Wednesday, May 22 2019 | Time 20:57 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ट्रम्प के खिलाफ महाभियोग लाए जाने की डेमोक्रेटिक सांसदों की मांग
  • अमित और थापा सेमीफाइनल में, पदक पक्के
  • देश और लोकतंत्र की छवि को धूमिल कर रहा है विपक्ष: शाह
  • बिहार में मतगणना के बाद हिंसा की आशंका लेकर पुलिस एलर्ट
  • त्रिस्तरीय घेरे में होगी झांसी में मतगणना,सभी व्यवस्थाएं पूरी
  • जोशना ने कायम रखीं उम्मीदें, सौरभ और रमित हारे
  • औरैया में बलात्कार मामले में एक अभियुक्त को उम्र कैद
  • मुजफ्फरनगर मुठभेड़ में एक बदमाश ढेर,कांस्टेबल भी घायल
  • विधायक की हत्या की एनआईए जांच पर कांग्रेस ने उठाए सवाल
  • पेरिस स्थित वायु सेना की राफेल टीम के कार्यालय में घुसपैठ की कोशिश
  • हथियार लहराने के बाद पूर्व विधायक के घर पर छापा
  • हाईकोर्ट ने निकायों चुनाव न कराने के मामले में सरकार से मांगा जवाब
  • सुप्रीम कोर्ट में चार जजों की नियुक्ति को राष्ट्रपति की मंजूरी
  • केंद्रीय मंत्री के गोद लिए गांव में दसवीं के 28 में से दो बच्चे हुए पास
बिजनेस


इंटरनेट पर अंग्रेजी-हिंदी के बीच की डिजिटल खाई हुयी समाप्त

नयी दिल्ली 14 सितंबर (वार्ता) देश की पहली लिंग्विस्टिक ईमेल सेवा ‘डेटामेल’ ने इंटरनेट की दुनिया में अंग्रेजी के वर्चस्व को तोड़ते हुये हिन्दी दिवस के अवसर पर इंटरनेट पर भाषा की आजादी का संकल्प लिया है।
भाषायी ई मेल सेवा डेटामेल को संचालित करने वाली कंपनी डेटा एक्सजेन प्लस टेक्नोलॉजी के संस्थापक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी अजय डेटा ने शुक्रवार को यहां जारी बयान में कहा कि भारत को एक ऐसे पारिस्थितिकी तंत्र, जिसमें सॉफ्टवेयर, हार्डवेयर और अन्य सामग्री शामिल हैं, के विकास का जश्न मनाना चाहिए जिसने मिलकर इंटरनेट को सही मायने में समावेशी बना दिया है।
उन्होंने कहा कि हिन्दी के साथ ही अन्य क्षेत्रीय भाषाओं में बुनियादी इंटरनेट अवसंरचना के साथ डोमेन नेम ने देश में डिजिटल खाई को पाटने में उत्प्रेरक का काम किया है। उन्होंने कहा कि देश में करीब 55 करोड़ लोग अपनी भाषा के रूप में हिंदी का उपयोग कर रहे हैं। इस वजह से डेटामेल द्वारा संचालित भाषाई ईमेल सेवा उन लाखों लोगों को इंटरनेट शक्ति प्रदान करती है जो अंग्रेजी से खासे परिचित नहीं हैं।
उन्होंने कहा कि व्यक्तियों के बीच संचार और जुड़ाव में भाषा बुनियाद होती है। आगे बढ़कर यह उन नवाचारों की ओर लेकर जाएगी जिसकी कल्पना अभी नहीं की जा सकती।
शेखर अर्चना
वार्ता
image