Wednesday, Nov 13 2019 | Time 18:12 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • जनकपुरी पश्चिम- आर के आश्रम मार्ग लाइन का काम इसी महीने से
  • अंतरराष्ट्रीय फ़िल्म समारोह के लिए थीम सांग तैयार
  • क्रोएशियाई फुटबालर मोडरिच को ‘गोल्डन फुट’ अवार्ड
  • तेलंगाना परिवहन निगम कर्मियों की हड़ताल का 40वां दिन
  • राममंदिर उनके तराशे गये पत्थर और बनाये गये मॉडल के अनुसार ही बने: विहिप
  • अक्टूबर में खुदरा मु्द्रास्फीति की दर 4 62 प्रतिशत पर
  • नड्डा ने की भाजपा महासचिवों के साथ बैठक
  • अक्टूबर में खुदरा मु्द्रास्फीति की दर 4 62 प्रतिशत पर
  • पलामू में अंतिम दिन 65 उम्मीदवरों ने दाखिल किए नामांकन
  • सिरसा में सीटू की राज्य स्तरीय रैली 24 को
  • देश में अब वंशवाद और परिवारवाद की राजनीति नहीं चलेगी : रघुवर
  • मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स में बनना चाहती हूं विश्व चैंपियन: ऋतू फोगाट
  • अक्टूबर 2019 में खुदरा मुद्रास्फीति की दर 4 62 प्रतिशत पर
  • आजाद ने डोडा में सड़क हादसाें पर जतायी चिंता
  • दिल्ली के आसपास होगा प्याज का भंडारण
बिजनेस


इंटरनेट पर अंग्रेजी-हिंदी के बीच की डिजिटल खाई हुयी समाप्त

नयी दिल्ली 14 सितंबर (वार्ता) देश की पहली लिंग्विस्टिक ईमेल सेवा ‘डेटामेल’ ने इंटरनेट की दुनिया में अंग्रेजी के वर्चस्व को तोड़ते हुये हिन्दी दिवस के अवसर पर इंटरनेट पर भाषा की आजादी का संकल्प लिया है।
भाषायी ई मेल सेवा डेटामेल को संचालित करने वाली कंपनी डेटा एक्सजेन प्लस टेक्नोलॉजी के संस्थापक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी अजय डेटा ने शुक्रवार को यहां जारी बयान में कहा कि भारत को एक ऐसे पारिस्थितिकी तंत्र, जिसमें सॉफ्टवेयर, हार्डवेयर और अन्य सामग्री शामिल हैं, के विकास का जश्न मनाना चाहिए जिसने मिलकर इंटरनेट को सही मायने में समावेशी बना दिया है।
उन्होंने कहा कि हिन्दी के साथ ही अन्य क्षेत्रीय भाषाओं में बुनियादी इंटरनेट अवसंरचना के साथ डोमेन नेम ने देश में डिजिटल खाई को पाटने में उत्प्रेरक का काम किया है। उन्होंने कहा कि देश में करीब 55 करोड़ लोग अपनी भाषा के रूप में हिंदी का उपयोग कर रहे हैं। इस वजह से डेटामेल द्वारा संचालित भाषाई ईमेल सेवा उन लाखों लोगों को इंटरनेट शक्ति प्रदान करती है जो अंग्रेजी से खासे परिचित नहीं हैं।
उन्होंने कहा कि व्यक्तियों के बीच संचार और जुड़ाव में भाषा बुनियाद होती है। आगे बढ़कर यह उन नवाचारों की ओर लेकर जाएगी जिसकी कल्पना अभी नहीं की जा सकती।
शेखर अर्चना
वार्ता
image