Wednesday, Nov 21 2018 | Time 19:18 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • अतिपिछड़ों को कोई चुनौती नहीं दे सकता : नीतीश
  • भाजपा ही एससी-एसटी की सच्ची हितैषी : विनोद सोनकर
  • फोटो कैप्शन-पहला सेट
  • गाजियाबाद में जैन मुनि के खिलाफ मामला दर्ज
  • छठा वेतन आयोग कर्मियों के लिये मंहगाई भत्ता बढ़ा
  • हरियाणा भाजपा में लोकसभा प्रभारियों और संयोजकों की नियुक्तियां
  • राजस्थान को मिली 75 रन की बढ़त
  • अपनी विफलताओं से ध्यान बंटाने के लिए कांग्रेस सरकार कर रही उग्रपंथियों का इस्तेमाल : बादल
  • दिल्ली हवाई अड्डे ने छुआ एक लाख टन माल ढुलाई का आँकड़ा
  • झांसी विवाद: जांच टीम ने विवादित स्थल का किया दौरा
  • भाजपा की विनाशकारी नीतियों के विरुद्ध बने बड़ा गठबंधन : दीपंकर
  • सिख नौजवानों को गिरफ्तार कर पंजाब में भय का माहौल पैदा किया जा रहा है:खालसा
  • कांग्रेस को डूबोने के लिए उसके नेता ही काफी : आदित्यनाथ
  • अपनी विफलताओं से ध्यान बंटाने के लिए अमरिंदर कर रहे उग्रपंथियों का इस्तेमाल : बादल
  • वर्ल्ड टॉयलेट 2018 सम्मेलन मुंबई में संपन्न
बिजनेस Share

श्री पटनायक ने इस मौके पर “इनवेस्ट ओडिशा” वेबसाइट भी लॉन्च किया।
ओडिशा के मुख्य सचिव आदित्य प्रसाद पाढ़ी ने कहा कि राज्य एक पसंदीदा निवेश स्थल के रूप में उभरा है। सरकार ने औद्योगिक विकास योजना, 2025 के लक्ष्य हासिल करने के लिए नीतिगत तथा ढाँचागत सुधार लागू किये हैं। परियोजनाओं की मंजूरी का समय घटकर 21 दिन रह गया है। कारोबार के लिए दी जाने वाली सरकारी सेवाओं के लिए समय सीमा तय कर दी गयी है। सरकार ने ‘स्किल्ड इन ओडिशा’ कार्यक्रम के तहत भुवनेश्वर में ‘विश्व कौशल केंद्र’ की स्थापना की है।
राज्य के प्रधान सचिव (उद्योग) संजीव चोपड़ा ने कहा कि धातुओं के उत्पादन में राज्य अग्रणी है, लेकिन अब सरकार का फोकस ओडिशा को धातुओं के अंतिम उत्पाद के विनिर्माण केंद्र के रूप में स्थापित करने का है तथा इसके लिए जल्द ही एक नीति बनायी जायेगी।
उन्होंने बताया कि वर्ष 2016 में आयोजित पहले ‘मेक इन ओडिशा कान्क्लेव’ में कंपनियों ने दो लाख करोड़ रुपये के निवेश का वायदा किया था जिसमें 65 प्रतिशत परियोजनाओं पर काम शुरू हो गया है तथा वे विभिन्न चरणों में हैं। राज्य में श्रम, बिजली, भूमि और जीवनयापन सस्ता होने के कारण यह देश के अन्य राज्यों ही नहीं, दक्षिण-पूर्व एशिया के कई देशों की तुलना में भी निवेश के लिए किफायती स्थल है।
श्री चोपड़ा ने कहा कि ओडिशा ने उद्योग के लिए 1,20,000 एकड़ भूमि बैंक तैयार किया है। कोई भी कंपनी अपने संयंत्र लगाने के लिए पसंदीदा भूमि का ऑनलाइन चयन कर सकती है।
सम्मेलन में ओडिशा के उद्योग एवं उच्च शिक्षा मंत्री अनंत दास, जिंदल स्टील एंड पावर लिमिटेड के अध्यक्ष नवीन जिंदल, ओयो रूम्स के संस्थापक एवं अध्यक्ष रितेश अग्रवाल, शाही एक्सपोर्ट्स के प्रबंध निदेशक हरीश आहुजा और एसएमएस ग्रुप इंडिया के मुख्य कार्यकारी अधिकारी तथा प्रबंध निदेशक मार्क होफमैन ने भी संबोधित किया।
अजीत/शेखर
वार्ता
More News

सराफा भाव बंद

21 Nov 2018 | 5:57 PM

 Sharesee more..

रात की धारणा

21 Nov 2018 | 5:56 PM

 Sharesee more..

कपास्या तेल में ग्राहकी सामान्य

21 Nov 2018 | 5:54 PM

 Sharesee more..

इंदौर बाजार तीन अंतिम इंदौर

21 Nov 2018 | 5:53 PM

 Sharesee more..

इंदौर बाजार दो इंदौर

21 Nov 2018 | 5:52 PM

 Sharesee more..
image