वन विभाग ने कहा- अधिकतर मौतें वर्चस्व की लड़ाई के चलते
  • सिंधू और श्रीकांत की हार के साथ भारतीय चुनौती समाप्त
  • पटना में युवक की दिनदहाड़े हत्या
  • मुहर्रम के मद्देनजर श्रीनगर के कुछ इलाकों में पाबंदी
  • सेंसेक्स 280 अंक टूटा;निफ्टी 91 अंक फिसला
  • 12 साल बाद शतरंज ओलंपियाड में उतरेंगे आनंद
  • लाला वर्ल्ड की ट्रांसफरटू के साथ भागीदारी
  • सार्वजनिक रूप से माफी मांगें कुमारस्वामी: भाजपा
  • नोएडा में पीएनबी पर बदमाशों का हमला, दो सुरक्षाकर्मियों की हत्या
  • पश्चिम बंगाल के इस्लामपुर में हिंसा, दो की मौत
  • द्रोणाचार्य अवार्डी कुश्ती कोच यशवीर का निधन
  • द्रोणाचार्य अवार्डी कुश्ती कोच यशवीर का निधन
बिजनेस Share

एनपीए मामले में आरबीआई सिर्फ एक ‘रेफरी’ : राजन

नयी दिल्ली 11 सितंबर (वार्ता) रिजर्व बैंक (आरबीआई) के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने एक प्रमुख संसदीय समिति से कहा है कि भारतीय बैंकिंग तंत्र में कुछ अप्रभावी तत्व हैं और इसलिए उसके पास बड़े प्रमोटरों से वसूली करने की बहुत कम शक्ति है।
श्री राजन ने भारतीय जनता पार्टी सांसद मुरली मनोहर जोशी की अध्यक्षता वाली लोकसभा की प्राकलन समिति को दिये लिखित बयान में कहा है कि रिजर्व बैंक एक नियामक के तौर पर सिर्फ ‘रेफरी’ है और इसलिए उसे बैंकों के व्यावसायिक निर्णयों या माइक्रो प्रबंधन करने वाले के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए।
सूत्रों के अनुसार, पूर्व आरबीआई गवर्नर ने अपने बयान में कहा है कि असक्षम ऋण वसूली तंत्र से प्रमोटरों को ऋणदाता से अधिक शक्तियाँ मिली हुयी हैं। श्री राजन ने बैंकिंग तंत्र के लिए गंभीर समस्या बनी गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों (एनपीए) के मामले में रिजर्व बैंक के गवर्नर के तौर पर अपने कार्यकाल का बचाव भी किया है। उन्होंने कहा कि जब उन्होंने कार्यभार सँभाला था तब बैंकरों के पास बड़े प्रमोटरों से वसूली करने की बहुत कम शक्तियाँ थी। मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद रिजर्व बैंक ने धोखाधड़ी वाले मामलों से जाँच एजेंसियों को यथाशीघ्र अवगत कराने के लिए धोखाधड़ी निगरानी प्रकोष्ट बनाया था।
श्री राजन ने लिखा है “मैंने भी हाई प्रोफाइल मामलों की एक सूची प्रधानमंत्री कार्यालय को भेजकर कम से कम एक या दो मामलों में कार्रवाई करने की अपील की थी। इन मामलों का त्वरित समाधान किया जाना चाहिए था।”
सूत्रों ने बताया कि श्री राजन ने बैंकिंग नियमों में सुधार के लिए कुछ बड़े उपाय भी सुझाये हैं। उन्होंने बैंकिंग तंत्र में बाहरी टैलेंट को लाने पर भी जोर दिया है।
पूर्व आरबीआई गवर्नर ने कहा है कि सरकारी बैंकों के आंतरिक प्रत्याशियों में दक्षता की कमी है। आंतरिक बाधा होगी लेकिन लाखों करोड़ रुपये की राष्ट्रीय संपदा कुछ लोगों के करियर की चिंताओं को लेकर बंधक नहीं रह सकती। उन्होंने यह भी कहा है कि सरकारी बैंकों के निदेशक मंडलों में पर्याप्त पेशेवर नहीं हैं।
शेखर अजीत
वार्ता
More News

बाजार भाव दो अंतिम जबलपुर

21 Sep 2018 | 4:43 PM

 Sharesee more..

जबलपुर बाजार भाव

21 Sep 2018 | 4:43 PM

 Sharesee more..

21 Sep 2018 | 4:42 PM

 Sharesee more..

लाला वर्ल्ड की ट्रांसफरटू के साथ भागीदारी

21 Sep 2018 | 4:29 PM

 Sharesee more..
सेंसेक्स ने लगाया 1128 अंकों का गोता;निफ्टी 368 अंक टूटा

सेंसेक्स ने लगाया 1128 अंकों का गोता;निफ्टी 368 अंक टूटा

21 Sep 2018 | 4:10 PM

मुम्बई 21 सितंबर (वार्ता) बैंकिंग और वित्त क्षेत्र में हुई भारी बिकवाली के दबाव में बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स शुक्रवार को अपराह्न में 1,127.58 अंक टूटकर 35,993.64 अंक पर आैर एनएसई का निफ्टी 367.90 अंक की गिरावट में 10,866.45 अंक पर आ गया।

 Sharesee more..
image