Thursday, Jan 23 2020 | Time 10:05 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • बिहार में आज से खुल गई दवा की सभी दुकानें, मरीजों को राहत
  • कोरोनावायरस : डब्ल्यूएचओ में आज भी होगी चर्चा
  • मेक्सिको में प्रवासियों की तस्करी के मामले में पांच को सजा
  • 22 कार्टन विदेशी शराब के साथ धंधेबाज गिरफ्तार
  • कैलिफोर्निया के कोरोना हवाई अड्डे पर विमान दुर्घटना में चार की मौत
  • चीन में कोरोना वायरस के 571 मामले पुष्टि
  • हुबेई प्रांत की सरकार ने स्थानीय लोगों के शहर छोड़ने पर रोक लगायी
  • हिमाचल के चंबा जिले में भूकंप के झटके
  • पेरु बस दुर्घटना में छह की मौत, 20घायल
  • पाकिस्तान पश्चिम एशिया में शांति के पक्ष में :खान
बिजनेस


पर्प्यूल ने मार्की कस्टमर्स के साथ मिलकर लाँच किया ‘अल्ट्रापॉस’

नयी दिल्ली 14 फरवरी (वार्ता) आधुनिक रिटेलरों और दुकानदारों को एक हैंडेल्ड मशीन से भंडारण निगरानी, भुगतान प्राप्त करने तथा बिलिंग आदि की सुविधा उपलब्ध कराने के उद्देश्य से रिटेल टेक्नोलाॅजी कंपनी पर्प्यूल ने अगली पीढ़ी की प्वाईंट ऑफ सेल (पीओएस) बिलिंग मशीन अल्ट्रापॉस को लाँच करने की घोषणा की है।
कंपनी के सह संस्थापक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी अभिनव पाठक ने गुरुवार को यहां यह घोषणा करते हुये कहा कि पर्प्यूल का अल्ट्रापॉस एक प्लेटफॉर्म इंडिपेंडेंट पीओएस बिलिंग सिस्टम है जिससे कहीं भी बिलिंग करना संभव है। यह क्लाउड-बेस्ड एसएएएस उत्पाद है, जो स्टोर में सर्वर और कंप्यूटर की जरूरत समाप्त करता है। अल्ट्रापॉस के द्वारा ऑफलाइन स्टोर, बिलिंग के काउंटर के आकार में 40 प्रतिशत तक की कमी करने और डाइनामिक ऑफरों, क्रॉस सेल तथा अपसेल के लिए एआई/ डाटा संचालित विक्रय को सक्षम बनाता है।
उन्होंने कहा कि पर्प्यूल अल्ट्रापॉस ने पारंपरिक बिलिंग सिस्टम को पुराना बना दिया है। इसमें एनालिटिक्स, इन्वेंटरी और स्टाफ मैनेजमेंट टूल्स इनबिल्ट है। रिटेलर विविध प्लेटफॉर्म पर उत्पाद के मूल्य, स्टॉक, ऑफर आदि अपडेट कर सकते हैं। यह क्लाउड- बेस्ड समाधान ऑनलाइन एवं ऑफलाइन माध्यमों में सुगमता से ऑपरेट करता है। इसमें बारकोड स्कैनर और प्रिंटर भी है। ग्राहक की मांग पर रसीद निकाल कर दी जा सकती है। ग्राहक के मोबाइल पर रसीद का एसएमएस भी जाता है।
श्री पाठक ने कहा कि इसके लिए उनकी कंपनी ने निजी क्षेत्र के एचडीएफसी बैंक से करार किया है। रिटेलरों को इस मशीन के लिए मासिक शुल्क का भुगतान करना पड़ता है।
शेखर अर्चना
वार्ता
image