Monday, Feb 18 2019 | Time 04:32 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ‘नयी सुविधाओं’ से जवानों के काफिले को सुरक्षित बनाया जाएगा: भटनागर
  • फ्रांस में सरकार विरोधी प्रदर्शन के तीन महीने पूरे
  • लीबिया में खुफिया विभाग के पूर्व प्रमुख डोरडा हुआ रिहा
  • केरल में युवक कांग्रेस के दो कार्यकर्ताओं की हत्या
  • गृह मंत्रालय ने जम्मू-श्रीनगर क्षेत्र में सीआरपीएफ जवानों के लिए हवाई सुविधा मामले में स्पष्टीकरण दिया
बिजनेस Share

डीबीएटीयू डिजाइन थिंंकिंग शामिल करने वाला पहला प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय

नयी दिल्ली 11 सितंबर (वार्ता) डिजाइन थिंकिंग की नींव पर विकसित शिक्षा प्रणाली बनाने के उद्देश्य के साथ
महाराष्ट्र के डॉ. बाबासाहेब भीमराव आंबेडकर प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (डीबीएटीयू) ने उससे संबद्ध सभी 78 इंजीनियरिंग कॉलेजों में डिजाइन शिक्षा को अनिवार्य बनाने की घोषणा की है।
इसके साथ ही यह विश्वविद्यालय इंंजीनियरिंग पाठ्यक्रम में डिजाइन शिक्षा को अनिवार्य रूप से शामिल करने वाला देश्ा का पहला प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय बन गया है। इससे महाराष्ट्र के 78 इंजीनियरिंग कॉलेजों में मैकेनिकल इंजीनियरिंग की दूसरे वर्ष की पढ़ाई करने वाले करीब 7000 छात्र लाभान्वित होंगे। अन्य स्ट्रीम में यह पाठ्यक्रम वैकल्पिक होगा।
राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा अभियान के अंतर्गत 2017 में गठित उद्योग के प्रतिनिधियाें ऑटोडेस्क, नैसकॉम और सेक्टर स्किल्स काउिंंसिल के सदस्याें वाली एक विशेषज्ञ समिति ने इंजीनियरिंग शिक्षा में डिजाइन केंद्रित फाउंडेशन पाठ्यक्रमों को शामिल करने की सिफारिश की थी।
डीबीएटीयू द्वारा शुरू किए गए प्रोडक्ट डिजाइन इंजीनियरिंग कोर्स को नैसकॉम द्वारा प्रमाणित किया गया है और इसे 3डी डिजाइन टैक्नोलॉजी की अग्रणी कंपनी ऑटोडेस्क द्वारा विकसित किया गया है। इसमें अग्रणी विनिर्माण कंपनियों जैसे कि टाटा टैक्नोलॉजिज, लार्सन एंड टुब्रो, जेसीबी इंडिया और इमेजिनेरियम के साथ इसके लिए परामर्श किया गया है।
शेखर
वार्ता
image