Monday, Jun 17 2019 | Time 22:16 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • एआईएमआईएम के पार्षदों का औरंगाबाद महापौर के खिलाफ धरना
  • कपड़ा मजदूरों ने 27 जून को हड़ताल का ऐलान किया
  • जेपी नड्डा को भाजपा का कार्यकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाये जाने पर सुशील ने दी बधाई
  • जल सरंक्षण के लिए श्री दरबार साहिब में सयंत्र स्थापित
  • दिल्ली पुलिस की सिख युवक से मारपीट की लोंगोवाल ने की निंदा
  • मरीज की मौत को लेकर हुआ हंगामा
  • स्कूल वैन से गिरे तीन बच्चे घायल
  • 2027 तक भारत सर्वाधिक आबादी वाला देश होगा
  • कुशीनगर से दो तस्कर गिरफ्तार,40 लाख की शराब बरामद
  • ‘वर्ल्‍ड फूड इंडिया नई दिल्‍ली में नवंबर में
  • चमकी बुखार से बच्चों की हुई मौत पर राष्ट्रीय मानवाधिकार का बिहार सरकार को नोटिस
  • उम्रकैद की सजा काट रहे पूर्व विधायक एवं दो साथियों के लाइसेंस निरस्त
  • चंदौली में शराब फैक्ट्री का पर्दाफाश,पांच गिरफ्तार
  • बिहार में लू का कहर जारी : मृतकों की संख्या 100 के पार
  • एसटीएफ ने गोरखपुर से किया इनामी अपराधी को गिरफ्तार।
बिजनेस


पीएफसी का मुनाफा 22 फीसदी बढ़ा

नयी दिल्ली 12 सितंबर (वार्ता) ऊर्जा क्षेत्र को वित्त उपलब्ध करने वाली सरकारी गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी पावर फाइनेंस कॉर्पोरेशन (पीएफसी) ने चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में 1,373 करोड़ रुपये का मुनाफा कमाया है जो पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि के 1,122 करोड़ रुपये की तुलना में 22 फीसदी अधिक है।
कंपनी के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक राजीव शर्मा ने बुधवार को यहाँ संवाददाताआें को बताया कि 30 जून को समाप्त पहली तिमाही में कंपनी के ऋण उठाव में 13 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गयी है। वर्ष 2017-18 की पहली तिमाही में 2,52,746 करोड़ रुपये की ऋण संपदा थी जो चालू वित्त वर्ष की समान अवधि में बढ़कर 2,84,848 करोड़ रुपये पर पहुँच गयी है।
उन्होंने कहा कि जोखिम में फँसी संपदा में इस तिमाही में बढ़ोतरी नहीं हुयी है। हालाँकि 561 करोड़ रुपये का एक ऋण गैर-निष्पादित परिसंपत्ति (एनपीए) की श्रेणी में अा गया है, लेकिन इसी दौरान एक सरकारी बिजली परियोजना के 1,100 करोड़ रुपये के ऋण का उन्नयन कर पुनर्गठन की श्रेणी में डाल दिया गया है। उन्होंने बताया कि पहली तिमाही में 17,238 करोड़ रुपये के प्रावधान किये गये हैं जिनमें से 15,445 करोड़ रुपये के प्रावधान अनुमानित ऋण नुकसान के लिए किया गया है।
श्री शर्मा ने कहा कि पीएफसी की कुल ऋण संपदा 2.85 लाख करोड़ रुपये का है जिनमें से 2.33 करोड़ रुपये के ऋण सरकारी परियोजनाओं में हैं। निजी क्षेत्र में 52 हजार करोड़ रुपये के ऋण हैं जो कुल ऋण संपदा का 18 फीसदी है। इसमें से 21 हजार करोड़ रुपये के ऋण खाते का संचालन जारी है और ऋण का नियमति भुगतान मिल रहा है।
उन्होंने बताया कि 28 परियोजनायें जोखिम में हैं जिनमें से पाँच परियोजनाओं में 5,300 करोड़ रुपये के ऋण हैं। इन खातों के वैधानिक निपटान की प्रक्रिया जारी है और इनमें कुछ कम वसूली होने का अनुमान है। कुल 8,254 करोड़ रुपये की पाँच परियोजनाओं का मामला निपटान के अंतिम चरण में है जबकि 8,156 करोड़ रुपये की दो परियोजनाओं में कर्जदारों ने समाधान की दिशा में काम शुरू किये हैं।
शेखर अजीत
वार्ता
image